बैंक धोखाधड़ी का एक और बड़ा मामला आया सामने, CBI ने चार राज्‍यों में की छापेमारी

सीबीआई ने बैंक ऑफ इंडिया समेत कई बैंकों के साथ धोखाधड़ी मामले में आज एक निजी कंपनी के कई ठिकानों पर छापेमारी की.
सीबीआई ने बैंक ऑफ इंडिया समेत कई बैंकों के साथ धोखाधड़ी मामले में आज एक निजी कंपनी के कई ठिकानों पर छापेमारी की.

सेट्रल ब्‍यूरो ऑफ इंवेस्‍टीगेशन (CBI) ने बैंक ऑफ इंडिया की शिकायत पर दिल्‍ली की एक प्राइवेट कंपनी के फर्जी डॉक्‍युमेंट्स (Fake Documents) के जरिये 1,400 करोड़ का लोन लेने और फिर खुद को (Bankrupt) घोषित करने के मामले में एफआईआर दर्ज की है. इसके बाद सीबीआई टीम ने दिल्ली, राजस्थान, यूपी और हरियाणा में छापेमारी की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2020, 12:53 AM IST
  • Share this:
शंकर आनंद

नई दिल्‍ली. केंद्रीय जांच ब्‍यूरो (CBI) ने बैंक ऑफ इंडिया (Bank of India) की शिकायत पर एक निजी कंपनी मेसर्स क्‍वालिटी लिमिटेड और कंपनी के निदेशकों के खिलाफ बैंक लोन फर्जीवाड़े (Bank Loan Fraud) का मामला दर्ज करने के बाद चार राज्‍यों में छापेमारी की. सीबीआई ने दिल्ली समेत यूपी के सहारनपुर, बुलंदशहर, राजस्थान के अलवर और हरियाणा के पलवल में आठ जगहों पर सर्च ऑपरेशन को अंजाम दिया. दरअसल, ये मामला बैंक ऑफ इंडिया समेत कई बैंकों से करीब 1,400 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का लोन लेने के बाद फर्जीवाड़े को अंजाम देने से जुड़ा है.

बैंक ऑफ इंडिया को हुआ सबसे ज्‍यादा नुकसान
सीबीआई की दर्ज की गई एफआईआर के मुताबिक, मेसर्स क्‍वालिटी लिमिटेड ने बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया (CBI), केनरा बैंक ( Canara Bank), बैंक ऑफ बड़ोदा (BoB), धनलक्ष्मी बैंक (Dhanlaxmi Bank) और सिंडिकेट बैंक ( Syndicate Bank) को चूना लगाया है. बैंकों के कंजोर्टियम का नेतृत्‍व बैंक ऑफ इंडिया कर रहा है. ऐसे में सबसे ज्यादा नुकसान भी इसी बैंक को हुआ है. फर्जीवाड़े का ये मामला दिल्ली में बैंक ऑफ इंडिया के जनपथ इलाके की चंद्रलोक बिल्डिंग में मौजूद शाखा में हुआ है.
ये भी पढ़ें- SBI ग्राहकों के लिए बड़ी खबर! अब नए पोर्टल की मदद से घर बैठे रिस्‍ट्रक्‍चर कर सकेंगे अपना लोन



लेनदेन में किया फर्जी डॉक्‍युमेंट्स का इस्‍तेमाल
मेसर्स क्‍वालिटी लिमिटेड (M/s Kwality ltd) का दफ्तर दिल्ली में राजौरी गार्डन इलाके के एफ-82 शिवाजी प्लेस में केडीआईएल में है. बैंक ने इसी पते पर करोड़ों रुपये का लोन लिया था. साथ ही लेनदेन के लिए फर्जी दस्तावेजों का इस्‍तेमाल किया गया है. कंपनी के मालिकों में संजय ढिंगरा, अरुण श्रीवास्तव और सिद्धांत गुप्ता शामिल हैं. सीबीआई ने कई अज्ञात सरकारी बैंक अधिकारियों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है. सभी आरोपी दिल्ली में ही रहते हैं, लेकिन अलग-अलग राज्यों में कारोबार है. इसलिए सभी ठिकानों पर छापेमारी की गई है.

ये भी पढ़ें- अब इंश्‍योरेंस पॉलिसी खरीदने वालों का होगा वीडियो आधारित KYC! इरडा ने बीमा कंपनियों को दी मंजूरी

सीबीआई ने जब्‍त किए मोबाइल और हार्डडिस्‍क
सूत्रों के मुताबिक दिल्ली (Delhi), हरियाणा (Haryana), यूपी (UP) और राजस्थान (Rajasthan) में आठ जगहों पर सोमवार देर शाम तक हुई छापेमारी के दौरान कई अहम दस्तावेजों और सबूतों को जब्त किया गया है. साथ ही छापेमारी के दौरान कई मोबाइल फोन, कंप्यूटर हार्ड डिस्क को भी सीबीआई की टीम ने जब्त (Seize) कर लिया है. सीबीआई की टीम इन सभी को खंगालने के बाद कई आरोपियों की गिरफ्तारी कर सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज