नौकरी करने वालों के लिए जरूरी खबर! आज से बदल गया फॉर्म-16, अब जरूरी हुईं ये जानकारियां

नौकरी करने वालों के लिए जरूरी खबर! आज से बदल गया फॉर्म-16, अब जरूरी हुईं ये जानकारियां
सांकेतिक तस्वीर

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) ने पिछले महीने फॉर्म-16 में बड़ा बदलाव किया था, जो 12 मई 2019 से लागू हो गया है.

  • Share this:
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) ने पिछले महीने फॉर्म-16 में बड़ा बदलाव किया था जो 12 मई 2019 से लागू हो गया है. नए फॉर्म में इसे जारी करने वाली कंपनियों को अब कर्मचारी के बारे में ज्यादा जानकारियां देनी होंगी. कर्मचारी की प्रॉपर्टी से हुई कमाई, उसे दूसरे नियोक्ताओं की ओर से मिले भुगतान की डिटेल अब फॉर्म-16 में दी जाएगी. इससे आयकर विभाग को टैक्स चोरी की जांच में मदद मिलेगी. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि नए फॉर्म-16 में अलग-अलग टैक्स सेविंग्स स्कीम के तहत किए गए निवेश, उससे जुड़ी कटौतियां, कर्मचारी को मिले अलग-अलग भत्तों और दूसरे स्त्रोतों से हुई आय का ब्यौरा भी शामिल होगा. (ये भी पढ़ें: बिना गलती इनकम टैक्स रिटर्न भरने के टिप्‍स, फॉलो करेंगे तो नहीं होगा नुकसान)

क्या होता है फॉर्म-16 कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए वित्त वर्ष खत्म होने के बाद फॉर्म-16 जारी करते हैं. इसमें कर्मचारियों के टीडीएस की जानकारी होती है. फॉर्म-16 के आधार पर ही कर्मचारी अपना इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते हैं. कंपनियां फॉर्म-16 को आमतौर पर जून महीने में जारी करती हैं.

फॉर्म 16, फॉर्म 16 डाउनलोड, फॉर्म 16 कैसे भरे, फॉर्म नंबर 16, टीडीएस फॉर्म 16, प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए, इनकम टैक्स, इनकम टैक्स स्लैब 2018-19, इनकम टैक्स में छूट, इनकम टैक्स बचाने के उपाय, इनकम टैक्स कब लगता है, इनकम टैक्स में छूट, इनकम टैक्स बचाने के उपाय, इनकम टैक्स कब लगता है



आपको बता दें कि इनकम टैक्स विभाग वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न फॉर्म नोटिफाई कर चुका है. नौकरी करने वालों के अलावा ऐसे लोग जिनके खातों का ऑडिट नहीं होना है उन्हें 31 जुलाई तक रिटर्न फाइल करना है. ये भी पढ़ें: ITR फाइलिंग के लिए जरूरी हैं ये डॉक्यूमेंट्स, यहां देखें पूरी लिस्ट
फॉर्म 16, फॉर्म 16 डाउनलोड, फॉर्म 16 कैसे भरे, फॉर्म नंबर 16, टीडीएस फॉर्म 16, प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए, इनकम टैक्स, इनकम टैक्स स्लैब 2018-19, इनकम टैक्स में छूट, इनकम टैक्स बचाने के उपाय, इनकम टैक्स कब लगता है, इनकम टैक्स में छूट, इनकम टैक्स बचाने के उपाय, इनकम टैक्स कब लगता है

क्यों हुआ फॉर्म में बदलाव- टैक्स एक्सपर्ट शरद कोहली के मुताबिक, कई बार फॉर्म-16 और रिटर्न फाइलिंग के आंकड़ों में फर्क देखा जाता है. लेकिन, नए फॉर्म के बाद कर्मचारी के निवेश और आय की सभी जानकारियां होंगी तो ऐसा नहीं होगा. जिन अलाउंस पर टैक्स छूट मिलती है वो मिलती रहेगी लेकिन नियोक्ता (कंपनियों) को सभी मदों में की जाने वाली कटौती का पूरा ब्यौरा फॉर्म-16 में देना होगा.

बदलाव आज से लागू
>> इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से अधिसूचित संशोधित फॉर्म 12 मई 2019 को प्रभाव में आ गया. इसका मतलब है कि अब वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न संशोधित फॉर्म 16 के आधार पर भरना होगा. ये भी पढ़ें: 1 रुपये के भी टैक्स डिमांड की अनदेखी पड़ सकती है भारी, जानें कैसे करें सेटलमेंट

फॉर्म 16, फॉर्म 16 डाउनलोड, फॉर्म 16 कैसे भरे, फॉर्म नंबर 16, टीडीएस फॉर्म 16, प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए, इनकम टैक्स, इनकम टैक्स स्लैब 2018-19, इनकम टैक्स में छूट, इनकम टैक्स बचाने के उपाय, इनकम टैक्स कब लगता है, इनकम टैक्स में छूट, इनकम टैक्स बचाने के उपाय, इनकम टैक्स कब लगता है
>> अन्य बातों के अलावा संशोधित फॉर्म 16 में बचत खातों में जमा पर ब्याज के संदर्भ में कटौती का ब्योरा और छूट एवं अधिभार (जहां लागू हो) भी शामिल होगा.
>> आयकर विभाग पहले ही वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न फॉर्म को अधिसूचित कर चुका है.

ये भी पढ़ें: इनकम टैक्स रिटर्न भरने पर आपको मिलते हैं ये बड़े फायदे

फॉर्म 24 क्यू में भी बदलाव
नियोक्ता आयकर विभाग को यह फॉर्म देता है. इसमें अब उन गैर-संस्थागत इकाइयों का पैन नंबर भी बताना होगा जहां से कर्मचारी ने घर खरीदने या बनाने के लिए लोन लिया है.

ये भी पढ़ें: इन 6 तरह की इनकम पर नहीं लगता है एक भी रुपये का टैक्स, देखें पूरी लिस्ट

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज