• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • एफपीआई ने अगस्त में अबतक भारतीय बाजारों में 7,245 करोड़ रुपये डाले, निवेश लगातार बढ़ा रहे

एफपीआई ने अगस्त में अबतक भारतीय बाजारों में 7,245 करोड़ रुपये डाले, निवेश लगातार बढ़ा रहे

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने अगस्त में अबतक भारतीय पूंजी बाजारों में 7,245 करोड़ रुपये डाले हैं. वृहद आर्थिक माहौल बेहतर होने की वजह से धारणा सकारात्मक हुई है, जिसकी वजह से एफपीआई भारतीय बाजार में निवेश बढ़ा रहे हैं.

  • Share this:

    नई दिल्ली . विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने अगस्त में अबतक भारतीय पूंजी बाजारों में 7,245 करोड़ रुपये डाले हैं. वृहद आर्थिक माहौल बेहतर होने की वजह से धारणा सकारात्मक हुई है, जिसकी वजह से एफपीआई भारतीय बाजार में निवेश बढ़ा रहे हैं.

    मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक, प्रबंधक शोध हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि एफपीआई के शुद्ध प्रवाह के आंकड़ों से पता चलता है कि निवेशक धीरे-धीरे अपने सतर्क रुख को छोड़ रहे हैं और भारतीय बाजारों के प्रति उनका भरोसा बढ़ रहा है.

    दो से 20 अगस्त के दौरान शेयरों में 5,001 करोड़ रुपये डाले 
    डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई ने दो से 20 अगस्त के दौरान शेयरों में 5,001 करोड़ रुपये डाले. इस दौरान ऋण या बांड बाजार में उनका निवेश 2,244 करोड़ रुपये रहा. इस तरह उनका शुद्ध निवेश 7,245 करोड़ रुपये रहा.

    यह भी पढ़ें – अगस्त के 20 दिनों में ही 23 कंपनियों ने आईपीओ के लिए पेपर जमा किए, इस साल IPO का लग सकता है शतक 

    कोटक सिक्योरिटीज के कार्यकारी उपाध्यक्ष, इक्विटी तकनीकी शोध श्रीकान्त चौहान ने अन्य उभरते बाजारों के बारे में कहा कि दक्षिण कोरिया, ताइवान और थाइलैंड में एफपीआई का प्रवाह नकारात्मक रहा है. उन्होंने इन बाजारों से क्रमश: 526.9 करोड़ डॉलर, 85.5 करोड़ डॉलर और 34.1 करोड़ डॉलर की निकासी की है. वहीं इंडोनेशिया में एफपीआई ने 15.6 करोड़ डॉलर का निवेश किया है.

    इस सप्ताह बाजार की चाल 
    घरेलू मोर्चे पर किसी प्रमुख घटनाक्रम के अभाव में इस सप्ताह शेयर बाजारों की दिशा वैश्विक रुख से तय होगी. इसके अलावा डेरिवेटिव्स अनुबंधों के निपटान की वजह से बाजार में कुछ उतार-चढ़ाव रह सकता है. अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा उम्मीद से पहले अपने नरम मौद्रिक रुख को वापस लेने की संभावना, कोरोना वायरस के डेल्टा वैरिएंट के बढ़ते मामलों तथा चीन द्वारा नियामकीय मोर्चे पर कार्रवाई के बीच बीते सप्ताह वैश्विक बाजारों में जबर्दस्त बिकवाली का सिलसिला चला.

    यह भी पढ़ें- Mutual Fund Investment: म्यूचुअल फंड में निवेश पर किन-किन तरीकों को अपना कर पा सकते हैं ज्यादा रिटर्न

    जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘घरेलू मोर्चे पर महत्वपूर्ण आर्थिक आंकड़ों के अभाव में बाजार वैश्विक घटनाक्रमों से दिशा लेगा. वैश्विक स्तर पर महामारी के मामले बढ़ने से चिंता बढ़ी है। इससे बाजार में काफी उतार-चढ़ाव है.’’ बीते सप्ताह कम सत्रों के कारोबार के दौरान बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 107.97 अंक या 0.19 प्रतिशत नीचे आया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज