• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • जरूरी खबर: आज से वाहनों पर FASTag हुआ अनिवार्य, नहीं लगाने पर देना होगा जुर्माना, जानें इसके बारे में सबकुछ..

जरूरी खबर: आज से वाहनों पर FASTag हुआ अनिवार्य, नहीं लगाने पर देना होगा जुर्माना, जानें इसके बारे में सबकुछ..

अब घर बैठे फास्टैग मिल जाएगा और ट्रैक भी कर सकेंगे

अब घर बैठे फास्टैग मिल जाएगा और ट्रैक भी कर सकेंगे

सोमवार (15 फरवरी 2021) से सभी टोल पर फास्टैग (FASTag) अनिवार्य हो गया है. यानी आज से अगर आपके वाहन में फास्टैग नहीं लगा होगा तो आपको टोल प्लाजा पार करने के लिए दोगुना टोल टैक्स या जुर्माना देना होगा.फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है. इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) का इस्तेमाल होता है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. सोमवार (15 फरवरी 2021) से सभी टोल पर फास्टैग (FASTag) अनिवार्य हो गया है. यानी आज से अगर आपके वाहन में फास्टैग नहीं लगा होगा तो आपको टोल प्लाजा पार करने के लिए दोगुना टोल टैक्स या जुर्माना देना होगा. बता दें कि यह नई व्यवस्था टू-व्हीलर्स के लिए नहीं है. हाल ही में फास्टैग को रिचार्ज कराने में आ रही दिक्कतों को भी भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने दूर कर लिया है. अगर किसी वाहन का फास्टैग एकाउंट रिचार्ज नहीं है तो वाहन चालक टोल पर इसे रिचार्ज करा पाएंगे. रिचार्ज तीन मिनट में होने की बात NHAI तैयारी कर रहा है. ऐसे में आपने अगर अभी तक अपनी कार में फास्टैग नहीं लगाया है तो यह काम जल्द से जल्द करवा लें. आइए जानते हैं इसके बारे में सबकुछ-

    क्या है FASTag?
    फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है. इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) का इस्तेमाल होता है. फास्टैग रिचार्ज होने वाला प्रीपेड टैग है जो आपको अपनी गाड़ी के विंडशील्ड पर अंदर की तरफ से लगाना पड़ता है.
    FASTag कैसे करता है काम?
    जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग को ट्रैक कर लेता है. इसके बाद आपके फास्टटैग अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क कट जाता है. इस तरह आप टोल प्लाजा पर रुके बगैर शुल्क का भुगतान कर पाते हैं. वाहन में लगा यह टैग आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही अपना काम शुरू कर देगा. वहीं, जब आपके फास्टैग अकाउंट की राशि खत्म हो जाएगी, तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा.

    यह भी पढ़ें- सभी एयरलाइंस कंपनियों ने शुरू की नई फ्लाइट्स, यात्रा का है प्लान तो चेक करें रूट्स-किराया और बाकी डिटेल..
    FASTag कहां से खरीदें?
    FASTag को खरीदने के लिए आपके पास कई सारे विकल्प हैं. इसे आप पेटीएम, Amazon.in और फ्लिपकार्ट जैसे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से खरीद सकते हैं. इसके अलावा Fino Payments Bank और Paytm Payments Bank भी फास्टटैग जारी करते हैं. इतना ही नहीं इसे आप बैंक से भी खरीद सकते हैं. वर्तमान में FASTags की पेशकश करने वाले बैंकों में €HDFC बैंक, ICICI बैंक, SBI, कोटक बैंक, एक्सिस बैंक के साथ-साथ पेटीएम पेमेंट्स बैंक भी शामिल हैं.
    FASTag खरीदने की लागत क्या है?
    FASTag खरीदने की लागत दो चीजों पर निर्भर करती है. सबसे पहले तो आप जिस वाहन के लिए इसे खरीद रहे हैं वह कार है या जीप-वैन, या फिर बस, ट्रक, कार्मशियल वाहन या फिर कंस्ट्रक्शन मशीन, इस पर निभर्र करता है. दूसरा, जिस बैंक से आप FASTag खरीद रहे हैं उसके जारी करने के संबंध में उनकी फीस और सिक्योरिटी डिपाॅजिट पाॅलिसी क्या होंगी?
    उदाहरण के लिए, जैसे कि इस वक्त अगर आप Paytm से कार के लिए FASTag खरीदते हैं तो आपको 500 रुपये में लगेंगे. इसमें 250 रुपए रिफंडबेल सिक्योरिटी डिपाॅजिट और 150 मिनिमम बैलेंस शामिल हैं जिन्हें बनाए रखना होगा. यदि आप इसे ICICI बैंक से खरीदते हैं, तो आपको टैग के लिए 99.12 रुपये और मिनिमम बैलेंस के रूप में 200 रुपये लगेगा. हालांकि, कई बैंक अपनी भागीदारी बढ़ाने के लिए समय-समय पर मुफ्त या मामूली कीमत में भी फास्टैग ऑफर करते हैं. नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने फास्टैग की कीमत 100 रुपए तय की है. इसके अलावा 200 रुपए की सिक्युरिटी डिपॉजिट देनी पड़ती है.

    यह भी पढ़ें- एलन मस्क की टेस्ला से भारत में 2.8 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार, कर्नाटक के सीएम ने कही ये बड़ी बात

    FASTag रिचार्ज कैसे करें?
    यदि फास्टटैग NHAI प्रीपेड वॉलेट से जुड़ा है, तो इसे चेक के माध्यम से या यूपीआई/डेबिट कार्ड/क्रेडिट कार्ड/NEFT/नेट बैंकिंग आदि के माध्यम से रिचार्ज किया जा सकता है. अगर बैंक खाते को फास्टटैग से लिंक होता है, तो पैसे सीधे खाते से काट लिया जाता है. अगर Paytm वॉलेट को फास्टटैग से लिंक होता है, तो पैसे सीधे वॉलेट से काट लिया जाता है.
    FASTag वाॅलेट में कम बैलेंस होने पर क्या होगा?
    FASTag वाॅलेट में मिनिमम बैलेंस होने पर भी आप टोल पार कर सकेंगे. हाल ही में €NHAI ने फास्टैग जारी करने वाले बैंकों से कहा है कि वे सिक्योरिटी डिपॉजिट के अलावा कोई मिनिमम बैलेंस रखना अनिवार्य नहीं कर सकते हैं. पहले विभिन्न बैंक फास्टैग में सिक्योरिटी डिपोजिट के अलावा मिनिमम बैलेंस रखने के लिए भी कह रहे थे. कोई बैंक 150 रुपये तो कोई बैंक 200 रुपये का मिनिमम बैलेंस रखने को कह रहे थे. मिनिमम बैलेंस होने की वजह से कई FASTag उपयोगकर्ताओं को अपने FASTag खाते/वॉलेट में पर्याप्त शेष होने राशि के बाद भी एक टोल प्लाजा से गुजरने की अनुमति नहीं मिलती थी.
    क्या हम एक फास्टटैग का उपयोग दो या अधिक वाहनों के साथ कर सकते हैं?
    नहीं, दो वाहनों के लिए दो अलग फास्टटैग खरीदना होगा.

    यह भी पढ़ें- फास्टैग में मिनिमम बैलेंस की बाध्यता खत्म, जानिए और क्या नियम बदले

    FASTag की वैधता क्या है?
    FASTag जारी होने की तारीख से फास्टैग की वैधता अगले पांच साल तक की होती है. आपके रिचार्ज की कोई वैधता नहीं होती यानी अगर आपने रिचार्ज के बाद लंबे समय तक नेशनल हाईवे पर यात्रा नहीं की तो यह रिचार्ज फास्टैग की वैधता तक वैध रहेगा.
    FASTag कुल टोल कलेक्शन का 80 फीसदी
    देश भर में 2.54 करोड़ से अधिक फास्टैग के यूजर हैं. हाइवे पर FASTag कुल टोल कलेक्शन का 80 फीसदी योगदान देता है। इस समय FASTag के माध्यम से डेली टोल कलेक्शन 89 करोड़ रुपए को पार कर गया है। गौरतलब है कि 15 फरवरी 2021 से फास्टैग के माध्यम से टोल प्लाजा पर भुगतान अनिवार्य हो जाएगा. ऐसा इसलिए, क्योंकि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण देश भर में टोल प्लाजा पर 100% कैशलेस टोल प्राप्त करने का लक्ष्य बना रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज