टोल प्‍लाजा पर नकद भुगतान बंद, अब FASTag हुआ अनिवार्य, गाड़ी पर नहीं लगा हुआ तो भरना होगा दोगुना जुर्माना

15 फरवरी की रात 12 बजे से टोल प्लाजा पर फास्‍टैग अनिवार्य हो गया है.

15 फरवरी की रात 12 बजे से टोल प्लाजा पर फास्‍टैग अनिवार्य हो गया है.

देशभर के टोल प्‍लाजा (Toll Plaza) पर 15 और 16 फरवरी की रात 12 बजे से फास्टैग (FASTag) अनिवार्य हो गया है. अब अगर आपके वाहन पर फास्टैग नहीं होगा तो आपको टोल प्लाजा से गुजरने के लिए दोगुना टैक्स या जुर्माना (Double Penalty) देना होगा. यह नई व्‍यवस्‍था टू-व्‍हीलर्स पर लागू नहीं होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 16, 2021, 5:39 AM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. केंद्र सरकार कई बार वाहनों पर फास्‍टैग (FASTag) लगाने की समयसीमा को बढ़ा चुकी है. हाल में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने साफ कर दिया कि अब इसकी समयसीमा और नहीं बढ़ाई जाएगी. इसके बाद 15 और 16 फरवरी की आधीरात यानी 12 बजे से देशभर के टोल प्‍लाजा (Toll Plaza) पर फास्टैग अनिवार्य कर दिया गया. सीधे शब्‍दों में कहें तो अब अगर आपकी गाड़ी पर फास्टैग नहीं लगा होगा तो टोल प्लाजा पार करने के लिए आपको दोगुना टोल टैक्स या जुर्माना (Double Penalty) देना होगा. यह व्यवस्था टू-व्हीलर्स के लिए नहीं है.

फास्टैग रिचार्ज कराने में आ रही दिक्कतों को भी भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने दूर कर लिया है. अगर किसी वाहन का फास्टैग एकाउंट रिचार्ज नहीं है तो टोल पर इसे रिचार्ज करा पाएंगे. फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है. इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) का इस्तेमाल होता है. फास्टैग रिचार्ज होने वाला प्रीपेड टैग है, जो आपको अपनी गाड़ी के विंडशील्ड पर अंदर की तरफ से लगाना होता है. जैसे ही गाड़ी टोल प्लाजा पर पहुंचती है, वहां लगा सेंसर फास्टैग को ट्रैक कर लेता है. इसके बाद फास्टैग अकाउंट से चार्ज कट जाता है और आप बिना रुके टोल पार कर जाते हैं.

ये भी पढ़ें- जीएसटी के मुद्दे पर केंद्र सरकार और व्यापारियों की बैठक रही बेनतीजा, 26 फरवरी को कारोबारी करेंगे भारत बंद

ई-कॉमर्स प्‍लेटफॉर्म और बैंक करा रहे उपलब्‍ध
फास्‍टैग खरीदने के कई विकल्प मौजूद हैं. इसे आप पेटीएम (Paytm), अमेजन (Amazon) और फ्लिपकार्ट (Flipkart) जैसे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से खरीद सकते हैं. इसके अलावा फिनो पेमेंट्स बैंक (Fino Payments Bank) और पेटीएम पेमेंट्स बैंक (Paytm Payments Bank) भी फास्टटैग जारी करते हैं. वहीं, एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank), आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank), एसबीआई (SBI), कोटक बैंक (Kotak Bank), एक्सिस बैंक (Axis Bank) भी फास्‍टैग उपलब्‍घ करा रहे हैं.

कैसे तय की जा रही है फास्‍टैग की कीमत

टोल प्‍लाजा को बिना किसी रुकावट के पार करने के लिए फास्‍टैग की कीमत आपके वाहन पर निर्भर करती है. इसके अलावा फास्‍टैग जारी करने वाले बैंक की फीस और सिक्योरिटी डिपॉजिट पॉलिसी पर भी इसकी लागत तय होती है. अगर आप पेटीएम से कार के लिए फास्‍टैग खरीदते हैं तो आपको 500 रुपये लगेंगे. इसमें 250 रुपये रिफंडबेल सिक्योरिटी डिपॉजिट और 150 मिनिमम बैलेंस है. आप आईसीआईसीआई बैंक से खरीदते हैं तो टैग के लिए 99.12 रुपये और मिनिमम बैलेंस के तौर पर 200 रुपये रखने होंगे. नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने फास्टैग की कीमत 100 रुपये तय की है. इसके अलावा 200 रुपये सिक्योरिटी डिपॉजिट देना होगा.



ये भी पढ़ें- GST क्षतिपूर्ति के लिए केंद्र सरकार ने जारी की 16वीं किस्‍त, राज्‍यों को अब तक मिल चुके हैं 95 हजार करोड़ रुपये

यूपीआई के साथ ही ऐसे भी करें रिचार्ज

फास्टैग एनएचएआई प्रीपेड वॉलेट से जुड़ा है तो इसे चेक, यूपीआई, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, एनईएफटी (NEFT), नेट बैंकिंग के जरिये रिचार्ज किया जा सकता है. अगर बैंक खाता फास्टैग से लिंक होता है तो पैसे सीधे खाते से कट जाते हैं. अगर पेटीएम वॉलेट फास्टटैग से लिंक होता है तो टोल टैक्‍स सीधे वॉलेट से कट जाता है. फास्‍टैग वॉलेट में मिनिमम बैलेंस होने पर भी आप टोल पार कर सकेंगे. हाल ही में एनएचएआई ने फास्टैग जारी करने वाले बैंकों से कहा है कि वे सिक्योरिटी डिपॉजिट के अलावा कोई मिनिमम बैलेंस रखना अनिवार्य नहीं कर सकते हैं. पहले विभिन्‍न बैंक फास्टैग में सिक्योरिटी डिपॉजिट के अलावा मिनिमम बैलेंस रखने को भी कह रहे थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज