होम /न्यूज /व्यवसाय /बैंक खाता खुलवाने और KYC के लिए धर्म के बारे में जानकारी देने की जरूरत नहीं: सरकार

बैंक खाता खुलवाने और KYC के लिए धर्म के बारे में जानकारी देने की जरूरत नहीं: सरकार

KYC फॉर्म में धर्म संबंधी जानकारी देने की खबरों का सरकार ने किया खंडन.

KYC फॉर्म में धर्म संबंधी जानकारी देने की खबरों का सरकार ने किया खंडन.

वित्त सेवा सचिव राजीव कुमार (Rajeev Kumar) ने ​शनिवार को उन दावों का खंडन किया, जिसमें कहा गया था कि बैंक के KYC फॉर्म ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. वित्त मंत्रालय (Minsitry of Finance) के वित्तीय सेवा विभाग के सचिव राजीव कुमार (Rajeev Kumar) ने शनिवार को जानकारी दी कि किसी भी व्यक्ति को बैंक 'Know Your Customer' (KYC) के लिए धर्म संबंधित जानकारी नहीं देनी होगी. बता दें कि इसके पहले कई मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि बहुत जल्द ही सरकार बैंक KYC प्रक्रिया में धर्म की जानकारी प्राप्त करने की व्यवस्था कर सकती है.

    राजीव कुमार ने कहा कि किसी भी व्यक्ति को बैंक अकाउंट (Bank Account) खोलने या मौजूदा खाताधरकों को बैंक KYC में धर्म की कोई जानकारी नहीं देनी होगी.




    ये भी पढ़ें: खुशखबरी! बढ़ सकती है मनरेगा के तहत मजदूरी, केंद्र सरकार लेने जा रही ये बड़ा फैसला

    क्या था मीडिया रिपोर्ट में दावा
    बता दें कि इससे पहले मीडिया रिपोट्स में आधिकारिक सूत्रों के हवाले से कहा गया था कि बहुत जल्द केवाईसी फॉर्म में धर्म के बारे में जानकारी देनी पड़ सकती है. इन रिपोर्ट्स में कहा गया था कि भारतीय रिजर्व बैंक ने फेमा एक्ट रेग्युलेशन (Fema Act, Regulation) किया है, जिसके बाद ऐसी जानकारी की जरूरत पड़ सकती है. इससे एनआरओ अकाउंट्स खोलने और मुस्लिम के अलावा अन्य धार्मिक अल्पसंख्यक लोगों को प्रॉपर्टी होल्डिंग में मदद मिल सकती है.

    कहा गया था कि आरबीआई द्वारा संशोधन के बाद इस नियम में नास्तिक और मुस्लिम प्रवासी शामिल नहीं होंगे. साथ ही, म्यांमार, श्रीलंका और तिब्बत से आने वाले प्रवासी भी शामिल नहीं होंगे.

    ये भी पढ़ें: Alert! Railway ने कैंसिल की 339 ट्रेनें, कई स्पेशल गाड़ियां शामिल, घर से निकलने से पहले जरूर चेक कर लें लिस्ट

    फेमा डिपॉजिट रेग्युलेशन में संशोधन का किया गया दावा
    इस रिपोर्ट में कहा गया था कि अगर कोई व्यक्ति पाकिस्तान, बांग्लोदश और अफगानिस्तान से भारत में आकर लॉन्ग टर्म वीजा पर रह रहा है और वो व्यक्ति इन देशों में धार्मिक अल्पसंख्यक की श्रेणी में आता है तो भारत सरकार उसे भारत में केवल एक NRO अकाउंट खोलने की अनुमति देगी. जब उस व्यक्ति को नागरिकता कानून 1955 के तहत भारतीय नागरिकता दे दी जाएगी, तभी इस NRO अकाउंट को आवासीय अकाउंट में बदल दिया जाएगा.

    ये भी पढ़ें: आप भी करते हैं PPF में निवेश तो जान लें ये बात, सरकार ने किए कई बदलाव

    Tags: Bank, Bank branches, Business news in hindi, KYC compliance deadline, RBI

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें