लाइव टीवी

5 करोड़ मनरेगा मजदूरों के लिए हुआ बड़ा ऐलान, अब इतने रुपये मिलेगी दिहाड़ी

News18Hindi
Updated: March 26, 2020, 2:55 PM IST
5 करोड़ मनरेगा मजदूरों के लिए हुआ बड़ा ऐलान, अब इतने रुपये मिलेगी दिहाड़ी
मनरेगा योजना ग्रामीण भारत में लोगों की जीवनरेखा

मनरेगा दिहाड़ी 182 से बढ़ाकर 202 रुपये कर दी गई है. इसके तहत आने वाले 5 करोड़ लोगों को इसका लाभ मिलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2020, 2:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) संकट से निपटने के लिए सरकार ने आज एक और  राहत पैकेज की घोषणा की है. इसका नाम प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज है. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत गरीबों को कैश ट्रांसफर किए जाएंगे. इसके अलावा सरकार ने मनरेगा के तहत काम करने वालों की सैलरी बढ़ाई गई है. मनरेगा दिहाड़ी अब 182 से बढ़ाकर 202 रुपये कर दी गई है. इसके तहत आने वाले 5 करोड़ लोगों को इसका लाभ मिलेगा.
मनरेगा में दिहाड़ी बढ़ाकर 202 रुपये कर दी गई है. मनरेगा के तहत आने वाले 5 करोड़ लोगों को इसका लाभ मिलेगा.

क्या है मनरेगा योजना?
यह केंद्र सरकार के द्वारा चलायी गयी प्रमुख योजना है, इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्राम का विकास और ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को रोजगार प्रदान करना है, इस योजना के द्वारा ग्राम को शहर के अनुसार सुख-सुविधा प्रदान करना है, जिससे ग्रामीणों का पलायन रुक सके.



ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस: सभी नेशनल हाईवे पर फिलहाल नहीं लगेगा टोल, गडकरी का ऐलान

इस योजना से लाभ
1. मनरेगा योजना में ग्रामीण लोगों को अपने परिवेश में ही रोजगार प्राप्त हो जाता है, केंद्र सरकार ने इस योजना के अंतर्गत 100 कार्य दिवस के रोजगार की गारंटी दी है.

2. छत्तीसगढ़ राज्य में महात्मा मनरेगा योजना के अंतर्गत 100 कार्य दिवस को बढ़ा कर 150 कार्यदिवस की रोजगार गारंटी दी है. 50 कार्य दिवस के व्यय का वहन राज्य सरकार के द्वारा किया जायेगा.

3. इस योजना के अंतर्गत परिवार के वयस्क सदस्य के द्वारा आवेदन किया जाता है, आवेदन होने के 15 दिन के अंदर रोजगार प्रदान किया जाता है, यदि किसी कारणवश 15 दिन के अंदर रोजगार प्राप्त नहीं होता है, तो सरकार के द्वारा उसे बेरोजगारी भत्ता प्रदान किया जाता है, यह भत्ता पहले 30 दिन का एक चौथाई होता है, 30 दिन के बाद यह न्यूनतम मजदूरी दर का पचास प्रतिशत प्रदान किया जाता है.

4. इस योजना में मजदूरी का भुगतान बैंक, डाकघर के बचत खातों के माध्यम से किया जाता है, आवश्यकता पड़ने पर नगद भुगतान की व्यस्था विशेष अनुमति लेकर की जा सकती है.

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन: Parle की सराहनीय पहल, 3 हफ्तों में तीन करोड़ पैकेट्स बांटेगी कंपनी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 2:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर