तेल कंपनियों की लिए अच्छी खबर, 17 अप्रैल के बाद ईंधन की मांग में तेजी के संकेत

ईंधन की मांग में तेजी के संकेत
ईंधन की मांग में तेजी के संकेत

देशभर में लॉकडाउन की वजह से ईंधन की मांग में अप्रत्याशित गिरावट देखने को मिली है. हालांकि, आर्थिक गतिविधियों के शुरू होने के साथ ही ईंधन की मांग में तेजी देखने को मिलेगी. रिफाइनरजी अब क्रुड की प्रोसे​सिंग शुरू कर चुकी हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश में ​अब ईंधन की मांग में​ रिकवरी देखने को मिल सकती है, क्योंकि सोमवार से इंडस्ट्रियल और ट्रांसपोर्ट का काम शुरू कर दिया गया है. कोरोना वायरस महामारी की वजह से ये सभी काम पूरी तरह से ठप पड़े थे. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने सोमवार को इस बारे में जानकारी दी है. सरकारी कंपनियों द्वारा Gasoil और Gasoline में भी रिकवरी देखने को मिल रही है.

अप्रैल महीने में की दूसरी 15 दिनों में Gasoil और Gasoline की सेल्स में पहले 15 दिन की तुलना में इजाफा देखने को मिला. प्रोविजनल इंडस्ट्री डेटा से इस बारे में जानकारी मिली है.

धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, 'पिछले साल की तुलना में इस साल अप्रैल में पेट्रोल-डीजल और जेट ईंधन के सेल्स में 70 फीसदी की गिरावट आई है.' उन्होंने कहा, '17 अप्रैल से ग्रामीण इलाकों में कुछ एक्टिविटी शुरू हुई हैं. आज से अधिकतर काम शुरू हो गए हैं. इसे मांग में इजाफा होगा.'



यह भी पढ़ें: विदेशी कंपनियों को चीन से भारत लाने के लिए मोदी सरकार ने बनाया मास्टर प्लान!
सेल्स में बड़ी गिरावट
पिछले साल की तुलना में अप्रैल में सरकारी कंपनियों द्वारा Gasoil और Gasoline का सेल्स क्रमश: 61 फीसदी और 57 फीसदी गिर गया था. अप्रैल के पहले पखवाड़े में क्रमश: 64 फीसदी और 61 फीसदी की गिरावट आई थी. बता दें इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन और भारत पेट्रोलियम जैसी सरकारी कंपनियां भारत में 90 फीसदी रिटेल आउटलेट चलाती हैं.

लॉकडाउन की वजह से आई गिरावट
सोमवार को देशभर के कुछ इलाकों में लॉकडाउन नियमों को आसान किया गया ​है. हालांकि, सरकार ने तीसरे चरण के लॉकडाउन के लिए 4 मई से 17 मई तक का समय निर्धारित किया है. पहली बार में 24 मार्च को केंद्र सरकार ने राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया था, जिसे दो बार बढ़ाया जा चुका है.

यह भी पढ़ें: आरोग्य सेतु मित्र के जरिए घर बैठे हो सकेगा इलाज, सरकार आपको देगी ये सुविधा

क्रुड की प्रोसेसिंग शुरू
धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि यह एक अप्रत्याशित स्थिति है जब ईंधन और तेल की मांग में बहुत बड़ी गिरावट आई है. यह लॉकडाउन की वजह से हुआ है. मांग में कमी होने के बाद जिन रिफाइनर्स से कच्चे तेल की प्रोसेसिंग बंद कर दी थी, वो अब इसे धीरे-धीरे शुरू कर रहे हैं.

HPCL चेयरमैन एम के सुराना ने कहा, 'मांग बढ़ने के कुछ संकेत मिल रहे हैं. लॉकडाउन में आगे छूट के बाद यह और भी बढ़ेगा.'

यह भी पढ़ें: इस कंपनी के कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारी का बच्चा नहीं सोएगा भूखे पेट, लिया ये फैसला
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज