Home /News /business /

foreign investors are selling a sack of shares selling of rs 2 lakh crore since october pmgkp

विदेशी निवेशक बोरा भर-भर के बेच रहे शेयर, अक्टूबर से अब तक 2 लाख करोड़ रु की बिकवाली, एक्सपर्ट से समझिए

 एफपीआई ने 1 अक्टूबर, 2021 से 2,06,646 करोड़ रुपये (आईपीओ में एफपीआई निवेश को छोड़कर) निकाले हैं.

एफपीआई ने 1 अक्टूबर, 2021 से 2,06,646 करोड़ रुपये (आईपीओ में एफपीआई निवेश को छोड़कर) निकाले हैं.

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) द्वारा जारी बिकवाली के कारण पिछले साल अक्टूबर से घरेलू शेयर बाजारों से 2,00,000 करोड़ रुपये से अधिक की निकासी हुई है. रूस-यूक्रेन संघर्ष ने एफपीआई की घबराहट को और बढ़ा दिया है, जो पहले से ही अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी के लिए तैयार है.

अधिक पढ़ें ...

Share Market Update: भारतीय शेयर बाजार से विदेशी निवेशक लगातार बिकवाली कर रहे हैं. या यूं कहिए बोरा-बोरा भर के शेयर बेच रहे हैं. अक्टूबर से विदेशी निवेशकों की शुरु हुई बिकवाली पांच महीने बाद भी रूकने का नाम नहीं ले रही. विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई, FPI) द्वारा जारी बिकवाली के कारण पिछले साल अक्टूबर से घरेलू शेयर बाजारों से 2,00,000 करोड़ रुपये से अधिक की निकासी हुई है.

रूस-यूक्रेन संघर्ष ने एफपीआई की घबराहट को और बढ़ा दिया है, जो पहले से ही अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी के लिए तैयार है. 4 मार्च को, FPI ने शेयर बाजारों से 7,631 करोड़ रुपये निकाले थे. मार्च के अंतिम तीन सत्रों में कुल निकाली को 18,614 करोड़ रुपये तक ले गए. रूस ने यूक्रेन पर हमले तेज कर दिए और तेल की कीमतें बढ़ गईं लिहाजा बिकवाली भी बढ़ गई.

यह भी पढ़ें- शेयर मार्केट में आए नए निवेशकों को Jim Rogers की सलाह, गिरावट वाले बाजार को सीखने का सही समय

यह बिकवाली फरवरी में 45,720 करोड़ रुपये और जनवरी में 41,346 करोड़ रुपये की निकासी के बाद आया है. इसके साथ, एफपीआई ने 1 अक्टूबर, 2021 से 2,06,646 करोड़ रुपये (आईपीओ में एफपीआई निवेश को छोड़कर) निकाले हैं.

रुपया की हालत खराब
आरबीआई के हस्तक्षेप के बावजूद डॉलर के मुकाबले रुपए की हालत पतली है. रुपए की विनिमय दर 76 के स्तर से नीचे 76.16 तक गिरने के साथ एफपीआई पुल-आउट ने रुपये को प्रभावित किया है. विश्लेषकों का कहना है कि अगर यूक्रेन में हालात बिगड़ते हैं और एफपीआई की बिक्री जारी रहती है तो रुपया आने वाले दिनों में डॉलर के मुकाबले 77 के स्तर को पार कर जाएगा. एक बैंकिंग सूत्र ने कहा कि जहां बैंक एफपीआई को बाहर निकालने की सुविधा के लिए डॉलर खरीद रहे हैं, वहीं आरबीआई रुपये को बचाने के लिए अपनी फॉरेक्स किटी से डॉलर बेच रहा है.

घरेलू निवेशक खरीद रहे
हालांकि, एलआईसी, म्यूचुअल फंड और बीमा कंपनियों के नेतृत्व में घरेलू संस्थागत निवेशक (डीआईआई), अपनी खरीदारी बढ़ा रहे हैं. लिहाजा एफपीआई की बिकवाली का थोड़ा असर कम रहा है.

यह भी पढ़ें- LIC की इस पॉलिसी से बेटी की पढ़ाई या शादी को लेकर हो सकते हैं टेंशन फ्री, मिलते हैं 31 लाख रुपये

एफपीआई रणनीति का मुकाबला करते हुए, डीआईआई ने 1-4 मार्च में 12,599 करोड़ रुपये का निवेश किया है. अक्टूबर 2021 के बाद से 1,42,872 करोड़ रुपये के उनके कुल निवेश को बढ़ाता है. डीआईआई ने फरवरी में 42,084 करोड़ रुपये की रिकॉर्ड राशि का निवेश किया, जो उनके बाद से उनका उच्चतम मासिक निवेश है. मार्च 2020 में 55,595 करोड़ रुपये डाले जब देश में कोविड महामारी ने दस्तक दी.

एफपीआई लगभग 6 महीने से विक्रेता 
ट्रस्टप्लूटस वेल्थ के मैनेजिंग पार्टनर विनीत बागरी ने कहा कि वैश्विक बाजार यूरोप में हो रही घटनाओं से डरे हुए हैं, जो अस्थिरता पैदा कर रहे हैं. एफपीआई लगभग 6 महीने से विक्रेता हैं. एफपीआई के हटने से इक्विटी और विदेशी मुद्रा बाजार में सेंटिमेंट कमजोर हो रहा है. बाजारों पर उनका प्रभाव दिखाई दे रहा है, अस्थिरता में वृद्धि और इक्विटी की कीमतों में गिरावट के साथ. हालांकि, तथ्य यह है कि विदेशी निवेशकों द्वारा इस बिक्री को घरेलू निवेशकों द्वारा अवशोषित कर लिया गया है, भारतीय बाजारों के दृष्टिकोण के लिए अच्छा है.

Tags: FPI, Market cap, Share market, Stock Markets, Stocks

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर