• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • FM निर्मला सीतारमण ने संसद में किया साफ, आर्थिक संकट से निपटने के लिए ज्‍यादा करेंसी नहीं छापेगा केंद्र

FM निर्मला सीतारमण ने संसद में किया साफ, आर्थिक संकट से निपटने के लिए ज्‍यादा करेंसी नहीं छापेगा केंद्र

केंद्र को कई अर्थशास्‍त्री नए नोट छापने की सलाह दे रहे हैं.

कोरोना संकट के बीच देश की डांवाडोल अर्थव्यवस्था (Indian Economy) को मजबूती देने और लोगों की नौकरियों को बचाने (Job Security) के लिए कई अर्थशास्त्रियों ने सरकार को ज्‍यादा करेंसी नोट छापने (Currency Note Printing) की सलाह दी थी.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. कोरोना संकट के कारण देश की अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) प्रभावित हुई है. पिछले साल से अब तक लाखों लोगों की नौकरियां छिन (Job Loss) गई हैं तो करोड़ों लोगों का रोजगार ठप (Unemployment) हो गया. ऐसे में कई अर्थशास्त्रियों और विशेषज्ञों ने केंद्र सरकार को नए करेंसी नोट छापकर (Print Currency Notes) अर्थव्‍यवस्‍था को मजबूत करने और लोगों की नौकरियों को बचाने (Job Security) का सुझाव दिया. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने आज इसको लेकर संसद में जवाब दिया. उन्‍होंने बताया कि कोरोना महामारी के कारण बने मौजूदा आर्थिक संकट से निपटने के लिए सरकार की करेंसी नोट छापने की कोई योजना नहीं है.

    'जीडीपी में 7.3 फीसदी की कमी आने का है अनुमान'
    वित्‍त मंत्री सीतारमण से सोमवार को लोकसभा में सवाल किया गया था कि क्या आर्थिक संकट से निपटने के लिए करेंसी छापने की कोई योजना है? इस पर उन्‍होंने कहा कि नहीं सर. ऐसी कोई योजना नहीं है. वित्त मंत्री सीतारमण ने लोकसभा में एक अन्य सवाल के लिखित जवाब में कहा कि वित्‍त वर्ष 2020-21 के दौरान भारत के वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद (Actual GDP) में 7.3 प्रतिशत की कमी आने का अनुमान है. उन्होंने कहा कि विकास दर (Growth Rate) में कमी का अनुमान कोरोना महामारी को रोकने के लिए किए गए उपायों के कारण है.

    ये भी पढ़ें- दवाइयों में इस्‍तेमाल होने वाले इस फूल की पैदावार से हर साल कमा सकते हैं ₹15 लाख, जानें कितना आएगा खर्च

    '29 लाख करोड़ से ज्‍यादा के पैकेज की घोषणा की'
    केंद्रीय वित्‍त मंत्री सीतारमण ने कहा कि सरकार ने वित्‍त वर्ष 2020-21 के दौरान आर्थिक विकास को पुनर्जीवित करने और रोजगार बढ़ाने के लिए आत्मानिर्भर भारत (AtmaNirbhar Bharat) के तहत 29.87 लाख करोड़ रुपये के विशेष आर्थिक और व्यापक पैकेज (Stimulus Package) की घोषणा की थी. साथ ही कहा कि कोविड-19 की दूसरी लहर के असर को स्‍थानीय प्रयासों के जरिये काफी कम किया जा सकता है. वहीं, वैक्‍सीनेशन अभियान (Vaccination Drive) की रफ्तार को बढ़ाने से इस पर काबू पाया जा सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज