Home /News /business /

जल्द घट सकती है पेट्रोल-डीज़ल की कीमत, राज्यों से बात कर रहा है वित्त मंत्रालय- रिपोर्ट

जल्द घट सकती है पेट्रोल-डीज़ल की कीमत, राज्यों से बात कर रहा है वित्त मंत्रालय- रिपोर्ट

सरकार की नज़र इस हफ्ते होने वाले OPEC+ देशों की बैठक पर भी है.

सरकार की नज़र इस हफ्ते होने वाले OPEC+ देशों की बैठक पर भी है.

वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) बहुत जल्द ही पेट्रोल-डीज़ल पर एक्साइज़ ड्यूटी घटाने का फैसला ले सकता है. फिलहाल, मंत्रालय अभी राज्यों और तेल कंपनियों के साथ इसपर चर्चा कर रहा है. सरकार को अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में स्थिरता का भी इंतज़ार है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमतों के बीच अब वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) एक्साइज़ ड्यूटी कम करने के विकल्प पर विचार कर रहा है. इससे आम आदमी को आसमान छूती कीमतों से फौरी राहत मिल सकेगी. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने अपनी एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है. पिछले 10 महीनों के दौरान कच्चे तेल (Crude Oil) के भाव में दोगुनी बढ़त ने भारत में ईंधन के दाम में इजाफा कर दिया है, लेकिन, पेट्रोल-डीज़ल के खुदरा दाम पर आम जनता को करीब 60 फीसदी तक टैक्स व ड्यूटीज़ चुकानी पड़ रही है. कोरोन वायरस महामारी ने भी आर्थिक गतिविधियों को बुरी तरह प्रभावित किया है. भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा कच्चा तेल आयतक देश है.

    पिछले 12 महीने में मोदी सरकार ने पेट्रोल-डीज़ल पर टैक्स में दो बार बढ़ोतरी की है. इस प्रकार जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव न्यूनतम रिकॉर्ड स्तर पर था, तब भी आम जनता को पेट्रोल-डीज़ल के मोर्चे पर बड़ी राहत नहीं मिल सकी.

    मार्च के मध्य तक हो सकता है फैसला
    लेकिन वित्त मंत्रालय अब विभिन्न राज्यों, तेल कंपनियों और तेल मंत्रालय के साथ मिलकर टैक्स कम करने के रास्ते पर विचार कर रहा है. सूत्रों का कहना है कि केंद्र को यह भी देखना है कि टैक्स कम करने से उसके फाइनेंस पर कोई बुरा असर न पड़े. एक सूत्र ने बताया, ‘हम इस बात पर चर्चा कर रहे हैं कि कैसे कीमतों को स्थिर रखा जाए. मार्च महीने के मध्य तक इस पर कोई फैसला ले सकेंगे.’

    यह भी पढ़ें: कोटक महिंद्रा बैंक अब SBI से भी सस्ता होम लोन दे रहा, कितनी देनी होगी EMI?

    नाम ने ज़ाहिर करने की शर्त पर एक सूत्र ने कहा कि सरकार चाहती है कि टैक्स कटौती से पहले तेल का भाव स्थिर हो. केंद्र एक बार फिर टैक्स स्ट्रक्चर में कोई बड़ा बदलाव नहीं करना चाहती है. इस बीच अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल का भाव लगातार बढ़ रहा है.

    कुछ राज्यों ने की है टैक्स कटौती
    हाल ही में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था, ‘मैं नहीं कह सकती कि आख़िर कब तक ईंधन पर टैक्स कम होंगे, लेकिन केंद्र और राज्यों को एक साथ मिलकर ईंधन पर टैक्स को कम करना होगा.’ हालांकि, बढ़ती कीमतों के बीच कुछ राज्यों ने अपने स्तर पर पेट्रोल-डीज़ल पर टैक्स को कम भी किया है.

    OPEC+ की बैठक से उम्मीद
    एक सूत्र ने यह भी बताया कि ईंधन पर टैक्स को लकर फैसला OPEC और अन्य तेल उत्पादक देशों के बीच बैठक के बाद ही होगा. इसी सप्ताह में यह बैठक होनी है. सूत्र ने कहा, ‘इस बात की उम्मीद है कि OPEC+ तेल आउटपुट बढ़ाने की दिशा में कोई फैसला लेगा. हमें उम्मीद है कि उनके इस फैसले के बाद कीमतों में स्थिरता देखने को मिलेगी.’

    यह भी पढ़ें: आज आपके शहर में क्या है पेट्रोल डीजल का भाव, फटाफट करें चेक

    भारत ने ओपेक प्लस देशों से अपील की है कि वो तेल उत्पादन बढ़ाएं. दरअसल, ईंधन के बढ़ते दाम की वजह से एशिया की इस तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में महंगाई भी बढ़ रही है.

    ईंधन पर टैक्स से सरकारों की कितनी कमाई हुई?
    बता दें कि पेट्रोलियम सेक्टर से केंद्र और राज्य सरकार की झोली में करीब 5.56 लाख करोड़ रुपये आए हैं. यह 31 मार्च 2020 को ख्त्म हुए वित्तीय वर्ष के आंकड़े हैं. चालू वित्त वर्ष के पहले 9 महीने यानी अप्रैल से दिसंबर 2020 के दौरान इस सेक्टर से 4.21 लाख रुपये केंद्र और राज्यों के खज़ाने में आए हैं. 4.21 लाख करोड़ रुपये की यह रकम तब है, जब कोविड-19 की वजह से ईंधन की मांग न्यूनतम रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गई थी.

    Tags: Business news in hindi, Excise duty, Ministry of Finance, Petrol and diesel, Petrol diesel price

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर