Home /News /business /

flights evacuated from bengaluru hal airport delsp

 एयरपोर्ट से पूरे साल में नहीं उड़ा एक भी यात्री, तीन उड़ानें गईं खाली, जानें देश के ऐसे एयरपोर्ट

एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया की रिपोर्ट . (फोटो: Samantha McCuillon)

एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया की रिपोर्ट . (फोटो: Samantha McCuillon)

देश में दिल्‍ली, मुंबई,,बेंगलुरू, हैदाराबाद ऐसे एयरपोर्ट हैं, जहां दिनरात यात्रियों की मारामारी रहती है, लेकिन कुछ एयरपोर्ट ऐसे भी हैं, जहां से पूरे साल में एक भी यात्री ने उड़ान नहीं भरी. यहां से आने-जाने वाली तीन उड़ानें खाली गईं. इसी तरह कई और एयरपोर्ट हैं, जहां से औसतन पूरे साल प्रति विमान एक या दो यात्रियों ने सफर किया है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. देश में दिल्‍ली, मुंबई, बेंगलुरू, हैदाराबाद ऐसे एयरपोर्ट हैं, जहां दिन-रात यात्रियों की मारामारी रहती है, लेकिन कुछ एयरपोर्ट ऐसे भी हैं, जहां से पूरे साल में एक भी यात्री ने उड़ान नहीं भरी. यहां से आने-जाने वाली तीन उड़ानें खाली गईं. इसी तरह कई और एयरपोर्ट हैं, जहां से औसतन पूरे साल प्रति विमान एक या दो यात्रियों ने सफर किया है. इसकी जानकारी स्‍वयं नागरिक उड्डयन राज्‍य मंत्री जनरल वीके सिंह ने पिछले दिनों संसद में दी. उन्‍होंने एक सवाल के जवाब में यात्रियों और विमानों की आवाजाही का डाटा पेश किया.

एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया के  अनुसार वर्ष 2020-21 में देशभर से कुल 118 एयरपोर्ट से 12 लाख  के करीब विमानों की आवाजाही हुई. इनमें1.15 करोड़ यात्रियों ने सफर किया है. हालांकि यह वित्‍तीय वर्ष कोरोना की पहली लहर के दौरान का है, जब करीब दो माह तक सभी शेड्यूल फ्लाइट बंद थीं.

ऐसा हवाई अड्डा जहां से एक भी यात्री ने सफर नहीं किया

बेंगलुरू एचएएल एयरपोर्ट से पूरे साल में तीन उड़ानों की आवाजाही हुई, लेकिन इन तीनों उड़ानों में एक भी यात्री ने सफर नहीं किया. यानी यह एयरपोर्ट देश का इकलौता एयरपोर्ट रहा, जहां से तीनों उड़ानें खाली उड़ीं. वहीं, सफदरजंग एयरपोर्ट एक ऐसा एयरपोर्ट है, जहां से उड़ानों की संख्‍या अधिक है, लेकिन यात्रियों की संख्‍या कम रही. इस एयरपोर्ट से पूरे साल में 12 उड़ानों की आवाजाही हुई और केवल 9 यात्रियों ने ही सफर किया.

हिसार एयरपोर्ट से औसतन प्रति विमान एक यात्री ने उड़ान भरी

हरियाणा का हिसार एयरपोर्ट ऐसा है, जहां से औसतन एक उड़ान में एक यात्री ने सफर किया है. इस एयरपोर्ट से पूरे साल में 210 विमानों की आवाजाही हुई है. इन 210 उड़ानों में केवल 220 यात्रियों ने सफर किया है. इस तरह औसतन करीब एक व्‍यक्ति ने प्रति उड़ान सफर किया.

दो से तीन यात्री प्रति उड़ान वाले ये हैं एयरपोर्ट

देश में ऐसे हवाई अड्डे भी कई और हैं, जहां से प्रति उड़ान एक या दो व्‍यक्ति सवार हुए. शोलापुरी, कूचबिहार और तेजु जैसे कुछ एयरपोर्ट हैं. शोलापुरी एयरपोर्ट से पूरे साल में 8 विमानों की आवाजाही हुई, इनमें 13 यात्रियों ने सफर किया. कूचबिहार और तेजु एयरपोर्ट से चार-चार विमानों की आवाजाही हुई हैं. इसमें क्रमश: आठ और नौ यात्रियों ने सफर किया.

 एक्‍सपर्ट बोले, रूटों का अवलोकन करना चाहिए

एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन वीपी अग्रवाल बताते हैं कि अगर किसी एयरपोर्ट से सवारियों कम या नहीं निकल रहीं हैं तो उसका बारीकी से अवलोकन करना चाहिए. कई बार सही समय और सही कनेक्‍टीविटी न मिलने से यात्री सफर करने से बचते हैं. इसके अलावा नियमित उड़ान न होने की वजह से यात्री हवाई मार्ग के बजाए सड़क मार्ग से जाना पसंद करते हैं. इसलिए इन एयरपोर्ट की स्‍टडी करनी चाहिए.

स्रोत:एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया

Tags: Domestic flight, Flight, Flight Passenger, Ministry of civil aviation

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर