WPI: 27 महीने के रिकॉर्ड लेवल पर पहुंची महंगाई, जानें कितनी महंगी हुईं दाल-सब्जियां?

WPI: 27 महीने के रिकॉर्ड लेवल पर पहुंची महंगाई

फरवरी में अर्थव्यवस्था के मोर्च पर एक और चिंता देखने को मिली है. फरवरी महीने में थोक महंगाई दर (WPI Inflation) बढ़कर 4.17 फीसदी पर पहुंच गई है. यह बीते 27 महीनों का रिकॉर्ड स्तर (WPI inflation at 27 months high) है.

  • Share this:
    नई दिल्ली: फरवरी में अर्थव्यवस्था के मोर्च पर एक और चिंता देखने को मिली है. फरवरी महीने में थोक महंगाई दर (WPI Inflation) बढ़कर 4.17 फीसदी पर पहुंच गई है. यह बीते 27 महीनों का रिकॉर्ड स्तर (WPI inflation at 27 months high) है. खाने-पीने और ईंधन, बिजली के दाम बढ़ने से मुद्रास्फीति बढ़ी है, जिसकी वजह से इसमें इजाफा देखने को मिला है. वहीं, जनवरी में थोक मुद्रास्फीति 2.03 प्रतिशत पर थी. वहीं, एक साल पहले फरवरी 2020 में यह 2.26 फीसदी पर थी. सरकार की ओर से जारी किए गए आंकड़ों से इस बारे में जानकारी मिली है.

    फरवरी में Primary Articles डब्लूपीआई 1.82 फीसदी पर रही है जो कि जनवरी में -2.24 फीसदी पर रही थी. फरवरी में Manufactured Products की थोक महंगाई में भी बढ़ोतरी देखने को मिली है. फरवरी में ये 5.81 फीसदी पर रहा है जबकि जनवरी ये 5.13 फीसदी पर रहा था. महीने दर महीने आधार पर देखे तो Fuel & Power डब्लूपीआई में भारी बढ़ोतरी देखने को मिली है. फरवरी में ये 0.58 फीसदी पर रहा है जबकि जनवरी में ये -4.78 फीसदी पर रहा था.

    यह भी पढ़ें: Bank Strike: फटाफट निपटा लें बैंक का काम, आगे भी जारी रहेगी हड़ताल! इन सेवाओं पर पड़ेगा असर

    जानें कितने बढ़ें सब्जियों के दाम
    आपको बता दें कई महीने से लगातार नरम पड़े रहने के बाद फरवरी माह में खाद्य पदार्थों के दाम 1.36 फीसदी बढ़ गए हैं. इससे पहले जनवरी में इनमें 2.80 प्रतिशत की गिरावट आई थी. इसके अलावा सब्जियों के दाम फरवरी में 2.90 फीसदी घट गए, वहीं जनवरी में इनके दाम 20.82 प्रतिशत नीचे गये थे.

    दालों के दाम में भी हुआ इजाफा
    दालों की यदि बात की जाए तो फरवरी में दालों के दाम 10.25 फीसदी बढ़ गए. वहीं फलों के दाम 9.48 प्रतिशत और बिजली समूह की मुद्रास्फीति 0.58 फीसदी रही.

    यह भी पढ़ें: Indian Railways: IRCTC ने की लक्जरी ट्रेन गोल्डन चैरियट की शुरुआत, चेक करें किराया और रूट

    रिजर्व बैंक ने पिछले महीने मौद्रिक नीति की घोषणा करते हुये ब्याज दरों को अपरिवर्तित रखा. यह लगातार चौथी समीक्षा थी जिसमें दर में कोई बदलाव नहीं किया गया. वहीं खुदरा मुद्रास्फीति की यदि बात की जाये तो फरवरी में यह 5.03 फीसदी पर रही.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.