कोरोना वायरस का असर: वित्त मंत्री ने कहा- दवाओं के दाम बढ़ने से न घबराएं, सब कंट्रोल में है

कोरोना वायरस का असर: वित्त मंत्री ने कहा- दवाओं के दाम बढ़ने से न घबराएं, सब कंट्रोल में है
हेल्थ-ऑटो इंश्योरेंस रिन्यू कराने के लिए मिली मोहलत, ये है नई डेडलाइन

कोरोना वायरस (Corona Virus) आपदा की वजह से होने वाले संभावित नुकसानों से निपटने के लिए वित्त मंत्री ने आज फार्मा, केमिकल और सोलर इंडस्ट्री की प्रतिनिधियों से बात की है. उन्होंने कहा कि दवाओं की बढ़ती कीमतों से चिंता की कोई बात नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 18, 2020, 8:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कारोना वायरस (Corona Virus)आपदा से भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) को होने वाले संभावित नुकसान पर मंगलवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने इंडस्ट्री के जानकारों से मुलाकात की. वित्त मंत्री ने कहा कि बहुत जल्द ही केंद्र सरकार व्यापक तौर पर बातचीत के बाद आवश्यक कदम उठाएगी. फार्मा, केमिकल और सोलर इक्विपमेंट इंडस्ट्री ने कोरोना वायरस से अर्थव्यवस्था और बाजार पर असर पड़ने को लगातार अपनी बात रखी. वित्त मंत्री ने कहा कि जरूरी चीजों की कीमतों में इजाफा होने से चिंता की कोई बात नहीं है.

दवाओं के लिए कच्चा माल एयरलिफ्ट करने की मांग
इस बैठक में वित्त मंत्री से फार्मा कंपनियों ने अनुरोध किया की चीन से API  (Active Pharmaceuticals Ingredient)की स्पलाई को एयरलिफ्ट किया जाए. अगर सरकार ऐसा करती है तो आने वाले दिनों में दवाइयों की मैन्युफैक्चरिंग और उपलब्धता की कमी से निपटा जा सकेगा. दवाएं बनाने के लिए जिस कच्चे माल का इस्तेमाल होता है, उसे API कहते हैं.





यह भी पढ़ें: मोदी सरकार के लिए खुशखबरी! दुनिया की 5वीं बड़ी इकोनॉमी बना भारत



 

दवाओं के लिए कच्चा माल एयरलिफ्ट करने की मांग
वित्त मंत्री ने कहा कि कल यानी बुधवार को विभिन्न मंत्रालयों के सचिवों के साथ वो बैठक करेंगी, जिसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) के साथ मिलकर जरूरी कदम उठाया जाएगा. उन्होंने कहा, 'सप्लाई में कुछ दिक्कतें आ सकती हैं और इसे लेकर फार्मा, सोलर और केमिकल कंपनियों के प्रतिनिधियों ने चिंता जताई है.'

हॉस्पिटलों में पर्याप्त दवाएं
बीते दिन ही खबर आई थी कि पैरासिटामोल समेत कई अन्य दवाइयों की कीमतों में इजाफा हो रहा है. इसको लेकर वित्त मंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस की वजह से कीमतों में इजाफा होना कोई चिंता की बात नहीं है. उन्होंने कहा कि ये कहना बहुत जल्दी होगा कि कोरोना वायरस आउटब्रेक की वजह से मेक इन इंडिया पर असर पड़ रहा है. दवाइयों की सप्लाई में कमी होने को लेकर उन्होंने बताया कि हॉ​स्पिटलों में जरूरी दवाओं की कमी नहीं है. हालांकि, मेडिकल इक्विटपमेंट बनाने वाले मैन्युफैक्चरर्स की तरफ से मांग थी कि निर्यात को बैन कर दिया जाए.

70 फीसदी तक महंगी हुई जरूरी दवाइयां
बता दें कि कारोना वायरस की वजह से सबसे अधिक इस्तेमाल होने वाली दवाओं की कीमतों में भारी इजाफा देखने को मिल रहा है. देश में पैरासिटामोल (Paracetamol ) की कीमतों में 40 फीसदी से अधिक का इजाफा हो चुका है. वहीं, बैक्टिरियल इन्फेक्शन (Bacterial Infection) से बचने के लिए इस्तेमाल होने वाली दवा एजिथ्रोमाइसिन (Azithromycin) भी 70 फीसदी तक महंगा हो चुका है. फार्मा कंपनी Zydus Cadila के चेयरमैन पंकज पटेल ने यह जानकारी दी है. पटेल ने कहा ​कि अगर अगले महीने की पहले सप्ताह तक दवाओं की सप्लाई दुरुस्त नहीं की गई तो इससे अप्रैल महीने में फार्मा इंडस्ट्री (Pharma Industry) दवाओं की भारी कमी से जूझ सकता है.

यह भी पढ़ें: नौकरी करने वालों के लिए अब जरूरी हैं ये काम, वरना नहीं निकाल पाएंगे PF के पैसे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading