• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • वित्त मंत्री का ऐलान, सरकार ने बैड बैंक के लिए 30600 करोड़ रुपये की गारंटी मंजूर की

वित्त मंत्री का ऐलान, सरकार ने बैड बैंक के लिए 30600 करोड़ रुपये की गारंटी मंजूर की

निर्मला सीतारमण

निर्मला सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने ऐलान किया कि बैड बैंक की तरफ से बैंकों को जारी की जाने वाली सिक्योरिटी रिसीट को सरकारी गांरटी होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने गुरुवार को बहुप्रतीक्षित बैड बैंक (Bad Bank) के गठन का ऐलान किया. उन्होंने कहा कि सरकार नेशनल एसेट रीकंस्ट्रक्शन कंपनी (NARCL) यानी बैड बैंक की तरफ से बैंकों को जारी होने वाली सिक्योरिटी रिसीट को गांरटी देगी. यह गारंटी 30,600 करोड़ रुपये की होगी. बता दें कि वित्त मंत्री ने इस साल के बजट में बैड बैंक की स्थापना को लेकर घोषणा की थी.

    प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि पिछले छह सालों में 5 लाख करोड़ से ज्यादा बैड लोन की रिकवरी की गई. मार्च 2018 से अब तक 3 लाख करोड़ से ज्यादा रिकवरी की गई. सिर्फ 2018-19 में बैंकों ने 1.2 लाख करोड़ रुपए का लोन रिकवर किया जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है. इस दौरान कुछ कंपनियों के राइट-ऑफ हो चुके लोन की भी वसूली की गई.

    इंडिया डेट रिजॉल्यूशन कंपनी के गठन का भी ऐलान
    वित्त मंत्री ने कहा कि बैड बैंक के अलावा इंडिया डेट मैनेजमेंट कंपनी का भी गठन किया गया है. पब्लिक सेक्टर बैंकों के पास डेट मैनेजमेंट कंपनी में 49 फीसदी हिस्सेदारी होगी. वहीं, सरकारी बैंकों के पास एनएआरसीएल में 51 फीसदी हिस्सेदारी होगी.

    साल 2021 में केवल दो बैंकों को हुआ घाटा 
    सीतारमण ने कहा कि सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से बैंकों की वित्तीय हालत में काफी सुधार हुआ है. साल 2018 में सार्वजनिक क्षेत्र के 21 में से सिर्फ दो बैंक ही मुनाफे में थे लेकिन साल 2021 में केवल दो बैंकों को घाटा हुआ.

    आईबीए को ‘बैड बैंक’ स्थापित करने का काम सौंपा गया है
    उल्लेखनीय है कि भारतीय बैंक संघ यानी आईबीए (Indian Banks’ Association) को ‘बैड बैंक’ स्थापित करने का काम सौंपा गया है. प्रस्तावित बैड बैंक या एनएआरसीएल (National Asset Reconstruction Co. Ltd) लोन के लिए सहमत मूल्य का 15 फीसदी नकद में भुगतान करेगा और बाकी 85 फीसदी सरकार की गारंटी वाली सिक्योरिटी रिसीट्स में होगा. पिछले महीने आईबीए ने एनएआरसीएल की स्थापना के लिए लाइसेंस हासिल करने के उद्देश्य से आरबीआई के पास आवेदन दिया था.

    ये भी पढ़ें- Cabinet Decisions: केंद्र सरकार के इस बड़े फैसले से लाखों लोगों को मिलेगा रोजगार, जानिए डिटेल

    क्या है बैड बैंक
    एक्सपर्ट्स का कहना है कि बैड बैंक कोई बैंक नहीं है. बल्कि ये एक एसेट रीकंस्ट्रक्शन कंपनी (ARC) है. जी हां, बैंकों के डूबे कर्ज को इस कंपनी के पास ट्रांसफर कर दिया जाएगा. इससे बैंक आसानी से ज्यादा लोगों को लोन से दे सकेंगे और इससे देश की की आर्थिक ग्रोथ रफ्तार पकड़ेगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज