इंफोसिस और एक्सेंचर के बाद Capgemini ने दिखाया बड़ा दिल, अपने कर्मचारियों के टीकाकरण का खर्च उठाएगी कंपनी

देश में 1 मार्च से कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण शुरू हो गया है.

देश में 1 मार्च से कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण शुरू हो गया है.

दिग्गज फ्रांसीसी आईटी कंपनी कैपजेमिनी (Capgemini) ने कहा है कि वह भारत में अपने सभी कर्मियों और उनके परिजनों के लिए कोविड-19 टीकाकरण का पूरा खर्च स्‍वयं उठाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 4, 2021, 10:33 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में बड़े पैमाने पर कोरोना टीकाकरण शुरू होने के बाद अब कई कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए कोरोना वैक्सीन का खर्च उठाने की योजना बना रही हैं. वहीं, दिग्गज फ्रांसीसी आईटी कंपनी कैपजेमिनी (Capgemini) ने कहा है कि वह भारत में अपने सभी कर्मियों और उनके परिजनों के लिए कोविड-19 टीकाकरण का पूरा खर्च स्‍वयं उठाएगी.

कैपजेमिनी के चीफ एग्जेक्यूटिव ऑफिसर (इंडिया) आश्विन आर्दी ने कहा कि कंपनी के मेडिकल बेनेफिट्स प्रोग्राम के तहत आने वाले कर्मियों और उनके परिजनों को इसका फायदा मिलेगा. कंपनी ने इसके लिए वेलनेस पार्टनर्स के साथ हाथ मिलाया है.

इंफोसिस और एक्‍सेंचर भी कर चुके हैं ऐसी घोषणा
इससे पहले, आईटी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी इन्फोसिस इंफोसिस (Infosys) और सॉफ्टवेयर कंसल्टिंग फर्म एक्‍सेंचर (Accenture) ने कहा था कि भारत में अपने कर्मचारियों के लिए कोविड-19 टीकाकरण का पूरा खर्च स्‍वयं उठाएगी. इंफोसिस के चीफ ऑपरेटिंग ऑफ‍िसर प्रवीण राव ने कहा कि इंफोसिस अपने कर्मचारियों एवं उनके परिजनों को कोविड-19 टीका लगाने के लिए हेल्‍थकेयर प्रोवाइडर्स के साथ पार्टनरशिप करने की संभावना तलाश रही है. इसके अलावा महिंद्रा ग्रुप और आईटीसी लिमिटेड कंपनी ने भी कहा था कि वह अपने कर्मचारियों के लिए कोविड-19 टीका खरीदेगी.
ये भी पढ़ें- हरियाणा में प्राइवेट नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण पर FICCI ने जताया ऐतराज, कही ये बात



देश में शुरू हुआ 2.O Vaccination अभियान
गौरतलब है कि देश में सोमवार (1 मार्च) से कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण शुरू हो गया है. वैक्सीनेशन में 60 साल से ऊपर की उम्र वालों के साथ-साथ 45 से 60 साल तक की उम्र के उन लोगों को भी वैक्सीन की डोज दी जा रही है, जो गंभीर बीमारियों से ग्रसित हैं. लोग सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ निजी अस्पतालों में भी कोरोना लगवा रहे हैं. 1 मार्च को पीएम मोदी ने कोरोना का पहला डोज लगवाया वहीं पीएम मोदी ने सभी से बेफिक्र होकर कोरोना का टीका लगाने की बात कही.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज