भारी गतिरोध के बीच लोकसभा में फाइनेंस बिल पास

लोकसभा में सात दिन के हंगामें के बाद बुधवार को फाइनेंस बिल पास हो गया.

News18Hindi
Updated: March 14, 2018, 1:37 PM IST
भारी गतिरोध के बीच लोकसभा में फाइनेंस बिल पास
लोकसभा में सात दिन के हंगामें के बाद बुधवार को फाइनेंस बिल पास हो गया.
News18Hindi
Updated: March 14, 2018, 1:37 PM IST
पिछले सात दिन से जारी गतिरोध के बाद बुधवार को लोकसभा में फाइनेंस बिल पास हो गया. लगातार जारी हंगामे के कारण लोकसभा में यह बिल लंबे समय से अटका था. इसके बाद सांसदों ने इस पर लिखकर दिया था कि बिल बगैर चर्चा के पास कर देना चाहिए. मंगलवार को लगातार सातवें दिन भी कामकाज नहीं हो सका और पिछले छह दिन से विभिन्न मुद्दों पर चल रहा हंगामा मंगलवार को भी जारी रहने के कारण बैठक को एक बार के स्थगन के बाद पूरे दिन के लिए स्थगित कर दिया गया था.

आपको बता दें कि टीडीपी, कांग्रेस, एआईएडीएमके, टीआरएस और तृणमूल कांग्रेस के कई सदस्यों ने प्रश्नकाल और जीरो ऑवर में हंगामा किया जिसके चलते लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने पहले एक घंटे में ही कार्यवाही स्थगित कर दिया.



सदस्यों के शोर शराबे के कारण सदन में वित्त एवं विनियोग विधेयक 2018 चर्चा के लिए पेश नहीं हो सका था. बुधवार के सत्र में इस बिल को पास कर दिया गया. बजट सत्र के दूसरे चरण में पिछले छह दिनों से विभिन्न दलों के सदस्य अलग-अलग मुद्दों पर हंगामा कर रहे थे जिसके कारण सदन की कार्यवाही नहीं चल पा रही है.

सांसदों ने लिखी थी चिट्ठी
इन सबके बीच फाइनेंस बिल पर लोकसभा के कई सांसदों ने लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन को चिट्ठी लिखी थी. सांसदों ने कहा है कि यह पत्र लिस्ट ऑफ बिजनेस नंबर 26 के संदर्भ में है. 5 मार्च 2018 को की गई BAC मीटिंग में 6 मंत्रालयों/ विभागों के लिए चर्चा के विषय के लिए समय तय किया गया था.इसमें रेलवे, कृषि और किसान कल्याण, सामाजिक न्यायिक और सशक्तिकरण, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, युवा मामले और रोड ट्रांसपोर्ट और हाईवे पर चर्चा होनी थी. मगर, फाइनेंस बिल के लिए समय और तारीख निश्चित नहीं हुई थी.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर