20 करोड़ राशन कार्डधारकों को अगले महीने मिलेगा मुफ्त दाल, वित्त मंत्री ने की थी घोषणा

20 करोड़ राशन कार्डधारकों को अगले महीने मिलेगा मुफ्त दाल, वित्त मंत्री ने की थी घोषणा
राशनकार्ड पर मुफ्त दाल आपूर्ति मई के पहले सप्ताह में जोर पकड़ेगी

सरकार ने शनिवार को कहा कि इस काम के लिए 5.88 लाख टन दलहनों की परिवहन व्यवस्था और मिलिंग का काम तेजी से चल रहा है. अधिकांश लाभार्थियों को अप्रैल में ही या मई के पहले सप्ताह तक पहले महीने का कोटा मिल जाएगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश भर के 20 करोड़ राशन कार्डधारी (Ration Card) परिवारों को मुफ्त दाल वितरण मई के पहले सप्ताह में गति पकड़ेगा. सरकार ने शनिवार को कहा कि इस काम के लिए 5.88 लाख टन दलहनों की परिवहन व्यवस्था और मिलिंग का काम तेजी से चल रहा है. अधिकांश लाभार्थियों को अप्रैल में ही या मई के पहले सप्ताह तक पहले महीने का कोटा मिल जाएगा. कई राज्य पहली बार में ही तीनों महीनों के लिए दाल वितरित करने की स्थिति में हो सकते हैं. सरकार ने कहा कि जो राज्य बच जायेंगे उनमें मई में ही या अधिक से अधिक मई के तीसरे सप्ताह तक तीनों महीनों (अप्रैल, मई, जून) के लिए वितरण कार्य को पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है.

करीब महीना भर पहले, वित्त मंत्री (Finance Minister) निर्मला सीतारमण ने प्रधानमंत्री गरीब अन्न योजना (PM Garib Kalyan Anna Yojana- PMGKAY) के तहत सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) के तहत पंजीकृत प्रत्येक परिवार को तीन महीने के लिए एक-एक किलो दाल मुफ्त वितरण की घोषणा की थी. कोविड-19 महामारी के कारण लॉकडाउन के दौरान गरीबों को उचित मात्रा में प्रोटीन उपलब्ध हो इस बात को ध्यान में रखते हुये यह कदम उठाया गया.

ये भी पढ़ें: Akshaya Tritiya 2020: यहां बिकता है एक रुपए का 24 कैरेट सोना, घर बैठे खरीदें



उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने एक बयान में कहा, अब तक लगभग 30,000 टन दालों का वितरण किया गया है और इस काम में मई के पहले सप्ताह में और तेजी आयेगी. PMGKAY के तहत दालों की मासिक आवश्यकता लगभग 1.96 लाख टन की है और पीडीएस के माध्यम से वितरण के लिए राज्यों को अब तक लगभग 1.45 लाख टन साफ की गई दाल की पेशकश की गई है. उन्होंने कहा कि कुल मासिक जरूरत में से लगभग एक तिहाई दाल राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा दूरदराज स्थानों तक पहुंचाई जा चुकी है जहां से उनका वितरण होगा.
आंध्र प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, अंडमान, चंडीगढ़, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु और तेलंगाना जैसे लगभग 17 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने वितरण करना शुरू कर दिया है. कई अन्य राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने सामाजिक दूरी कायम करने और सार्वजनिक सुरक्षा के कारणों के लिए मई के पहले सप्ताह में खाद्यान्न वितरण के साथ दालों का वितरण करने का निर्णय लिया है. कुछ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों जैसे अंडमान और निकोबार, चंडीगढ़, दादरा नगर हवेली, गोवा, लद्दाख, पुडुचेरी, लक्षद्वीप और यहां तक ​​कि पंजाब को एक ही बार में तीनों महीने के लिए दाल की आपूर्ति कर दी गई है.

मंत्रालय के अनुसार, नाफेड (NAFED) को इस उद्देश्य के लिए अपने 165 गोदामों में पड़ी दाल के स्टॉक का उपयोग करने की अनुमति दी गई है. इस सहकारी संस्था ने अब तक 100 से अधिक दाल मिलों को अपने साथ लिया है तथा ऑनलाइन नीलामी के माध्यम से मिलों का चयन कर रही है. मंत्रालय ने कहा कि कैबिनेट सचिव व्यक्तिगत रूप से दैनिक आधार पर वितरण की निगरानी कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

लॉकडाउन के बीच आपका बैंक मुफ्त में दे रहे हैं ये तीन सर्विस, जानिए इनके बारे में सबकुछ

इस भारतीय शख्स को मिलती है दुनिया में सबसे ज्यादा सैलरी, हर दिन कमाते हैं 5.4 करोड़ रुपये
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज