Home /News /business /

finance minister said government and rbi cautious about the situation of rupee know what is the reason for this decline jst

वित्त मंत्री ने कहा- रुपये की स्थिति को लेकर सरकार और आरबीआई सतर्क, जानें क्या है इस गिरावट की वजह?

रुपया ही नहीं दुनियाभर की कई करेंसीज में गिरावट देखने को मिली है: वित्त मंत्री

रुपया ही नहीं दुनियाभर की कई करेंसीज में गिरावट देखने को मिली है: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि आरबीआई और सरकार दोनों ही रुपये की विनियम स्थिति को लेकर सतर्क हैं. गौरतलब है कि डॉलर के मुकाबले लगातार कमजोर होते हुए रुपया 1 जुलाई को अपने नए न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया.

    नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने रुपये में जारी गिरावट को लेकर कहा है कि ऐसा केवल भारतीय करेंसी के साथ नहीं हो रहा बल्कि डॉलर के मुकाबले दुनियाभर की तमाम करेंसी की वैल्यू में गिरावट देखी जा रही है. उन्होंने कहा कि सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक दोनों ही इस पर नजर बनाए हुए हैं.

    1 जुलाई को रुपये ने डॉलर के मुकाबले नया लो हिट किया. डॉलर के मुकाबले रुपया इंट्रा डे ट्रेड में 79.1187 के नए न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया. वित्त मंत्री ने कहा कि वैश्विक स्तर होने वाली घटनाएं भारत पर भी असर डालती हैं क्योंकि दुनिया में हम अकेले नहीं हैं.

    ये भी पढ़ें- GST@5 Year : क्‍या जीएसटी लागू होने से अर्थव्‍यवस्‍था को फायदा हुआ? कैसे और किसको मिला ज्‍यादा लाभ?

    आरबीआई के गवर्नर से मिलती है अपडेट
    वित्त मंत्री ने कहा कि रुपये की स्थिति के बारे में रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास से उनकी बात होती रहती है. उन्होंने कहा कि वह बताते हैं कि स्थिति को लेकर रिजर्व बैंक क्या कर रहा है. बकौल वित्त मंत्री गवर्नर शक्तिकांत दास इस बात को लेकर सतर्क हैं कि रुपये की विनियम दर कमजोर होने से भारत में होने वाले इंपोर्ट पर क्या प्रभाव पड़ेगा और यह कितना महंगा होगा.

    क्या है इस गिरावट की वजह
    इसका सबसे बड़ा कारण रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण पैदा हुईं वैश्विक परिस्थितियां हैं. डॉलर के मुकाबले केवल रुपया ही नहीं दुनिया की तमाम करेंसी कमजोर हो रही हैं. अनिश्चितताओं के बीच विदेशी निवेशक भी लगातार भारतीय बाजार से अपना पैसा लगातार निकाल रहे हैं. बढ़ती महंगाई और तेल की कीमतों में वृद्धि ने भी रुपये की वैल्यू पर नकरात्मक असर किया है. इसके अलावा देश के चालू खाता घाटे में वृद्धि भी चिंता का कारण बना हुआ है. यही कारण है कि सरकार आयात को घटाने के लिए कई तरह के प्रयास कर रही है.

    ये भी पढ़ें- Share Market: सेंसेक्स 111 अंक टूटा, 15,750 के करीब बंद हुआ निफ्टी

    रुपये को बचाने के लिए हर प्रयास किया जाएगा
    आरबीआई के डिप्टी गवर्नर माइकल पात्रा ने कहा है कि रुपये कहां तक नीचे जाएगा इसके बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता है. उन्होंने कहा कि फेडरल रिजर्व भी नहीं जानता कि डॉलर कहां तक चढ़ेगा. बकौल पात्रा, लेकिन आरबीआई रुपये को स्थिर रखने के लिए हर प्रयास करेगा.

    Tags: Business news, Business news in hindi, Finance minister Nirmala Sitharaman, RBI, Rupee weakness

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर