• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • विदेशी पर्यटक भारत में रोजाना ढाई हजार खर्च करते हैं, इन्हें लुभाने के लिए सरकार ने शुरू की बड़ी स्कीम

विदेशी पर्यटक भारत में रोजाना ढाई हजार खर्च करते हैं, इन्हें लुभाने के लिए सरकार ने शुरू की बड़ी स्कीम

कोरोना की वजह से टूरिज्म  (Tourism) सेक्टर को हुए नुकसान की भरपाई के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक राहत पैकेज का ऐलान किया

कोरोना की वजह से टूरिज्म (Tourism) सेक्टर को हुए नुकसान की भरपाई के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक राहत पैकेज का ऐलान किया

विदेशी पर्यटकों को आकर्षिक करने के लिए सरकार 5 लाख फ्री टूरिज्ट वीजा देगी, 100 करोड़ रुपए के राजस्व का होगा नुकसान

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोरोना महामारी का सबसे ज्यादा असर टूर एंड ट्रेवल सेक्टर पड़ा है. लिहाजा, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने सोमवार को आर्थिक राहत पैकेज (covid stimulus measures) में ट्रेवल एंड टूरिज्म सेक्टर (Travel & Tourism sector) के लिए भी बड़े ऐलान किए हैं. उन्होंने पांच लाख विदेशी पर्यटकों को मुफ्त वीजा की पेशकश की है.
    वित्त मंत्री ने विदेशी पर्यटकों के लिए रियायत का कारण बताते हुए कहा कि भारत में जब विदेशी पर्यटक घूमने (Tourism) के लिए आते हैं तो वह कई तरह से भारत में पैसे खर्च करते हैं. इससे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर बहुत से लोगों को रोजगार मिलता है. साल 2019 में देश में करीब एक करोड़ विदेशी टूरिस्ट घूमने (Tourism) आए और उन्होंने 30 अरब डॉलर से अधिक की रकम खर्च की. भारत आने वाले विदेशी पर्यटक आमतौर पर 21 दिनों के लिए आते हैं और वे रोजाना औसतन 34 डॉलर (करीब 2500 रुपए) की रकम खर्च करते हैं. इनमें रहना, खाना पीना और घूमना फिरना आदि शामिल है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि 5,00,000 विदेशी टूरिस्ट को फ्री वीजा दिए जाने की योजना है. सरकार पर इस कदम से 100 करोड़ रुपए का असर पड़ने की आशंका है.
    यह भी पढ़ें : पीएफ अकाउंट को आधार से लिंक कराने में हो रही है दिक्कत तो पहले करें यह काम, जानें पूरी प्रोसेस

    कोरोना संकट का सबसे अधिक असर टूरिज्म पर
    जनवरी 2020 की शुरुआत में जब कोरोना महामारी का कहर दुनिया में फैलना शुरू हुआ तो उसका सबसे ज्यादा असर ट्रेवल एंड टूरिज्म सेक्टर पर पड़ा है. वहीं देश में बीते साल मार्च में लॉकडाउन लगा तो इस सेक्टर से जुड़े लोगों के काम-धंधे चौपट हो गए और हजारों लोग बेरोजगार हो गए. ट्रैवल एजेंट, गाइड, बुकिंग एजेंट, टैक्सी, होटल सब पर असर पड़ा.
    गाइड से लेकर एजेंट तक को राहत
    वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया कि नए पैकेज के तहत पर्यटन सेक्टर में टूरिस्ट गाइड और इस तरह के दूसरे के लोगों के लिए मदद दी जाएगी.10700 टूरिस्ट गाइड को सरकारी गारंटी पर एक लाख रुपए तक का कर्ज मिल सकेगा. जबकि, टूरिस्ट एजेंसी को 10 लाख रुपए तक की मदद दी जाएगी. यही नहीं, इस कर्ज पर प्रोसेसिंग चार्ज और प्रीपेमेंट चार्ज भी मुफ्त रहेगा. लोन स्कीम पर्यटन मंत्रालय के अधीन काम करने वाले राष्ट्रीय क्रेडिट गारंटी ट्रस्टी कंपनी लिमिटेड (एनसीजीटीसी) के माध्यम से संचालित होगी.
    यह भी पढ़ें :  इनकम टैक्स अलर्ट : फटाफट कर लें यह काम, नहीं तो रूक जाएगी आपकी सैलरी

    एक साल से कर रहे थे इंतजार
    सरकार ने कोरोना काल में कई राहत पैकेज जारी किए, लेकिन आज से पहले ट्रेवल एंड टूरिज्म सेक्टर के लिए खास घोषणाएं नहीं की गईं. हालांकि, अब केंद्र सरकार ने उन सेक्टर पर फोकस किया, जिन पर कोरोना की सबसे अधिक मार पड़ी है. इनमें ट्रेवल एंड टूरिज्म (Tourism) सेक्टर भी शामिल है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज