Delhi-NCR समेत 3 राज्यों के पटाखा कारोबारियों को लग सकता है झटका, NGT ने पूछा पटाखा बैन कर देना चाहिए या नहीं?

Delhi-NCR समेत 3 राज्यों के पटाखा कारोबारियों को लग सकता है झटका
Delhi-NCR समेत 3 राज्यों के पटाखा कारोबारियों को लग सकता है झटका

Firecrackers 2020: नेशनल गीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने कहा है कि 7 से 30 नवंबर तक पटाखों को जनता के स्वास्थ को ध्यान में रखते हुए बैन (Ban) कर देना चाहिए या नहीं?

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 3, 2020, 9:53 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पहले से ही लॉकडाउन (Lockdown) की मार झेल रहे पटाखा कारोबार को एक और बडा झटका लग सकता है. दिल्ली-एनसीआर के साथ ही तीन और राज्यों में पटाखे बैन सकते हैं. एक याचिका पर सुनवाई करते हुए नेशनल गीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने कहा है कि 7 से 30 नवंबर तक पटाखों को जनता के स्वास्थ को ध्यान में रखते हुए बैन कर देना चाहिए या नहीं? इस संबंध में एनजीटी ने मिनिस्ट्री ऑफ एनवायरमेंट फारेस्ट एंड क्लाइमेट, दिल्ली (Delhi),  उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान सरकार, दिल्ली पुलिस कमिस्नर, सेंट्रल पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड, दिल्ली पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड (DPCB) को नोटिस जारी किया है. अब इस मामले पर 5 नवंबर को सुनवाई होनी है.

क्या है मामला- पटाखों के संबंध में एनजीटी में एक याचिका दायर की गई है. याचिका में कहा गया है कि दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण के साथ त्योहार के दौरान पटाखों का इस्तेमाल करने से एयर क्वालिटी बेहद खराब होने की आशंका है. ऐसे में कोविड 19 बीमारी के संक्रमण का खतरा और बढ़ने की बात भी याचिका में कही गयी है.

याचिका में केंद्र सरकार के स्वस्थ मंत्री और दिल्ली सरकार के स्वास्थ मंत्री के बयान का हवाला दिया गया है कि दिल्ली में त्योहारों के दौरान एयर पॉल्युशन की वजह से कोविड मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी होगी.



यह भी पढ़ें- मथुरा के मंदिर में नमाज़ पढ़ने को जगह दी और खाना भी खिलाया, तो इसमें अब विवाद क्यों- फैसल खान
यहां तक कि ऐसे स्थिति में रोजाना दिल्ली में कोविड मरीजो की संख्या 15 हज़ार हो सकती है. वरिष्ठ वकील राज पंजवानी और वकील शिवानी घोष को एनजीटी ने इस मामले में एमिकस नियुक्त किया है.

सरकार के इस कदम से नाराज़ हैं पटाखा कारोबारी-पटाखा कारोबारी अजय गुप्ता का कहना है, “पूरे साल की कवायद के बाद दिवाली और शादी-पार्टी के मौके पर चलाने के लिए पटाखे तैयार हो पाते हैं. लेकिन जब दिवाली पर पटाखों की सबसे ज़्यादा सेल करने का मौका आता है तो सरकारी फरमान आने शुरू हो जाते हैं.

दिल्ली सरकार के मंत्री गोपाल राय ने सामान्य पटाखे चलाने वालों पर एक लाख रुपये तक का जुर्माना लगाने की बात कही है. केन्द्र सरकार ने प्रदूषण फैलाने वालों के खिलाफ जुर्माना और सजा दोनों की बात कही है. इससे पटाखे बेचने और खरीदने वालों में एक डर पैदा हो जाता है. मालूम पड़ा जितने कमाए नहीं उससे ज़्यादा जुर्माने में चले गए. ग्रीन पटाखे बेचने और खरीदने वालों में भी दहशत हो जाती है.”
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज