Home /News /business /

fpi has withdrawn rs 12300 crore from indian markets so far in april what is the reason behind it jst

विदेशी निवेशकों ने अप्रैल में अब तक भारतीय बाजारों से निकाले 12,300 करोड़ रुपये, क्या है इसके पीछे की वजह?

एफपीआई ने भारतीय बाजारों में लगातार 6 महीने बिकवाली की है.

एफपीआई ने भारतीय बाजारों में लगातार 6 महीने बिकवाली की है.

विदेशी संस्थागत निवेशकों या एफपीआई ने मार्च 2022 तक लगातार 6 महीने बिकवाली की थी. इसके बाद अप्रैल में कुछ खरीदारी की. लेकिन बिकवाली का ट्रेंड एक बार फिर से चालू हो गया है. विदेशी निवेशकों ने अन्य उभरते बाजारों से भी निकासी की है.

    नयी दिल्ली. अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में आक्रामक तरीके से बढ़ोतरी की आशंका के बीच विदेशी निवेशकों ने इस महीने अब तक भारतीय बाजारों से 12,300 करोड़ रुपये निकाल लिए हैं.

    विश्लेषकों का कहना है कि अमेरिकी केंद्रीय बैंक द्वारा ब्याज दरों में वृद्धि की संभावना, रूस-यूक्रेन युद्ध, कच्चे तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव, घरेलू मोर्चे पर ऊंची मुद्रास्फीति की वजह से भारतीय शेयर बाजारों में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) का निवेश प्रवाह दबाव में रहेगा.

    ये भी पढ़ें- बिकवाली की वजह से विदेशी निवेशकों की हिस्सेदारी NSE 500 कंपनियों में तीन साल के निचले स्तर पर

    लगातार 6 महीने की बिकवाली
    एफपीआई ने मार्च, 2022 तक भारतीय शेयर बाजारों में लगातार छह महीने तक बिकवाली की थी. इस दौरान उन्होंने भारतीय शेयर बाजारों से 1.48 लाख करोड़ रुपये निकाले थे. इसकी मुख्य वजह फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में वृद्धि की आशंका और रूस के यूक्रेन पर हमले की वजह से पैदा हुए हालात थे. लगाताह छह माह तक बिकवाली के बाद एफपीआई ने अप्रैल के पहले सप्ताह में शेयरों में 7,707 करोड़ रुपये डाले थे. इसके बाद 11 से 13 अप्रैल के कम कारोबारी सत्रों वाले सप्ताह के दौरान उन्होंने शेयरों से 4,500 करोड़ रुपये की निकासी की. उसके बाद के सप्ताह में भी एफपीआई की बिकवाली जारी रही.

    ऋण या बांड बाजार से भी की निकासी
    डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, एक से 22 अप्रैल के दौरान विदेशी निवेशकों ने भारतीय बाजारों से शुद्ध रूप से 12,286 करोड़ रुपये की निकासी की है. समीक्षाधीन अवधि में एफपीआई ने शेयरों के अलावा ऋण या बांड बाजार से भी 1,282 करोड़ रुपये की निकासी की है.

    ये भी पढ़ें- मल्टीबैगर स्टॉक: 15 रुपये के इस शेयर ने 1 साल में दिया छप्पड़फाड़ रिटर्न, 1 लाख रुपये को बनाया 11 लाख

    क्या कह रहे हैं विशेषज्ञ
    मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक-प्रबंधक शोध हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी की आशंका से निवेशकों की धारणा को प्रभावित हो रही है. ऐसे में निवेशक उभरते बाजारों में अपने निवेश को लेकर एक बार फिर सतर्क रुख अपना रहे हैं.’’ कोटक सिक्योरिटीज के इक्विटी शोध (खुदरा) प्रमुख श्रीकांत चौहान ने कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में तेजी, ऊंची मुद्रास्फीति, सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर में कमी जैसे कारणों से निकट भविष्य में एफपीआई के प्रवाह में उतार-चढ़ाव बना रहेगा. भारत के अलावा एफपीआई ने अप्रैल में अन्य उभरते बाजारों मसलन ताइवान, दक्षिण कोरिया और फिलिपींस से भी निकासी की है.

    Tags: FPI, Share market

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर