Home /News /business /

FM निर्मला सीतारमण का दावा - वित्‍त वर्ष 2022 में दोहरे अंक के करीब रहेगी भारत की GDP Growth

FM निर्मला सीतारमण का दावा - वित्‍त वर्ष 2022 में दोहरे अंक के करीब रहेगी भारत की GDP Growth

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, उभरते हुए बाजारों वाली अर्थव्‍यवस्‍थाओं में तेजी से सुधार हो रहा है.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, उभरते हुए बाजारों वाली अर्थव्‍यवस्‍थाओं में तेजी से सुधार हो रहा है.

वित्‍त मंत्री निर्मला सीतामरण (FM Nirmala Sitharaman) ने कहा कि वित्‍त मंत्रालय ने अभी तक आर्थिक वृद्धि के आंकड़ों (Growth Numbers) को लेकर कोई आकलन नहीं किया है. लेकिन, विश्‍व बैंक (World Bank) समेत अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) और कई रेटिंग एजेंसियों (Rating Agencies) के मुताबिक भारत वित्‍त वर्ष 2022 में दोहरे अंक में वृद्धि हासिल करेगा.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. केंद्रीय वित्‍त मंत्री निर्मला सीतामरण (FM Nirmala Sitharaman) का कहना है कि भारत तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्‍यवस्‍थाओं (Fastest Growing Economies) में एक है. देश मौजूदा वित्‍त वर्ष के दौरान दोहरे अंक के करीब जीडीपी बढ़ोतरी (Double Digit Growth) की दिशा में बढ़ रहा है. उन्‍होंने कहा कि वित्‍त वर्ष 2022 में देश की आर्थिक वृद्धि (Economic Growth) 7.5 फीसदी से लेकर 8.5 फीसदी के दायरे में रहेगी. उन्‍होंने जोर देकर कहा कि ये आर्थिक वृद्धि दर अगले दशक तक कायम रहेगी.

    ‘दुनिया में सबसे ज्‍यादा रहेगी भारत की आर्थिक वृद्धि दर’
    वित्‍त मंत्री सीतारमण ने हार्वर्ड केनेडी स्‍कूल में संवाद के दौरान कहा कि इस साल हम भारत की आर्थिक वृद्धि दर दोहरे अंकों के आसपास देख रहे हैं, जो दुनिया के किसी भी देश के मुकाबले सबसे ज्‍यादा होगी. वहीं, इस साल के आधार पर अगले वित्‍त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ 8 फीसदी के दायरे में रहेगी. उन्‍होंने कहा कि अभी तक वित्‍त मंत्रालय ने आर्थिक वृद्धि के आंकड़ों (Growth Numbers) को लेकर कोई आकलन नहीं किया है. फिर भी विश्‍व बैंक (World Bank) समेत अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) और कई रेटिंग एजेंसियों (Rating Agencies) के आकलन के मुताबिक भारत वित्‍त वर्ष 2022 में दोहरे अंक में वृद्धि हासिल करेगा.

    ये भी पढ़ें- Alibaba के संस्‍थापक जैक मा हॉन्‍ग कॉन्‍ग में फिर आए नजर! कारोबारी सहयोगियों से मुलाकात भी की

    ‘उभरती हुई अर्थव्‍यवस्‍थाएं ग्‍लोबल इकोनॉमी को देंगी मजबूती’
    केंद्रीय मंत्री सीतारमण ने कहा कि भारत के प्रमुख उद्योगों में जारी विस्‍तार की मौजूदा दर को देखें तो आर्थिक वृद्धि दर अगले एक दशक तक 7.5 फीसदी से 8.5 फीसदी के दायरे में रहेगी, जिसके कम होने की कोई स्‍पष्‍ट वजह नजर नहीं आ रही है. वहीं, ग्‍लोबल इकोनॉमी को लेकर उन्‍होंने कहा कि पूरी दुनिया के लिए कोई एक मानक नहीं हो सकता है. उभरते हुए बाजारों वाली अर्थव्‍यवस्‍थाओं में तेजी से सुधार हो रहा है. इनके लगातार तेजी दर्ज करने की उम्‍मीद नजर आ रही है. इनमें इतनी सामर्थ्‍य नजर आ रही है कि ये ग्‍लोबल इकोनॉमी को भी अपने साथ आगे की ओर ले जाएंगी.

    ये भी पढ़ें- LPG Latest Price: अब सिर्फ 634 रुपये में मिलेगा रसोई गैस सिलेंडर, जानें कैसे उठाएं फायदा

    20.1% रही है पहली तिमाही की वास्‍तविक जीडीपी ग्रोथ
    औद्योगिक संगठन पीएचडीसीसीआई ने इस बीच कहा है कि वित्‍त वर्ष 2021-22 के दौरान भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था 10.25 फीसदी जीडीपी ग्रोथ हासिल कर सकती है. पीएचडी चैंबर का कहना है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया व सरकारी की प्रभावी नीतियों और कारोबारी धारणा में सुधार की वजह से ऐसा होगा. वहीं, रिजर्व बैंक ने पिछले सप्‍ताह मौजूदा वित्‍त वर्ष के लिए आर्थिक वृद्धि के अनुमान को 9.5 फीसदी पर बरकरार रखा है. राष्‍ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने 31 अगस्‍त को कहा था कि वित्‍त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में देश की वास्‍तविक जीडीपी ग्रोथ 20.1 फीसदी रही है. आरबीआई ने अगले वित्‍त वर्ष की पहली तिमाही में 17.2 फीसदी की जीडीपी ग्रोथ का अनुमान जताया है.

    Tags: Economic growth, FM Nirmala Sitharaman, GDP growth, Harvard Study, IMF, India's GDP, Indian economy, RBI

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर