अपना शहर चुनें

States

कोरोना वायरस की वजह से बंद हुई ये विमान कंपनी, यात्रियों पर होगा बड़ा असर

ब्रिटिश विमान कंपनी फ्लाइब
ब्रिटिश विमान कंपनी फ्लाइब

ब्रिटिश एयरलाइन कंपनी फ्लाइब (FlyBe) का संचालन बंद हो चुका है. इसके पहले भी मोनार्क और थॉमस कुक जैसी विमान कंपनियां बंद हो चुकी हैं. इस विमान कंपनी के जरिए हर साल 80 लाख से अधिक यात्री ट्रैवल करते हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. ब्रिटिश एयरलाइन कंपनी फ्लाइब (FlyBe) का संचालन पूरी तरह से बंद हो चुका है. इसके साथ ​ही अब कंपनी के 2,000 से अधिक कर्मचारियों के लिए नौकरी खोने का खतरा बढ़ गया है. कंपनी ने अपने एक बयान में कहा है कि कोरोना वायरस (Cornonavirus) की वजह से संचालन पर असर पड़ा. हालांकि, फ्लाइब के वित्तीय रूप से दिवालिया होने के पीछे कोरोना वायरस के अलावा अन्य कारण भी बताए जा रहे हैं. कंपनी ने अपने ग्राहकों को सलाह दी है कि जब तक उनके द्वारा बुक किए गए टिकट की कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की जाती है, तब तक वे एयरपोर्ट ना जाएं.

कंपनी ने क्या कहा?
इस ब्रिटिश विमान कंपनी के चीफ एग्जीक्यूटिव मार्क एंडरसन ने कहा, 'हर तरह की कोशिश के बाद भी हमारे पास कोई भी विकल्प नहीं बचा है. अपना ​कारोबार जारी रखने के लिए हमारे पास कोई रास्ता नहीं है. मैं निराश हूं कि विमान कंपनी के संचालन के लिए हम पर्याप्त फंड नहीं जुटा पाए.' अब फ्लाइब का संचालन बंद होने के बाद ग्राहकों को कई बातों के बारे में जानना जरूरी हो गया है, जिसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: RBI के डिप्टी गवर्नर एन एस विश्वनाथन ने दिया इस्तीफा!
फ्लाइब के बंद होने के बाद कितने लोगों पर असर पड़ेगा?


कंपनी द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, यूनाइटेड किंग्डम (UK) और यूरोप के 71 एयरपोर्ट के जरिए यह कंपनी संचालन करती थी. कंपनी ने दावा किया था कि हर साल करीब 80 लाख लोग उसकी फ्लाइट से यात्रा कर रहे हैं. ऐसे में अब कंपनी बंद हो जाने के बाद इन लोगों को वैकल्पिक रास्ता निकालना पड़ेगा. इसके अलावा कंपनी में 2,000 से अधिक कर्मचारी काम करते हैं, जिनकी नौकरी पर खतरा है.

मौजूदा ग्राहकों पर क्या असर पड़ेगा?
इसके पहले भी कई एयरलाइन बंद हो चुकी हैं. मोनार्क एयरलाइन और थॉमस कुक भी बंद हो चुकी है. इस दौरान कई सिविल एविएशन अथॉरिटी ने ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट से उन ग्राहकों को वैकल्पिक व्यवस्था करने को कहा था जो पहले से छुट्टियों पर थे. हालांकि, फ्लाइब के मामले में अभी तक सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया है.

यह भी पढ़ें: जॉब करने वालों और पेंशनर्स के लिए EPFO की नई सर्विस शुरू, यहां जानें सबकुछ

क्या ट्रैवलर्स को रिफंड मिलेगा?
कुछ ट्रैवल इंश्योरेंस कंपनियां फ्लाइट टिकट कैंसिल होने पर ग्राहकों को हर्जाना भर सकती हैं. लेकिन हर पॉलिसी कवरेज में यह शामिल नहीं होता है. फ्लाइब के जरिए सीधे तौर पर खरीदे गए एयरटिकट पर ग्राहकों को कोई लाभ नहीं मिलेगा. वहीं, अन्य ट्रैवल कंपनियों के जरिए बुक किए टिकट पर ग्राहकों को लाभ मिल सकता है.

किस तरह की बुकिंग्स सुरक्षित हो सकती हैं?
बुकिंग्स सुरक्षित होने की बात करें तो, पैकेज वाली स्कीम्स अधिक सुरक्षित हो सकती हैं. इन पैकेज में फ्लाइट्स और ठहरने की व्यवस्था शामिल है.

यह भी पढ़ें: इस फाइनेंशियल ईयर में कितनी बढ़ेगी आपकी सैलरी, कंपनियों ने जारी किए आंकड़े
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज