Home /News /business /

flight fare becomes more costlier jet fuel price hiked by 62 percent since january prdm

झटका! हवाई सफर हो सकता है और महंगा, पांच महीने में करीब 62% बढ़ चुके हैं एटीएफ के दाम, आज भी हुई इतनी बढ़ोतरी

एटीएफ की कीमतों में हर 15 दिनों पर बदलाव होता है.

एटीएफ की कीमतों में हर 15 दिनों पर बदलाव होता है.

साल 2022 की शुरुआत से ही हवाई ईंधन के दाम आसमान की ओर जा रहे हैं. सरकार ने जनवरी से अब तक जेट फ्यूल की कीमतों में 50 हजार रुपये से भी ज्‍यादा की बढ़ोतरी कर दी है. इसका सीधा असर हवाई यात्रियों की जेब पर पड़ेगा. सोमवार को भी जेट फ्यूल के दाम 5 फीसदी बढ़ाए गए हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. महामारी की मार से उबर रहे विमानन क्षेत्र पर अब महंगाई का दबाव दिख रहा है. ग्‍लोबल मार्केट में कच्‍चे तेल के दाम बढ़ने की वजह से एविएशन टरबाइन फ्यूल (ATF) यानी हवाई ईधन के दाम लगातार बढ़ते जा रहे हैं. सोमवार को हुई ताजी बढ़ोतरी के बाद अब हवाई सफर और महंगा हो जाएगा.

सीएनबीसी टीवी18 की रिपोर्ट के मुताबिक, इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) ने सोमवार को जेट फ्यूल की कीमतों में 5 फीसदी की बढ़ोतरी की है. अब हवाई ईंधन का मूलय 1.23 लाख रुपये प्रति किलोलीटर पहुंच गया है. इसका सीधा असर हवाई सफर करने वाले यात्रियों पर पड़ेगा, क्‍योंकि विमानन कंपनियां अपनी लागत वसूलने के लिए जल्‍द ही हवाई किराये में और वृद्धि कर सकती हैं.

ये भी पढ़ें – CNG की कीमतों में फिर बढ़ोतरी, जानिए पेट्रोल डीजल के हाल, चेक करिए आज का लेटेस्ट रेट

जनवरी से अब तक 51 हजार रुपये बढ़े दाम
हवाई यात्रियों पर महंगे ईंधन का बोझ किस कदर बढ़ रहा है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सरकार ने साल 2022 में जनवरी से अब तक हवाई ईंधन की कीमतों में 50,938 रुपये की बढ़ोतरी की है. पिछले साढ़े चार महीने में ही हवाई ईंधन की कीमतों में 61.7 फीसदी की बढ़ोतरी की जा चुकी है. 2022 की शुरुआत में एटीएफ का मूल्‍य 72,062 रुपये प्रति किलोलीटर था, जो अब बढ़कर 1.23 लाख रुपये पहुंच गया है.

हालांकि, पेट्रोलियम कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों को अभी स्थिर रखा है और करीब 40 दिनों से इसमें कोई बदलाव नहीं किया है. आखिरी बार पेट्रोल-डीजल की कीमत 6 अप्रैल को बढ़ाई गई थी. इससे पहले मार्च में पेट्रोल की कीमत 6.40 रुपये और अप्रैल में 3.60 रुपये प्रति लीटर बढ़ाई गई थी.

भारत पर आयात का बोझ ज्‍यादा
देश में ईंधन की कुल जरूरत का करीब 80 फीसदी आयात किया जाता है. यही कारण है कि ग्‍लोबल मार्केट में कीमतें बढ़ने का भारत पर सबसे ज्‍यादा असर पड़ता है. तेल कंपनियां भी बाहर से महंगा ईंधन मंगाकर यहां खुदरा मूल्‍य में बेचती हैं, जिस पर सरकार भी भारी भरकम टैक्‍स वसूलती है और ईंधन की खुदरा कीमत के दाम काफी बढ़ जाते हैं. एटीएफ की कीमतों में हर 15 दिनों पर बदलाव किया जाता है. इससे पहले 1 मई को हवाई ईंधन के दाम बदले थे.

ये भी पढ़ें – 7th Pay Commission : जुलाई में बढ़ सकता है कर्मचारियों का महंगाई भत्‍ता, हो सकता है इतना इजाफा

ताबड़तोड़ महंगी हो रही सीएनजी
पेट्रोल-डीजल की कीमतों को अभी स्थिर रखा है तो सीएनजी के दाम लगातार बढ़ाए जा रहे हैं. इंद्रप्रस्‍थ गैस लिमिटेड (IGL) ने 15 मई को दिल्‍ली एनसीआर में सीएनजी की कीमत 2 रुपये प्रति किलोग्राम बढ़ा दी है. इस बढ़ोतरी के बाद दिल्‍ली में सीएनजी 73.61 रुपये प्रति किलोग्राम पहुंच गई तो नोएडा में यह 76.17 रुपये प्रति किलोग्राम के भाव बिक रही है. इसके अलावा गुरुग्राम में 81.94 रुपये प्रति किलो का मूल्‍य पहुंच गया है.

Tags: Aviation News, Flight fare

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर