अब आपके दरवाजे से प्लास्टिक इकट्ठा करेगी Flipkart, जानिए क्या है प्लान

अब आपके दरवाजे से प्लास्टिक इकट्ठा करेगी Flipkart, जानिए क्या है प्लान
फ्लिपकार्ट

भारत में सिंगल यूज प्लास्टिक (Single Use Plastic) को कम करने के लिए वालमार्ट (Walmart) की स्वामित्व वाली फ्लिपकार्ट (Flipkart) ने एक पायलट प्रोग्राम शुरू किया है. इस प्रोग्राम के तहत कंपनी ग्राहकों के दरवाजे से पैकेजिंग में इस्तेमाल हुए प्लास्टिक को रिसाइकिल करने के लिए वापस लेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2019, 9:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वॉलमार्ट (Walmart) की स्वामित्व वाली ई-कॉमर्स कंपनी ​फ्लिपकार्ट (Flipkart) ने गुरुवार को जानकारी दी है कि ग्राहकों से प्लास्टिक पैकेजिंग वापस लेगी ताकि उसे रिसाइकिल (Plastic Recylcing) कर सही तरीके से इस्तेमाल किया जा सके. कंपनी ने यह भी जानकारी दी है कि इस प्रोग्राम को सबसे पहले ​सात शहरों में शुरू किया जाएगा, जिसमें मुंबई, दिल्ली, बेंगलुरु और देहरादून भी शामिल है.​ फ्लिपकार्ट इस पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू कर रहा है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि कंपनी के सिस्टम में प्लास्टिक पैकेजिंग को सही ढंग से रिसाइकिल और रियूज किया जा सके.

डिलीवरी स्टाफ को दी गई ट्रेनिंग
इस प्रोग्राम के तहत​ फ्लिपकार्ट अपने ग्राहकों को एक मैसेज भेजेगा ताकि वो पैकेजिंग में इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक को डिलीवरी ब्वॉय को वापस कर सकें. इसके बाद प्लास्टिक के इन प्रोडक्ट्स को वेंडर्स को वापस सौंप दिया जाएगा. कंपनी ने यह भी जानकारी दी है कि इसके लिए डिलीवरी स्टाफ को ट्रेनिंग दे दी गई है. इस पायलट प्रोजेक्ट को मुबई, बेंगलुरु, देहरादून, दिल्ली, कोलकात, पुणे और अहमदाबाद में शुरू किया जा चुका है.

ये भी पढ़ें: जिस प्याज को किसान ने 15 रुपये किलो बेचा, जानिए कैसे बाजार में उसका दाम 100 रुपये पहुंचा



33 फीसदी कम किया सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल
बता दें कि फ्लिपकार्ट ने अपने सस्टेनेबिलिटी प्रोग्राम के तहत सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल को 33 फीसदी तक कम कर दिया है. कंपनी ने लक्ष्य रखा है कि मार्च 2021 तक वह 100 फीसदी रिसाकिल प्लास्टिक का ही इस्तेमाल कर सके.

कंपनी ने फाइल किया है EPR
ई-कॉमर्स की इस कंपनी ने EPR यानी एक्सटेन्डेड प्रोड्यूसर रिस्पॉन्सिबिलिटी भी फाइल किया है. कंपनी को उम्मीद है कि पहले साल में कम से कम 30 फीसदी प्लास्टिक का कलेक्शन कर सकेगी. EPR के अंतर्गत, कंपनियों को ​जिम्मेदारी दी जाती है कि वो पोस्ट कंज्यूमर प्रोडक्ट्स को सही तरीके से डिस्पोज कर सकें.

ये भी पढ़ें: RBI अगले महीने दे सकता है सस्ती ब्याज दरों का ​तोहफा, हो सकती है इतनी कटौती
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading