Home /News /business /

fpis withdrawal from indian markets continues for the sixth consecutive month so far rs 45608 crore has been withdrawn in march pmgkp

एफपीआई की भारतीय बाजारों से निकासी लगातार छठे महीने जारी, मार्च में अबतक 45,608 करोड़ रुपये निकाले

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों (State Elections Results) में 4 राज्यों की जीत ने भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार के हौसले बढ़ा दिए हैं.

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों (State Elections Results) में 4 राज्यों की जीत ने भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार के हौसले बढ़ा दिए हैं.

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई ने दो से 11 मार्च के दौरान शेयरों से 41,168 करोड़ रुपये निकाले हैं. इसके अलावा उन्होंने ऋण या बांड बाजार से 4,431 करोड़ रुपये तथा हाइब्रिड माध्यमों से नौ करोड़ रुपये की निकासी की है. इस तरह उनकी शुद्ध निकासी 45,608 करोड़ रुपये रही है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली . विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) की भारतीय बाजारों से निकासी का सिलसिला लगातार छठे महीने जारी है. मार्च में अबतक एफपीआई ने भारतीय बाजारों से शुद्ध रूप से 45,608 करोड़ रुपये निकाले हैं. जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने कहा कि एफपीआई मान रहे हैं कि जिंस कीमतों में तेजी से भारत अधिक प्रभावित होगा. इसकी वजह यह है कि भारत कच्चे तेल का प्रमुख आयातक है.

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई ने दो से 11 मार्च के दौरान शेयरों से 41,168 करोड़ रुपये निकाले हैं. इसके अलावा उन्होंने ऋण या बांड बाजार से 4,431 करोड़ रुपये तथा हाइब्रिड माध्यमों से नौ करोड़ रुपये की निकासी की है. इस तरह उनकी शुद्ध निकासी 45,608 करोड़ रुपये रही है.

यह भी पढ़ें- Investment Tips : दो साल में इस इक्विटी स्मॉलकैप इंडेक्स प्लान ने पैसे को दोगुना किया, जानिए डिटेल

एफपीआई वित्तीय और आईटी कंपनियों के शेयर बेच रहे
यह लगातार छठा महीना है जबकि एफपीआई भारतीय बाजारों में बिकवाल बने हुए हैं. विजयकुमार ने कहा कि मुख्य रूप से एफपीआई वित्तीय और आईटी कंपनियों के शेयर बेच रहे हैं. इसकी वजह है कि एफपीआई के पोर्टफोलियो में सबसे अधिक इन्हीं शेयरों की हिस्सेदारी है.

भू-राजनीतिक तनाव की वजह से भी निकासी बढ़ी
वॉटरफील्ड एडवाइजर्स के मुख्य निवेश अधिकारी (सूचीबद्ध निवेश) निमिष शाह ने कहा कि अगस्त-सितंबर, 2021 से डॉलर मजबूत हो रहा है. अमेरिका में ब्याज दरें भी अब बढ़ रही हैं. उन्होंने कहा कि भू-राजनीतिक तनाव की वजह से भी उनकी निकासी बढ़ी है.

कोटक सिक्योरिटीज के इक्विटी शोध (खुदरा) प्रमुख श्रीकांत चौहान ने कहा कि मार्च में अबतक थाइलैंड को छोड़कर अन्य सभी उभरते बाजारों से निकासी हुई है. ताइवान, दक्षिण कोरिया, इंडोनेशिया और फिलिपीन से इस महीने अबतक क्रमश: 708.9 करोड़ डॉलर, 266.5 करोड़ डॉलर, 42.6 करोड़ डॉलर और 2.6 करोड़ डॉलर की निकासी हुई है. वहीं इस दौरान थाइलैंड के बाजारों में एफपीआई ने 10.2 करोड़ डॉलर डाले हैं.

Tags: FPI, Market, Share market, Stock Markets, Stock return

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर