खुशखबरी- कोरोना संकट के बीच भी विदेशी जमकर लगा रहे हैं भारत में पैसा, अप्रैल-अगस्त के बीच FDI 16% बढ़ा

वााजिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अनुसार किसी वित्त वर्ष के पहले पांच महीनों में यह अब तक का सर्वाधिक एफडीआई है.
वााजिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अनुसार किसी वित्त वर्ष के पहले पांच महीनों में यह अब तक का सर्वाधिक एफडीआई है.

FDI in India: देश में अप्रैल से अगस्त, 2020 के दौरान 35.73 बिलियन अमेरिकी डॉलर का कुल एफडीआई प्राप्त हुआ है. यह किसी वित्तीय वर्ष के पहले 5 महीनों में सबसे अधिक है और 2019-20 के पहले पांच महीनों (31.60 बिलियन अमेरिकी डॉलर) की तुलना में 13% अधिक है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2020, 12:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वााजिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अनुसार पिछले वर्ष अप्रैल-अगस्त के दौरान देश में 23.32 अरब डॉलर विदेश निवेश आया था. जो इस वित्त वर्ष 2020-21 में 16 फीसदी बढ़कर 27.1 अरब डॉलर हो गया है. मंत्रालय के अनुसार, किसी वित्त वर्ष के पहले पांच महीनों में यह अब तक का सर्वाधिक एफडीआई है. यह निवेश साल 2019-20 के पहले पांच महीनों की तुलना में 13 फीसदी अधिक है. वित्त वर्ष 2019-20 के पहले पांच महीने में यह 31.60 अरब डॉलर था.

वहीं वाणिज्य मंत्रालय के अनुसार सरकार का हमेशा से यह प्रयास रहा है कि वह एक सक्षम और निवेशकों के अनुकूल एफडीआई नीति लागू करे. यह सब करने का मुख्य उद्देश्य एफडीआई नीति को निवेशकों के और अधिक अनुकूल बनाना तथा देश में निवेश के प्रवाह में बाधा डालने वाली नीतिगत अड़चनों को दूर करना है. पिछले छह वर्षों के दौरान इस दिशा में उठाए गए कदमों के परिणाम देश में एफडीआई के प्रवाह की बढ़ती मात्रा से स्पष्ट हैं. एफडीआई के उदारीकरण और सरलीकरण के रास्ते पर आगे बढ़ते हुए, सरकार ने विभिन्न क्षेत्रों में एफडीआई से संबंधित सुधार किए हैं.

यह भी पढ़ें: ‘आत्मनिर्भर भारत’ को लेकर रघुराम राजन ने किया सावधान! कहा- दूसरे देशों के सामान पर भारी टैक्स लगाना सही नहीं



एफडीआई में नीतिगत सुधारों, निवेश सुगमता और व्यापार करने में आसानी के मोर्चों पर सरकार द्वारा किए गए विभिन्न उपायों की वजह से देश में एफडीआई का प्रवाह बढ़ा है. भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के क्षेत्र में निम्नलिखित रुझान वैश्विक निवेशकों के बीच एक पसंदीदा निवेश गंतव्य के तौर पर इसकी स्थिति की पुष्टि करते हैं.



पिछले 6 वर्षों की अवधि (2014-15 से 2019-20) में
देश में कुल प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में 55% की वृद्धि, अर्थात् 2008-14 में 231.37 बिलियन अमेरिकी डॉलर से बढ़कर 2014-20 में 358.29 बिलियन अमेरिकी डॉलर हुआ. एफडीआई इक्विटी प्रवाह भी 2008-14 के दौरान 160.46 बिलियन अमेरिकी डॉलर से 57% बढ़कर 252.42 बिलियन अमेरिकी डॉलर (2014-20) हो गया.

यह भी पढ़ें: सरकार कभी भी कर सकती है तीसरे राहत पैकेज का ऐलान, जानिए इस बार आपके लिए क्या होगा खास

वित्तीय वर्ष 2020 –21 (अप्रैल से अगस्त, 2020) में
देश में अप्रैल से अगस्त, 2020 के दौरान 35.73 बिलियन अमेरिकी डॉलर का कुल एफडीआई प्राप्त हुआ है. यह किसी वित्तीय वर्ष के पहले 5 महीनों में सबसे अधिक है और 2019-20 के पहले पांच महीनों (31.60 बिलियन अमेरिकी डॉलर) की तुलना में 13% अधिक है. वित्तीय वर्ष 2020 – 21 (अप्रैल से अगस्त, 2020) के दौरान प्राप्त एफडीआई इक्विटी प्रवाह 27.10 बिलियन अमेरिकी डॉलर है. यह भी किसी वित्तीय वर्ष के पहले 5 महीनों के लिए अधिकतम है और 2019-20 के पहले पांच महीनों (23.35 बिलियन अमेरिकी डॉलर) की तुलना में 16% अधिक है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज