UK के लिए 6 जनवरी से शुरू होंगी फ्लाइट्स, Britain से आने वाले यात्रियों के लिए गाइडलाइंस जारी

ब्रिटेन के लिए 6 जनवरी से हवाई सेवा शुरू होगी.

ब्रिटेन के लिए 6 जनवरी से हवाई सेवा शुरू होगी.

भारत (India) से ब्रिटेन (Britain) के लिए 6 जनवरी (6 January) से उड़ान सेवाएं शुरू हो जाएंगी. वहीं ब्रिटेन से भारत के लिए 8 जनवरी को फ्लाइट सेवा शुरू होगी. फिलहाल दोनों देशों के बीच सप्ताह में 30 उड़ानें संचालित होंगी.

  • Share this:

नई दिल्ली. ब्रिटेन (UK) में कोरोना वायरस (Coronavirus) का नया स्ट्रेन मिलने के बाद भारत सरकार ने ब्रिटेन की सभी फ्लाइट पर प्रतिबंध लगा दिया था. जिसे सरकार 6 जनवरी से हटाने जा रही है. आपको बता दें ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन मिलने की वजह से भारत के साथ करीब 40 देशों ने हवाई यात्रा सहित अन्य मार्ग से यातायात पर प्रतिबंध लगा दिया था. लेकिन अब सरकार ने ब्रिटन से अपनी उड़ान सेवाओं को फिर से बहाल करने का फैसला किया है. इस बारे में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि, भारत से ब्रिटेन के लिए 6 जनवरी से उड़ान सेवाएं शुरू हो जाएंगी. वहीं ब्रिटेन से भारत के लिए 8 जनवरी को फ्लाइट सेवा शुरू होगी. इसके साथ ही उन्होंने बताया की सप्ताह में दोनों देशों के बीच 30 उड़ानें संचालित होंगी.  

15-15 फ्लाइट का होगा संचालन- नागरिक उड्डयन मंत्रालय के अनुसार दोनों देशों के बीच सप्ताह में 15-15 उड़ानों का संचालन होगा. वहीं उन्होंने बताया कि फिलहाल ये सेवा 23 जनवरी तक के लिए लागू की गई है. यदि इस दौरान सबकुछ सामान्य रहा तो फ्लाइट की संख्या में आगे विस्तार किया जा सकता है. आपको बता दें ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नया स्ट्रेन मिलने के बाद केंद्र सरकार ने 23 दिसंबर से लेकर 31 दिसंबर तक के लिए ब्रिटेन की सभी फ्लाइट के संचालन को रोक लगाई थी. वहीं सरकार ने बाद में इस प्रतिबंध को बढ़ाते हुए 7 जनवरी तक कर दिया था.


भारत सरकार ने जारी किया SOPs - ब्रिटेन से आने वाले यात्रियों के लिए भारत सरकार ने SOPs जारी किए हैं. ये गाइडलाइंस ब्रिटेन से भारत आने वाले सभी यात्रियों पर लागू होंगे. SOPs में कहा गया है कि ब्रिटेन से भारत आने वाले हर व्यक्ति के लिए कोरोना नेगेटिव टेस्ट की रिपोर्ट लाना अनिवार्य होगा. एयरलाइंस के स्टाफ को भी उड़ान भरने की इजाजत देने से पहले कोविड-19 टेस्ट करानी होगी, उसके बाद ही वे उड़ान भर पाएंगे. भारत आने पर यात्रियों को खुद भुगतान करके RT-PCR टेस्ट करवाना होगा. यात्रियों की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर भी उनको 14 दिनों के लिए उनके घर पर क्वारंटीन रहना होगा. यह SOPs 30 जनवरी तक लागू रहेगा. इसके तहत सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को अपने 14 दिनों की ट्रैवल हिस्ट्री भी दिखानी होगी.
यह भी पढ़ें: BPCL में हिस्सेदारी बेचकर सरकार जुटाना चाहती है 90 हजार करोड़ रुपये, इन कंपनियों ने लगाई बोली

हर एयरपोर्ट पर हेल्प डेस्क बनेगा- ब्रिटेन से भारत आने वाले यात्रियों को यात्रा से कम से कम 72 घंटे पहले ऑनलाइन पोर्टल पर सेल्फ-डेक्लेरेशन पत्र जमा करना होगा. यात्रियों की मदद करने के लिए हर एयरपोर्ट पर हेल्प डेस्क बनाने की भी बात की गई है. जिन यात्रियों को कोरोना संक्रमित पाया जाएगा उन्हें राज्य स्वास्थ्य विभाग के हवाले कर दिया जाएगा. उनके नमूनों को आगे की जांच के लिए Genomics Consortium (INSTA COG) Labs भेजा जाएगा. अगर जांच में पाया जाता है कि यात्री नए कोरोना वायरस स्ट्रेन से संक्रमित हुआ है तो उसे अलग कमरे में रखा जाएगा और उसका इलाज तब तक चलता रहेगा जब तक कि वह कोरोना नेगेटिव नहीं हो जाता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज