अपना शहर चुनें

States

FICCI की 93वीं आम बैठक 11 दिसंबर को होगी शुरू, PM नरेंद्र मोदी कोरोना संकट से पैदा हुई चुनौतियों की करेंगे बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिक्‍की की 93वीं सालाना आम सभा में वोकल फॉर लोकल पर जोर दे सकते हैं. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिक्‍की की 93वीं सालाना आम सभा में वोकल फॉर लोकल पर जोर दे सकते हैं. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 11 दिसंबर को फिक्‍की (FICCI) की 93वीं सालाना आम बैठक (AGM) का उद्घाटन करेंगे. उम्‍मीद की जा रही है कि इस दौरान वह केंद्र सरकार की ओर से आर्थिक सुधारों (Economic Reforms) के लिए उठाए गए कदमों और उपलब्धियों की बात करेंगे. साथ ही कोविड-19 (COVID-19) की चुनौतियों और संभावनाओं पर भी चर्चा करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 2, 2020, 7:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 11 दिसंबर को उद्योग समूह फिक्की (FICCI) की 93 वीं वार्षिक आम बैठक (AGM) का उद्घाटन करेंगे. कोरोना संकट के बीच वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिये होने वाली इस एजीएम की थीम इंस्पायर्ड इंडिया (Inspired India) रखा गया है. उम्‍मीद की जा रही है कि पीएम मोदी अपने संबोधन में आत्मनिर्भर भारत अभियान, मेक इन इंडिया और वोकल फॉर लोकल (Vocal for Local) पर जोर दे सकते हैं. इस दौरान वह केंद्र सरकार की ओर आर्थिक सुधारों (Economic Reforms) के लिए उठाए जा रहे कदमों और उपलब्धियों की जानकारी भी दे सकते हैं. संभव है कि पीएम मोदी कोविड-19 (COVID-19) की चुनौतियों और संभावनाओं पर भी बता करें.

अमित शाह समेत कई मंत्री रखेंगे अपनी बात
फिक्‍की के तीन दिवसीय कार्यक्रम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी संबोधित करेंगे. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, सड़क परिवहन व राजमार्ग और एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी, वाणिज्य व उद्योग तथा रेल मंत्री पीयूष गोयल, विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर, सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद के साथ ही ऊर्जा, कौशल विकास व उद्यमिता मंत्री आरके सिंह भी कार्यक्रम में अपनी बात रखेंगे.

ये भी पढ़ें- किसान आंदोलन को मिला ट्रांसपोर्टरों का साथ, खाने-पीने के सामान हो सकते हैं और महंगे
प्रमुख मंत्रालयों के सचिव भी करेंगे शिरकत


केंद्रीय मंत्रियों के साथ ही विभिन्‍न मंत्रालयों के सचिव भी कार्यक्रम में अपनी बात रखेंगे. डीपीआईआईटी सचिव डॉ. गुरुप्रसाद महापात्रा, वित्त सचिव अजय भूषण पांडेय, आर्थिक मामलों के सचिव तरुण बजाज, इकोनॉमिक रिलेशंस सचिव राहुल छाबड़ा, उच्च शिक्षा विभाग के सचिव अमित खरे और एमएसएमई सचिव अरविंद कुमार शर्मा भी कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. इसके अलावा वित्त आयोग के चेयरमैन एनके सिंह और नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत भी कार्यक्रम में अपने विचार रखेंगे.

ये भी पढ़ें- भारत के सामने झुका चीन! बीजिंग ने 30 साल में पहली बार नई दिल्‍ली से खरीदा चावल

ग्लोबल बिजनेस लीडर भी होंगे शामिल
हर साल होने वाले इस कार्यक्रम में कई ग्‍लोबल बिजनेस लीडर्स भी अपने-अपने मत रखेंगे. माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला, जीरो ग्रेविटी कॉर्पोरेशन के सीईओ पीटर डॉयमंडिस, नेशनल हेल्थ सर्विस के चेयरमैन लॉर्ड डेविड प्रायर और एनएससीएआई के चेयरमैन एरिक स्मिट भी कार्यक्रम में शिरकत करेंगे. इसके अलावा टाटा ग्रुप के चेयरमैन एन. चंद्रशेखरन, मास्टरकार्ड के सीईओ अजय बंगा, ओयो होटल्स एंड रूम्स के सीईओ रितेश अग्रवाल, खान अकेडमी फाउंडर सलमान खान के अलावा एक्सिस बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के एमडी भी शामिल होंगे. उम्मीद की जा रही है कि 11, 12 और 13 दिसंबर को इस कार्यक्रम में 10 हजार लोग हिस्सा लेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज