लाइव टीवी

मोदी सरकार के रिफॉर्म से सुधरी Insolvency रैंकिंग, 52वे स्थान पर पहुंचा भारत: वित्त मंत्री

News18Hindi
Updated: October 24, 2019, 4:07 PM IST
मोदी सरकार के रिफॉर्म से सुधरी Insolvency रैंकिंग, 52वे स्थान पर पहुंचा भारत: वित्त मंत्री
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (ANI)

वर्ल्ड बैंक (World Bank) द्वारा आज ईज ऑफ डूइंग बिजनेस (Ease of Doing Business) रैंकिंग जारी कर दिया है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मोदी सरकार के इन्सॉल्वेंसी और NCLT जैसे रिफॉर्म की वजह से भारत Insolvency Procedure रैंकिंग में 52वें स्थान पर पहुंचा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2019, 4:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ईज ऑफ डूइंग बिजनेस (Ease of Doing Business) पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हम वर्ल्ड बैंक (World Bank) के सामने इस बात पर जोर दे रहे हैं कि केवल दो शहरों को ही देश के प्रतिनिधि के तौर पर नहीं लेना चाहिए. अगले साल बेंगलुरू और कोलकाता में वर्ल्ड बैंक सर्वे करेगा. बता दें कि अभी तक वर्ल्ड बैंक केवल मुंबई और दिल्ली में ही सर्वे करता था.

मोदी सरकार के रिफॉर्म से सुधरी इन्सॉल्वेंसी प्रोसिजर की रैंकिंग
वित्त मंत्री ने कहा कि इन्सॉल्वेंसी, NCLT जैसे रिफॉर्म की वजह से हम इन्सॉल्वेंसी प्रोसिजर की रैंकिंग (Insolveny Procedure Ranking) में इस साल 52वे स्थान पर पहुंचे है. पिछले साल भारत की ये रैंकिंग 108वीं थी. वित्त मंत्री ने कहा कि मैं इस बात से सचेत हूं कि प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) अपना काम बखूबी करता है. जब वो कोई प्रॉपर्टी जब्त करता है तो उसमें कॉरपोरेट प्रॉपर्टी भी शामिल होती है. इससे इन्सॉल्वेंसी प्रोसिडिंग्स में देर होती है. हमें इस परेशानी के बारे में जानकारी है और कोई समाधान निकालने के रास्ते पर काम कर रहे हैं.


Loading...

ये भी पढ़ें: Ease of Doing Business: भारत की रैंकिंग में जबरदस्त उछाल, 63वें नंबर पर पहुंचा देश

टॉप 50 देशों में शामिल होंने के लिए कड़ी मेहनत जारी रखना होगा
ईज ऑफ स्टार्टिंग बिजनेस (Ease of Starting Business) के मामले में इस साल भारत ने मात्र एक ही रैंकिंग का सुधार किया है. इस रैंकिंग में भारत 137वें पायदान पर है. वित्त मंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लक्ष्य को दोहराते हुए कहा कि हमें आगे और भी मेहनत करना होगा ताकि हम टॉप 50 देशों की लिस्ट में शामिल हो सकें.

बता दें कि वर्ल्ड बैंक ने आज ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की रैंकिंग जारी किया है. इस रैंकिंग में भारत ने इस साल 14 पायदान की ऊंची छलांग लगाई है और अब 63वें स्थान पर पहुंच गया है. माना जा रहा है कि इससे भारत को और ज्यादा विदेशी निवेश आकर्षित करने में मदद मिलेगी. पिछले साल भारत इस सूची में टॉप 77वें नंबर पर आ गया था. भारत को ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की सूची में 77वां स्थान मिला था.

वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक, 10 मुल्कों की अर्थव्यवस्थाओं में सुधार हुआ है. इनमें भारत के अलावा सऊदी अरब, जॉर्डन, टोगो, बहरीन, ताजिकिस्तान, पाकिस्तान, कुवैत, चीन, और नाइजीरिया शामिल हैं.

ये भी पढ़ें: विदेश जाने वालों के लिए खुशखबरी! जल्द इन देशों में UPI के जरिए कर सकेंगे पेमेंट

इस आधार पर तय हो है रैंकिंग
रिपोर्ट में किसी कारोबार को शुरू करना, कंस्ट्रक्शन परमिट, क्रेडिट मिलना, छोटे निवेशकों की सुरक्षा, टैक्स देना, विदेशों में ट्रेड, कॉन्ट्रैक्ट लागू करना, कंस्ट्रक्शन परमिट से निपटना, बिजली प्राप्त करना, संपत्ति का पंजीकरण करना, अल्पसंख्यक निवेशकों की रक्षा करना और दिवालिया शोधन प्रक्रिया को आधार बनाया जाता है.

आपको बता दें कि वर्ल्ड बैंक हर साल आसान कारोबार वाले देशों की सूची जारी करता है. इसमें कुल 190 देश होते हैं. मोदी सरकार का सपना इस सूची में भारत को टॉप 50 में लाने का है. इस बार रैंकिंग में भारत का स्थान बहुत महत्वपूर्ण होगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 3:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...