लाइव टीवी
Elec-widget

कम नहीं हो रहीं इंफोसिस के CEO की मुश्किलें, एक और व्हिसलब्लोअर ने की शिकायत

hindi.moneycontrol.com
Updated: November 12, 2019, 12:31 PM IST
कम नहीं हो रहीं इंफोसिस के CEO की मुश्किलें, एक और व्हिसलब्लोअर ने की शिकायत
Infosys के CEO के खिलाफ एक और शिकायत

Whistleblower ने इंफोसिस के चेयरमैन और बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स को उनके खिलाफ सख्त कदम उठाने का आग्रह किया है.

  • Share this:
बेंगलुरु. देश की दिग्गज आईटी कंपनी इंफोसिस (Infosys) की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं. अब एक और व्हिसलब्लोअर (Whistleblower) ने इंफोसिस के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (CEO) सलिल पारेख की शिकायत की है. व्हिसलब्लोअर ने पारेख पर आरोप लगाया है कि उन्होंने गड़बड़ी की है. Whistleblower ने कंपनी के चेयरमैन और बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स को उनके खिलाफ सख्त कदम उठाने का आग्रह किया है.

व्हिसलब्लोअर ने इंफोसिस के चेयरमैन और को-फाउंडर नंदन नीलेकणी को बिना हस्ताक्षर किया एक लेटर भेजा है. इस लेटर में व्हिसलब्लोअर ने लिखा है, वैसे तो पारेख को कंपनी ज्वाइन किए एक साल 8 महीने हुए हैं लेकिन अभी भी वह मुंबई से काम करते हैं. यह नियमों का उल्लंघन है क्योंकि शर्तों के मुताबिक, इंफोसिस के CEO को बेंगलुरु से काम करना जरूरी है. बोर्ड को उन्हें मुंबई से बेंगलुरु लाने में क्या दिक्कत आ रही है.

फाइनेंस डिपार्टमेंट से जुड़ा है व्हिसलब्लोअर
व्हिसलब्लोअर खुद को कंपनी के फाइनेंस डिपार्टमेंट से जुड़ा कर्मचारी बता रहा है. व्हिसलब्लोअर ने कहा कि वह अपनी पहचान जाहिर नहीं कर सकता. व्हिसलब्लोअर ने अपने लेटर में लिखा है, ''मैं फाइनेंस डिपार्टमेंट में काम करने वाला एक एंप्लॉयी हूं. मामला बहुत गंभीर है, इसलिए मैं अपनी पहचान बिना जाहिर किए शिकायत कर रहा हूं. अपनी पहचान जाहिर ना करने के लिए मैं माफी मांगता हूं लेकिन यह मामला बेहद गंभीर है.''

ये भी पढ़ें: बैंक खाते में जमा हैं आपके पैसे तो जान लें ये बातें, SBI ने दिए सुझाव

मुंबई से बेंगलुरु आने-जाने में हर महीने खर्च होते हैं 22 लाख
व्हिसलब्लोअर ने लिखा है कि एक कर्मचारी और शेयरहोल्डर होने के नाते मैं चेयरमैन का ध्यान इस बात पर दिलाना चाहता हूं कि पारेख कंपनी के वैल्यू सिस्टम को नुकसान पहुंचा रहे हैं. शिकायती लेटर में लिखा है, ''उम्मीद है कि आप कंपनी में शेयरहोल्डर्स का भरोसा बरकरार रखते हुए कदम उठाएंगे. दो महीने का वक्त देने के बावजूद पारेख बेंगलुरु शिफ्ट नहीं हुए. हर महीने वो दो बार बेंगलुरु के दफ्तर में आते हैं. उनके एयरफेयर और लोकल ट्रांसपोर्टेशन में कंपनी करीब 22 लाख रुपये खर्च करती है.''
Loading...

व्हिसलब्लोअर ने आरोप लगाया है कि हर महीने 4 बिजनेस क्लास टिकट के अलावा घर से एयरपोर्ट और एयरपोर्ट से बेंगलुरु आने-जाने के खर्च में हर महीने 22 लाख रुपये खर्च होते हैं. हालांकि व्हिसलब्लोअर की शिकायत पर अभी तक इंफोसिस ने कोई जवाब नहीं दिया है.

ये भी पढ़ें:
3000 रुपए की पेंशन स्कीम में क्यों दिलचस्पी नहीं ले रहे ये लोग, 61 दिन में सिर्फ 4802 रजिस्ट्रेशन!
घर बैठे इन 5 डॉक्टूमेंट्स से SBI में खोलें खाता, ये है आसान तरीका
60 हजार में शुरू करें नए जमाने का ये बिजनेस, हर महीने लाखों में कमाने का मौका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 12:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com