CAIT ने पटाखा बैन करने पर जताई नाराजगी, बताया SC के आदेश का उल्लंघन

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

व्यापारियों के संगठन कैट (CAIT) ने दिल्ली में पर्यावरण सुरक्षा समिति (Delhi Pollution Control Committee) के पटाखों को प्रतिबंधित (Firecracker Ban) करने के फैसले पर नाराजगी व्यक्त की.

  • Share this:
नई दिल्ली. व्यापारियों के संगठन कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (Confederation Of All India Traders) ने दिल्ली में पर्यावरण सुरक्षा समिति (Delhi Pollution Control Committee) के पटाखों को प्रतिबंधित (Firecracker Ban) करने के फैसले पर रविवार को नाराजगी व्यक्त की. कैट ने कहा कि सभी राज्यों तथा केंद्र सरकार की पर्यावरण समितियों को भंग कर दिया जाना चाहिए.

केजरीवाल की चुप्पी पर उठाए सवाल
कैट (CAIT) ने कहा कि दिल्ली पर्यावरण सुरक्षा समिति का पटाखों को प्रतिबंधित करने का निर्णय सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन है. उसने कई लोगों की आजीविका पर इस निर्णय से पड़ने वाले असर को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चुप्पी पर भी सवाल उठाया. कैट ने एक बयान में पूछा कि लाखों लोगों की रोजी रोटी पर केजरीवाल मौन क्यों हैं?

दिल्ली में पटाखे जलाने पर रोक
उल्लेखनीय है कि दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति ने छह नवंबर 2020 को एक आदेश जारी कर सात नवंबर से तीस नवंबर तक दिल्ली में सभी प्रकार के पटाखों की बिक्री और इस्तेमाल को प्रतिबंधित कर दिया.



नुकसान की भरपाई करने की मांग
कैट ने इस बारे में कहा कि यह सुप्रीम कोर्ट के आदेश का एक नितांत उल्लंघन है. उसने सभी राज्यों से पटाखे का व्यापार करने वाले लोगों के नुकसान की भरपाई करने की मांग की.

CAIT ने अमेजन पर एफडीआई पॉलिसी और FEMA नियमों के उल्लंघन का लगाया आरोप
हाल ही में कैट ने ई-कॉमर्स क्षेत्र की प्रमुख कंपनी अमेजन पर एफडीआई नीति और विदेशी मुद्रा प्रबंधन कानून के उल्लंघन का आरोप लगाया था. कैट ने कहा था कि अमेजन ने भारत में बहु-ब्रांड खुदरा गतिविधियों के संचालन के लिए भी सरकार से अनिवार्य अनुमति नहीं ली है. कैट के महासचिव प्रवीन खंडेलवाल ने कहा था कि सार्वजनिक रूप में उपलब्ध विभिन्न दस्तावेज बताते हैं कि अमेजन ने अमेजन इंडिया में लगभग 35,000 करोड़ रुपये का निवेश किया है, जो ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस है. उन्होंने कहा था कि वास्तव में इस मंच पर बहु-ब्रांड खुदरा कारोबार हो रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज