FPI निवेशको को पसंद आ रहा इंडियन मार्केट, नवंबर में किया जमकर निवेश

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (FPI)
विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (FPI)

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) का भारतीय बाजारों को लेकर काफी पॉजिटिव रुख रहा है. नवंबर महीने में निवेशकों ने 35109 करोड़ रुपये का निवेश किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 15, 2020, 2:53 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) का भारतीय बाजारों को लेकर काफी पॉजिटिव रुख रहा है. नवंबर महीने में निवेशकों ने 35109 करोड़ रुपये का निवेश किया है. इस महीने निवेशकों को इंडियन मार्केट काफी पसंद आया है. आपको बता दें इस महीने कंपनियों के बेहतर तिमाही नतीजों और इन्वेस्टमेंट प्रक्रियाओं को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार ने कई तरह के कदम उठाए हैं. निवेश को लेकर सरकार की ओर से उठाए गए कदमों की वजह से भारतीय बाजार को भी प्रोत्साहन मिला है.

2 से 13 नवंबर के बीच बढ़ा निवेश
डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, 02 से 13 नवंबर के दौरान एफपीआई ने शेयरों में शुद्ध रूप से 29,436 करोड़ रुपये तथा ऋण या बांड बाजार में 5,673 करोड़ रुपये का निवेश किया है. इस तरह उनका शुद्ध निवेश 35,109 करोड़ रुपये रहा है. इससे पिछले महीने भारतीय बाजारों में एफपीआई का शुद्ध निवेश 22,033 करोड़ रुपये रहा था.

यह भी पढ़ें: आनंद महिंद्रा ने याद की 1975 की दिवाली, जानिए इससे क्या है उनके हाथ के कड़े का कनेक्शन
क्यों बढ़ा भारतीय बाजार में निवेश?


रिलायंस सिक्योरिटीज के कारोबार अर्जुन यश महाजन ने कहा, ‘‘भारतीय बाजारों का प्रदर्शन लगातार अच्छा बना हुआ है, जिससे एफपीआई यहां जोखिम उठाने को तैयार हैं. कंपनियों के तिमाही नतीजों तथा सरकार के सुधार उपायों से भी एफपीआई की धारणा मजबूत हुई है.’’

बाजार के एक्सपर्ट का कहना है कि आगे भी एफपीआई का रुख सकारात्मक बने रहने की उम्मीद है. महाजन ने कहा, ‘‘अर्थव्यवस्था में सुस्ती के बीच अच्छी क्षमता दिखाने वाले क्षेत्रों में एफपीआई आगे दांव लगा सकते हैं.’’

यह भी पढ़ें: भारतीय अर्थव्यवस्था में उम्मीद से बेहतर रिकवरी, RBI के लिए महंगाई बनी समस्या: ऑक्सफोर्ड इकोनॉमिक्स

ऐसा रहा नवंबर का शुरुआती समय
विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक यानी FPI ने नवंबर के पहले पांच कारोबारी सेशन में भारतीय बाजारों में 8,381 करोड़ रुपये लगाए वहीं अक्टूबर महीने में म्यूचुअल फंड्स ने शेयरों से 14,300 करोड़ रुपये की भारी निकासी कर डाली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज