अपना शहर चुनें

States

दिल्ली के सिंधु-टिकरी और गाज़ीपुर बॉर्डर बंद होने से आसमान छूएंगे इन चीजों के दाम

चढ़ना शुरु हो गए सब्जियों के दाम, अभी और महंगी होगी
चढ़ना शुरु हो गए सब्जियों के दाम, अभी और महंगी होगी

आलू उत्पादक किसान (Farmer) समिति के महामंत्री आमिर ने बताया, पंजाब से दिल्ली (Delhi) रोज़ाना 250 ट्रक आलू के आते हैं. लेकिन अब इनकी संख्या घटकर 50 रह गई है. एक वजह तो यह कि पंजाब को दिल्ली से जोड़ने वाला सिंधु-टिकरी बॉर्डर पूरी तरह से बंद हो चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 1, 2020, 10:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पंजाब (Punjab), यूपी, हरियाणा (Haryana) और राजस्थान समेत तमाम जगहों के किसान दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर और दूसरी जगहों पर प्रदर्शन कर रहे हैं. दिल्ली में दाखिल होने वाले दो रास्ते सिंधु-टिकरी (Indus-Tikri) बॉर्डर पूरी तरह से सील हो चुके हैं. पैदल जाने वाले भी बामुश्किल आ-जा पा रहे हैं. वहीं गाज़ीपुर बॉर्डर (Ghazipur Border) पर भी किसान डटे हुए हैं. यह वो बॉर्डर हैं जहां से दिल्ली (Delhi) के लिए रोज़ाना दूध (Milk) के टैंकर और सब्जियों (Vegetables) के ट्रक आते हैं. लेकिन दिन-बा-दिन बॉर्डर बंद होने और रास्ते में किसी अनहोनी के चलते ट्रक और टैंकरों की संख्या कम होती जा रही है.

कम हो गए पंजाब से आने वाले आलू के 200 ट्रक-आलू उत्पादक किसान समिति के महामंत्री आमिर ने बताया, पंजाब से दिल्ली रोज़ाना 250 ट्रक आलू के आते हैं. लेकिन अब इनकी संख्या घटकर 50 रह गई है. एक वजह तो यह कि पंजाब को दिल्ली से जोड़ने वाला सिंधु-टिकरी बॉर्डर पूरी तरह से बंद हो चुका है. यहां पर बड़ी संख्या में पंजाब के किसान बैठे हुए हैं. छोटी-मोटी संख्या दूसरे राज्यों के किसानों की भी है. यहां तकरीबन 14 से 15 हज़ार किसान मौजूद हैं. थोड़ा सा आलू यूपी से जा रहा है. क्योंकि नोएडा, बदरपुर बॉर्डर खुले हैं और गाज़ीपुर बॉर्डर पर अभी आने-जाने की कुछ छूट मिल रही है.

अब आपको अपनी कार-बाइक की करनी होगी वसीयत! जानिए नए नियमों के बारे में सबकुछ



दिल्ली को यूपी-हरियाणा से मिल रही दूध में राहत-डेयरी संचालक निर्वेश शर्मा बताते हैं कि दिल्ली की दूध की एक बड़ी डिमांड यूपी-हरियाणा पूरी करता है. इसके बाद थोड़ा-थोड़ा हिस्सा पंजाब देता है. इस वक्त पंजाब से तो दूसरे रास्तों से होते हुए ना के बराबर दूध दिल्ली आ रहा है. ऐसे में हरियाणा-यूपी काफी हद तक दिल्ली की दूध की डिमांड को पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं. यूपी में भी पश्चिमी यूपी से लगने वाले गाज़ीपुर बॉर्डर पर किसान बैठे हुए हैं. लेकिन ऊपर से जाने का रास्ता खुला हुआ है.
दूसरा नोएडा वाले रास्ते पर अभी कोई परेशानी नहीं है. गुरुग्राम बॉर्डर पर किसान आते हैं चले जाते हैं. लेकिन सब्जी-दूध की बड़ी गाड़ी यहां से निकलने का जोखिम नहीं ले रही है. बदरपुर बॉर्डर भी खुला है. लेकिन इतना सब होने के बाद भी पंजाब के न होने पर दिल्ली की डिमांड को पूरी करना मुमकिन नहीं है.

चढ़ना शुरु हो गए सब्जियों के दाम, अभी और महंगी होगी-किसान नेता और सब्जी उत्पादक मनोज शर्मा का कहना है कि सब्जियों की रोज खुदाई होती है और हर रोज मंडियों में पहुंचाई जाती है. लेकिन किसान आंदोलन को देखते हुए अब ट्रांसपोर्ट वाले अपनी गाड़ियां भेजने से हिचकने लगे हैं. आगरा, मथुरा, शिकोहबाद आदि इलाकों की गाड़ियां नोएडा बॉर्डर से जाती हैं और कुछ बदरपुर बॉर्डर से जाती हैं. अभी यहां किसानों का कोई जमावड़ा नहीं है, लेकिन गाड़ी वालों में एक डर है. जिसके चलते सब्जियों के दाम बढ़ने शुरु हो गए हैं. अगर गाड़ियों की ऐसे ही दिक्कत रही तो यह दाम और बढ़ेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज