Home /News /business /

देश की 785 मंडियों में घर बैठे अपना सामान बेच सकते हैं किसान, 1 लाख करोड़ रुपये का हो चुका कारोबार

देश की 785 मंडियों में घर बैठे अपना सामान बेच सकते हैं किसान, 1 लाख करोड़ रुपये का हो चुका कारोबार

जानिए, ई-नाम योजना से किसानों को क्या फायदा होगा

जानिए, ई-नाम योजना से किसानों को क्या फायदा होगा

e-NAM से 7 राज्यों की 200 मंडियां और जोड़ी गईं, अब किसानों को फसल की पैदावार बेचना होगा और आसान, इस प्लेटफार्म पर अब तक हो चुका है 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक का कारोबार, अब 785 मंडियों में कारोबार कर सकते हैं किसान और व्यापारी

    नई दिल्ली. मोदी सरकार ने राष्ट्रीय कृषि बाजार (e-Nam) में 7 राज्यों की 200 और मंडियों को जोड़ दिया है. इसके साथ ही इस प्लेटफार्म से देश भर की 785 मंडियां जुड़ गईं हैं, जिसमें किसी भी हिस्से का कोई किसान अपनी उपज बेच सकता है. केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने बताया कि कृषि उपज के व्यापार के लिए लगभग एक हजार मंडियां मई 2020 तक ‘ई-नाम’ प्लेटफॉर्म से जुड़ जाएंगी. मंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कुरनूल और हुबली की मंडियों के बीच मूंगफली एवं मक्का की लाइव ट्रेडिंग भी देखी. इससे पहले ई-नाम प्लेटफार्म पर 16 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों में 585 मंडियां ही काम कर रही थीं. इस पर 1 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का कारोबार हो चुका है.

    कहां की कितनी नई मंडियां जुड़ीं

    ई-नाम प्लेटफॉर्म से नई जुड़ने वाली 200 मंडियों में राजस्थान की 94, तमिलनाडु की 27, गुजरात व उत्तर प्रदेश की 25-25, ओडिशा की 16, आंध्र प्रदेश की 11 एवं कर्नाटक की 2 मंडियां शामिल हैं. कर्नाटक को पहली बार ई-नाम राज्यों की सूची में जोड़ा गया है. इस मौके पर केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी व सचिव संजय अग्रवाल भी मौजूद रहे.

    कब हुई ई-नाम की शुरुआत

    -किसानों के लिए उनकी उपज के व्यापार को आसान बनाने की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM narendra modi) ने 14 अप्रैल 2016 को सिर्फ 21 मंडियों के साथ की थी. बीते 4 साल में ही इससे 785 मंडियों को जोड़ दिया गया है.

    ministry of Agriculture news, One Nation One Market, Farmers Welfare, Narendra Singh Tomar, Mandi news, e-NAM platform Benefits, marketing of Agricultural produce, new mandis, Prime minister narendra modi, कृषि मंत्रालय के समाचार, वन नेशन वन मार्केट, किसान कल्याण, नरेंद्र सिंह तोमर, मंडी समाचार, ई-नाम प्लेटफार्म के लाभ, कृषि उपज का व्यापार, नई मंडियां, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
    ई-नाम प्लेटफार्म से 200 और मंडियांं जोड़ दी गईं


    कृषि मंत्री तोमर ने क्या कहा

    -नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि ई-नाम प्लेटफार्म कृषि व्यापार में एक अनूठी पहल है, जो किसानों की पहुंच को कई बाजारों-खरीदारों तक डिजिटल रूप से पहुंचाता है. लेन-देन में पारदर्शिता लाता है. गुणवत्ता के अनुसार कीमत दिलाता है. इस प्लेटफार्म पर 1.66 करोड़ से ज्यादा किसान एवं 1.28 लाख से अधिक व्यापारी रजिस्टर्ड हैं. लॉकडाउन के दौरान भी करोड़ों रुपये का व्यापार ई-नाम के माध्यम से हुआ है.

    शुरू में 25 कृषि जिंसों (Agricultural commodities) के लिए मानक मापदंड विकसित किए गए थे, जो अब बढ़कर 150 हो गए हैं. ई-नाम मंडियों में कृषि उत्पादों की गुणवत्ता के परीक्षण की सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं, जो किसानों को उपज की गुणवत्ता के अनुरूप कीमतें दिलाने में मदद करती हैं. किसान मोबाइल पर भी गुणवत्ता जांच रिपोर्ट देख सकते हैं, मोबाइल से किसान अपने लॉट की ऑनलाइन बोलियों की प्रगति देख सकते हैं.

    ये भी पढ़ें:  एक पर्ची ने बढ़ाई किसानों की परेशानी, खेतों में खड़ा है गन्ना और बंद होने लगीं चीनी मिलें

    Opinion: पहले मौसम अब कोरोना के दुष्चक्र में पिसे किसान, कैसे डबल होगी 'अन्नदाता' की आमदनी

    Tags: Farmer, Kisan, Mandi news, Ministry of Agriculture

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर