SBI से ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने से पहले जान लें ये जरूरी बातें...

SBI से ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने से पहले जान लें ये जरूरी बातें...
देश के अन्य बैंकों की तरह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) भी अपने ग्राहकों को इंटरनेट बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध कराता है. इसलिए आज हम आपको कई अहम जानकारियां दे रहे हैं, जिन्हें जानने के बाद आप घर बैठे इन बैंकिंग सेवाओं का फायदा उठा पाएंगे.

देश के अन्य बैंकों की तरह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) भी अपने ग्राहकों को इंटरनेट बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध कराता है. इसलिए आज हम आपको कई अहम जानकारियां दे रहे हैं, जिन्हें जानने के बाद आप घर बैठे इन बैंकिंग सेवाओं का फायदा उठा पाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2018, 7:06 AM IST
  • Share this:
देश के अन्य बैंकों की तरह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) भी अपने ग्राहकों को इंटरनेट बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध कराता है. इसके जरिये आप घर बैठे वो सभी काम कर सकते हैं, जिसके लिए आपको बैंक जाना पड़ता है. आपको बता दें कि पिछले कुछ महीनों में कई लोगों ने एसबीआई से इंटरनेट बैंकिंग को लेकर कई सवाल पूछे हैं, इसीलिए आज हम आपको इंटरनेट बैंकिंग से जुड़ी काम की बातें बता रहे हैं.

RTGS- यह एक इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट सिस्टम है, जिसमें बैंकों के बीच भुगतान दिन भर में, एक वास्तविक समय के आधार पर, व्यक्तिगत रूप से और लगातार होते हैं. यह सुविधा दो लाख रुपये के लेन-देन मूल्य या इसके ऊपर की राशि के लिए उपलब्ध है. (ये भी पढ़ें-SBI के इन 8 बैंक अकाउंट पर लागू नहीं होता है मिनिमम बैलेंस नियम)

SBI का ATM इस्तेमाल करते हैं तो फॉलो करें ये 12 टिप्स, सुरक्षित रहेगा पैसा

NEFT- यह एक अन्य इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट सिस्टम है, जिसमें बैंकों के बीच भुगतान निर्देश दिन भर में निर्धारित समय पर डिफरड नेट सेटलेमेंट (डीएनएस) के आधार पर निपटाया जाता है. इस सुविधा का उपयोग करने के लिए लेन–देन व्यवहार की कोई न्यूनतम या अधिकतम सीमा निर्धारित नहीं है.



नोट: आरटीजीएस और एनईएफटी सिस्टम रविवार और आम राष्ट्रीय छुट्टियों को छोड़कर सभी दिन काम करते हैं. (ये भी पढ़ें-SBI के ATM से रोजाना निकाल सकते हैं इतना कैश, मुफ्त हैं ये सर्विस)

बैंक की वेबसाइट 'वेरी साइन' द्वारा प्रमाणित है जो इस बात का प्रमाण है कि यह साइट ऑनलाइन लेन-देन करने के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है. (ये भी पढ़ें-ATM को लेकर नाराज RBI ने बैंकों को दिया नया आदेश, अगस्त के बाद होगी कार्रवाई)

पूछे गएं ये सवाल:-
सवाल: RTGS के जरिये जिस अकाउंट में पैसा भेजा जाता है, वहां कब पहुंचता है?

जवाब: सामान्य परिस्थितियों में बैंक द्वारा पैसा ट्रांसफर करते ही रियल टाइम में (तत्काल) खाताधारक की बैंक शाखा में पहुंचा जाता है.

सवाल: NEFT के जरिये जिस अकाउंट में पैसा भेजा जाता है, वहां कब पहुंचता है?
जवाब: आरबीआई को हर घंटे के अंतराल पर अगले उपलब्ध बैच में पैसा ट्रांसफर करती हैं. जिसके अकाउंट में पैसा पहुंचेगा, वह क्रेडिट मिलने में लगने वाला समय इस बात पर निर्भर करेगा कि हिताधिकारी बैंक भुगतान प्रक्रिया के लिए कितना समय लेता है.

सवाल: अगर RTGS के जरिये भेजा पैसा भेजे जाने वालों को नहीं मिलता तो वापस कब तक मिलेगा?
जवाब:
 जी हां, किसी वजह से भेजे जाने वाले के खाते में रकम ट्रांसफर नहीं होती तो बैंक को डेढ़ घंटे में धन वापस करना होगा. पैसे भेजने वाले बैंक को पैसे वापस मिलने पर, वह उसे उस अकाउंट में ही भेजता है जिस अकाउंट से पैसा ट्रांसफर हुआ था.

सवाल: अगर NEFT के जरिये भेजा पैसा भेजे जाने वालों को नहीं मिलता तो वापस कब तक मिलेगा?

जवाब: जी हां, किसी वजह से भेजे जाने वाले के खाते में रकम ट्रांसफर नहीं होती तो बैंक को अगले दो बैचों अर्थात् (बी+2) में धन भेजने वाले बैंक को धन वापस करना होगा. धन भेजने वाले बैंक को धन वापस मिलने पर वह उसे उस अकाउंट में ही भेजता है जिस अकाउंट से पैसा ट्रांसफर हुआ था.

ये हैं टॉप न्यू बिजनेस आइडियाज, शुरू कर के भर लें अपनी जेब



सवाल: दिन/सप्ताह के दौरान किस समय आरटीजीएस तथा एनइएफटी सेवा उपलब्ध है?
आरटीजीएस लेन-देन निम्नलिखित समयानुसार आरबीआई को भेजा जाएगा.

सोमवार से शुक्रवार: सुबह 8:00 बजे से 16:30 बजे तक
शनिवार: सुबह 8:00 बजे से 2:00 बजे तक

NEFT
कार्यदिवस पर 9.00 बजे से 19.00 बजे तक प्रत्येक घंटे के अंतराल पर निपटान
शनिवार को 9.00 बजे से 1.00 बजे तक प्रत्येक घंटे के अंतराल पर निपटान

सवाल: क्या भारत में सभी बैंक शाखाएं आरटीजीएस/एनइएफटी सेवा उपलब्ध कराती है?
जवाब: नहीं, आरटीजीएस सुविधा भारत की कुछ विशेष शाखाओं में उपलब्ध है. आप इन शाखाओं की सूची आरबीआई की वेबसाइट www.rbi.org.in/Scripts/Bs_viewRTGS.aspx

सवाल: RTGS और NEFT भुगतान के लिए क्या अनिवार्य जानकारी चाहिए?
जवाब: पैसे भेजने वाले को इन सभी चीजों की जानकारी होनी चाहिए
>> ट्रांसफर की जाने वाली राशि
>> खाता नंबर जिसमें पैसे जमा करना है
>> बेनेफिशरी बैंक का नाम
>> बेनेफिशरी ग्राहक का नाम
>> प्राप्तकर्ता शाखा का आईएफएससी कोड
>> पैसे भेजने वाले का मोबाइल नंबर
>> केवल खाता नंबर के आधार पर ही खाते में राशि जमा की जाएगी. इसलिए इलेक्ट्रानिक माध्यम से मनी ट्रांसफर करते समय धन-भेजने वाले को खाता संख्या ध्यानपूर्वक देना चाहिए.

ये भी पढ़ें: 

ट्रेन के सफ़र में हो दिक्कत तो ऐसे करें शिकायत, ये है तरीका

SBI की इस सुविधा ने बनाया लाखों लोगों को दीवाना, घर बैठे कर सकेंगे ये मुश्किल काम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज