• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • कोरोनाकाल में पूरी तरह सुरक्षित हवाई यात्रा! कोरोना संक्रमण की संख्या लगभग ना के बराबर

कोरोनाकाल में पूरी तरह सुरक्षित हवाई यात्रा! कोरोना संक्रमण की संख्या लगभग ना के बराबर

अमेरिका में फ्लाइट में महिला की तबियत बिगड़ी और मौत हो गई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अमेरिका में फ्लाइट में महिला की तबियत बिगड़ी और मौत हो गई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

हर वो व्यक्ति जिसे इस कोरोना काल (Corona Time) में यात्रा करनी पड़ रही है के मन में यह सवाल जरूर होगा कि हवाई यात्रा (Flight Travel) के दौरान कोरोना संक्रमण की कितनी संभावना है. ऐसे लोगों के लिए एक राहत की खबर है.

  • Share this:
नई दिल्ली. हर वो व्यक्ति जिसे इस कोरोना काल (Corona Time) में यात्रा करनी पड़ रही है के मन में यह सवाल जरूर होगा कि हवाई यात्रा (Flight Travel) के दौरान कोरोना संक्रमण की कितनी संभावना है. ऐसे लोगों के लिए  एक राहत की खबर है. ताजा आंकड़े बताते हैं कि हवाई यात्रा के दौरान कोरोना संक्रमण की संख्या लगभग ना के बराबर है.

सुरक्षित है हवाई यात्रा 
नागरिक विमानन मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक लॉकडाउन के बाद से अब तक देश में लगभग 65 लाख से ज्यादा यात्रियों में घरेलू उड़ान भरी है. सिर्फ 2044 लोग हवाई यात्रा के बाद कोरोना पॉजिटिव पाए गए.  इनमें वे लोग भी शामिल हैंं जिनसे कॉंटेक्ट ट्रेसिंग के जरिए के माध्यम से संपर्क किया गया. 25 मई 2020 घरेलू उड़ानों का संचालन हो रहा है हालांकि फिलहाल  यह  केवल 45 प्रतिशत क्षमता के साथ उड़ान भर रहे हैं.

सरकार का क्या कहना है?
नागरिक विमानन मंत्रालय के मुताबिक हवाई यात्रा पूरी तरह सुरक्षित है और इसके लिए लगातार कदम उठाए जा रहे हैं. चेक-इन से लेकर बोर्डिंग और चेक आउट तक सोशल डिस्टेंसिंग के कड़े नियम बनाए गए हैं. हर एयरलाइन भी अपनी तरफ से यात्रा को सुरक्षित बनाने की कोशिश कर रही है.

उषा पाढ़ी, ज्वाएंट सेक्रेटरी, नागरिक विमानन मंत्रालय ने कहा कि हमारा अनुभव और आंकड़े साफ कहते हैं कि हवाई यात्रा काफी सुरक्षित है. इसके बावजूद हम यात्रियों की सुरक्षा को लेकर कई कदम उठा रहे हैं.

हवाई यात्रा के बाद कोरोना पॉजिटिव के मामले
कुल- 2044
इंडिगो - 1196
स्पाइसजेट- 367
एयर एशिया - 125
गो एयर 122
एयर इंडिया - 80
विस्तारा - 75
ट्रू जेट - 52

वैज्ञानिकों का क्या कहना है?
Massachusetts Institute of Technology के Sloan School of Management  के शोध के मुताबिक अगर सभी यात्री मास्क पहने तो हवाई यात्रा के दौरान कोरोना वायरस से संक्रमित होने की संभावना 4300 में से सिर्फ 1 है. वहीं अगर बीच की सीट खाली रखी जाए तो ये संभावना अंतर पर बैठने वाले यात्रियों के लिए घटकर 7700 में से सिर्फ एक रह जाएगी. ये अनुमान तब के लिए है जब विमान पूरी क्षमता से उड़ान भर रहे हों. अधिकतर विमानों में आधुनिक एयर प्यूरीफायर का इस्तेमाल किया जाता है जो हर 3 मिनट में हवा को बदलते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज