लाइव टीवी

कंपनियां CSR के तहत गरीब, पूर्वोत्तर राज्यों तक पहुंच बढ़ाए- वित्त मंत्री

भाषा
Updated: October 29, 2019, 6:22 PM IST
कंपनियां CSR के तहत गरीब, पूर्वोत्तर राज्यों तक पहुंच बढ़ाए- वित्त मंत्री
वित्त मंत्री ने कंपनियों को सीएसआर के तहत गरीब, पूर्वोत्तर राज्यों तक पहुंच बढ़ाने को कहा

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पिछले साल CSR गतिविधियों पर करीब 13,000 करोड़ रुपये खर्च किये जाने की सराहना की.

  • Share this:
नई दिल्ली. वित्त मंत्री (Finance Minsiter) निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने मंगलवार को भारतीय कंपनियों से कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (CSR) के तहत झारखंड, छत्तीसगढ़, बिहार और पूर्वोत्तर क्षेत्र में खर्च करने की अपील की. कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय (Corporate Affairs Minister) की भी जिम्मेदारी संभाल रही सीतारमण ने पिछले साल CSR गतिविधियों पर करीब 13,000 करोड़ रुपये खर्च किये जाने की सराहना की. उन्होंने कहा कि यह दूर-दराज के क्षेत्रों में विकास के लिये काफी प्रासंगिक है.

पूर्वोत्तर राज्यों तक बढ़ाएं पहुंच
पहले राष्ट्रीय सीएसआर पुरस्कार वितरण के लिए राजधनी में आयोजित समारोह में वित्त मंत्री ने कहा, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और दिल्ली जैसे राज्यों में CSR के क्षेत्र में काफी काम देखने को मिलते हैं. वहीं छत्तीसगढ़, ओड़िशा, झारखंड और बिहार जैसे राज्यों को भी CSR के जरिये समर्थन की जरूरत है. इस मामले में पूर्वोत्तर क्षेत्र के सभी 8 राज्यों को मत भूलिये.

ये भी पढ़ें: RBI से नाराज PMC बैंक के ग्राहक, कहा- आतंकी बनने के लिए अलावा दूसरा रास्ता नहीं

उन्होंने कहा कि संपत्ति सृजित करने वालों को केवल संपत्ति सृजित करने के लिये सम्मानित नहीं किया जा रहा बल्कि समाज को सीएसआर के नाम पर वापस दिये जाने के लिये सम्मानित किया जा रहा है. सीएसआर के तहत लाभ का एक निश्चित हिस्सा समाज को देना है और इसको लेकर आकर्षण बढ़ रहा है.

प्रॉफिट का 2% सीएसआर पर खर्च करना अनिवार्य
कंपनी कानून, 2013 के तहत कुछ लाभ कमाने वाली कंपनियों को अपने तीन साल के औसत शुद्ध लाभ का कम-से-कम 2 प्रतिशत कंपनी सामाजिक जिम्मेदारी गतिविधियों पर खर्च करने की जरूरत होती है.
Loading...

ये भी पढ़ें: शेयर बाजार में रौनक बढ़ाने के लिए वित्त मंत्री कर सकती हैं ये बड़ा ऐलान

इस मौके पर वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा कि सीएसआर के तहत स्वास्थ्य और शिक्षा पर जोर दिया जाएगा. प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने देश भर में पानी की कमी की चुनौती को रेखांकित किया है. उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र पर भी ध्यान देने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें- 

1 नवंबर से बदल रही हैं आपके काम की ये चीजें, जान लें नहीं तो होगा नुकसान
SBI ने ग्राहकों को किया सावधान, जल्द अपनाएं ये उपाय वरना खाली हो जाएगा बैंक खाता
EPFO ने 6 करोड़ लोगों को चेताया, न करें ये काम वरना PF खाते से उड़ जाएंगे पैसे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 6:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...