• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • निवेशकों का भरोसा घटा, FPI ने चालू वित्त वर्ष में अब तक भारतीय बाजारों से निकाले 6,105 करोड़ रुपये

निवेशकों का भरोसा घटा, FPI ने चालू वित्त वर्ष में अब तक भारतीय बाजारों से निकाले 6,105 करोड़ रुपये

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

डिपॉजिटरी के आंकड़े के मुताबिक, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPIs) ने जून को छोड़कर वित्त वर्ष के सभी महीनों में बिकवाली की.

  • Share this:

    नई दिल्ली. विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों यानी एफपीआई (​Foreign Portfolio Investors) ने मौजूदा वित्त वर्ष में भारतीय पूंजी बाजारों से शुद्ध रूप से 6,105 करोड़ रुपये की निकासी की है. महामारी और उसकी वजह से देश के विभिन्न हिस्सों में लागू लॉकडाउन के चलते विदेशी निवेशक भारतीय बाजारों से निकासी कर रहे हैं.

    बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जुलाई के दौरान 3,077.69 अंक या 6.21 फीसदी बढ़ा है. सेंसेक्स ने 16 जुलाई, 2021 को अपना सर्वकालिक उच्चस्तर 53,290.81 अंक छुआ. 15 जुलाई को यह अपने सर्वकालिक उच्चस्तर 53,158.85 अंक पर बंद हुआ था.

    ये भी पढ़ें- आज से बदल गए ये 7 अहम नियम, हर आम से लेकर खास तक पर पड़ेगा सीधा असर, जान लेंगे तो फायदे में रहेंगे

    डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, चालू वित्त वर्ष के पहले चार महीने में एफपीआई ने शेयरों से शुद्ध रूप से 6,707 करोड़ रुपये की निकासी की. इस दौरान उन्होंने ऋण या बांड बाजार में शुद्ध रूप से 602 करोड़ रुपये डाले. इस तरह उनकी शुद्ध निकासी 6,105 करोड़ रुपये रही है.

    FY22 में जून को छोड़कर सभी महीने में बिकवाली
    आंकड़ों के पता चलता है कि विदेशी निवेशकों ने जून को छोड़कर वित्त वर्ष के सभी महीनों में बिकवाली की. जून में उन्होंने 13,269 करोड़ रुपये डाले. अप्रैल में उन्होंने 9,435 करोड़ रुपये निकाले थे. वहीं मई में उन्होंने 2,666 करोड़ रुपये तथा जुलाई में 7,273 करोड़ रुपये की निकासी की.

    ये भी पढ़ें- पीएम मोदी 2 अगस्त को लॉन्च करेंगे डिजिटल पेमेंट सॉल्युशन e-RUPI, जानिए कैसे काम करता है ई-रुपी

    नए निवेशकों का पंजीकरण सालाना आधार पर 2.5 गुना बढ़ा
    एलकेपी सेक्योरिटीज के प्रमुख (रिसर्च) एस रंगनाथन ने कहा, “पहले चार माह के दौरान उत्साहवर्धक बात यह रही कि देश में नए निवेशकों का पंजीकरण सालाना आधार पर 2.5 गुना बढ़ा है.”

    मार्निंगस्‍टार इंडिया के एसोसिएट डायरेक्‍टर (मैनेजर रिसर्च) हिमांशु श्रीवास्‍तव ने कहा कि जून से स्थानीय स्तर पर लागू लॉकडाउन के हटने की शुरुआत हुई है. कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार कमी से निवेशकों की धारणा बेहतर हुई है. उन्होंने कहा कि एफपीआई ने भारतीय शेयर बाजारों के प्रति जून के मध्य से सतर्कता वाला रुख अपनाना शुरू किया. उनका यह रुख जुलाई में भी जारी रहा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज