Home /News /business /

जहरीली पैकिंग से जल्द मिलेगा छुटकारा, सरकार ला रही कानून

जहरीली पैकिंग से जल्द मिलेगा छुटकारा, सरकार ला रही कानून

क्या आपने कभी सोचा है कि जिस पैकेट से निकाल कर आप खाने का सामान खा रहे हैं उसमें जहर है. यह चौंकाने वाला खुलासा FSSAI ने किया है.

क्या आपने कभी सोचा है कि जिस पैकेट से निकाल कर आप खाने का सामान खा रहे हैं उसमें जहर है. यह चौंकाने वाला खुलासा FSSAI ने किया है.

क्या आपने कभी सोचा है कि जिस पैकेट से निकाल कर आप खाने का सामान खा रहे हैं उसमें जहर है. यह चौंकाने वाला खुलासा FSSAI ने किया है.

    क्या आपने कभी सोचा है कि जिस पैकेट से निकाल कर आप खाने का सामान खा रहे हैं उसमें जहर है. यह चौंकाने वाला खुलासा FSSAI ने किया है. टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, FSSAI की ओर से खाने-पीने के सामानों की पैकिंग पर किए गए सर्वे में खुलासा हुआ है कि 80 फीसदी रंगीन पैकेटों, 59 फीसदी काले कैरीबैग, 24 फीसदी एल्युमिनियम कोटेड डिस्पोजेबल कंटेनर्स में खतरनाक कैमिकल होता है. यह खतरनाक कैमिकल हमारी सेहत के लिए जहरीला साबित हो रहा है.

    बता दें कि सरकार इस जहरीली पैकिंग पर रोक लगाने के लिए जल्द ही कदम उठाने जा रही है. इस संबंध में FSSAI जल्द ही नया नोटिफिकेशन जारी करेगी. इस नोटिफिकेशन के जरिए FSSAI ऐसे पैकिंग मैटेरियल पर प्रतिबंध लगाएगी जो रिसाइक्लड प्लास्टिक से बने होंगे. इसमें खाने ले जाने वाले और खाना पैक करने वाला सामान भी शामिल होगा.

    ये भी पढ़ें: नए साल में यात्रियों को ये 6 तोहफे देगी रेलवे, आपको होगा फायदा

    FSSAI के सर्वे के अनुसार, लोकल बाजारों में खाने को पैक करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाला सामान ज्यादा खतरनाक है. FSSAI के अधिकारी ने बताया कि पैकेजिंग के नए नियम भारत में फूड सेफ्टी को नए स्तर पर ले जाएंगे.

    FSSAI के बड़े अधिकारी का कहना है कि फूड पैकेजिंग को लेकर जारी होने वाले नए नियमों से शुरुआत में अनऑर्गेनाइज्ड सेक्टर को थोड़ी परेशानी होगी. नए नियमों के अनुरुप ढलने के लिए हम उन्हें पर्याप्त समय देंगे. उन्होंने कहा कि फूड पैकेजिंग के लिए जारी होने वाले नए नियम 1 जुलाई 2019 से लागू होंगे. ऐसा करने का उद्देश्य खाने-पीने के सामान को कैमिकल और प्रदूषण रहित रखना है.

    ये भी पढ़ें: घर बैठे ऑनलाइन बदलें अपनी SBI ब्रांच, ये है पूरा प्रोसेस

    Tags: Food business, Food safety regulator

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर