Home /News /business /

Reliance Industries ने संभाली Future Group के स्‍टोर्स की कमान तो हजारों कर्मचारियों-वेंडर्स ने ली राहत की सांस

Reliance Industries ने संभाली Future Group के स्‍टोर्स की कमान तो हजारों कर्मचारियों-वेंडर्स ने ली राहत की सांस

रिलायंस और फ्यूचर समूह लंबे समय से कारोबारी समझौते के प्रयास में थे.

रिलायंस और फ्यूचर समूह लंबे समय से कारोबारी समझौते के प्रयास में थे.

रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लिमिटेड (Reliance Industries Ltd.) ने देशभर में स्थित फ्यूचर समूह (Future Group) के रिटेल स्‍टोर की ऑपरेशनल कमान संभाल ली है. इस कदम से फ्यूचर समूह से जुड़े कर्मचारी ही नहीं स्‍टोर के मालिक, वेंडर और सप्‍लायर सभी ने राहत की सांस ली है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. रिलायंस इंडस्‍‍‍‍‍‍‍ट्रीज लिमिटेड (RIL) ने फ्यूचर समूह (Future Group) के रिटेल स्‍टोर्स की कमान संभाली तो हजारों कर्मचारियों और वेंडर्स ने राहत की सांस ली. रिलायंस अब इन स्‍टोर्स की रीब्रांडिंग कर रही है, जिससे वेंडर्स और कर्मचारियों को बेहतर भविष्‍य की उम्‍मीद नजर आनी शुरू हो गई है. रिलायंस ने इन स्‍टोर्स के ऑपरेशनल चार्ज को टेकओवर करना शुरू कर दिया है.

रिलायंस इंडस्‍‍‍‍‍‍‍ट्रीज (Reliance Industries Ltd.) ने इसकी शुरुआत करते ही स्‍टोर्स में पहले से काम करने वाले 30 हजार कर्मचारियों को दोबारा नौकरी का ऑफर दिया था. इन कर्मचारियों का कहना है कि अब उनमें अपने भविष्‍य को लेकर बना हुआ डर खत्‍म हो रहा है. पिछले कई महीने भारी अनिश्चितता में बीते, लेकिन अब समय पर सैलरी भी मिलेगी और नौकरी जाने का खतरा भी नहीं होगा.

ये भी पढ़ें – Inflation : खरीदने हैं तो अभी खरीद लो AC, फ्रीज, और पंखे, जल्‍द ही बढ़ने वाले हैं दाम

स्‍टोर्स के पास नहीं थे किराया देने के पैसे
फ्यूचर समूह के कई स्‍टोर्स लीज पर चल रहे हैं. लगातार घाटे की वजह से उनके पास ना तो वर्किंग कैपिटल बचा था और न ही स्‍टोर का किराया भरने के लिए पैसे थे. रिलायंस के टेकओवर करने के बाद इस तरह की मुश्किलें खत्‍म हो गईं हैं. फ्यूचर समूह के वेंडर्स, सप्‍लायर्स और लैंडलॉर्ड को भी अब समय पर भुगतान की उम्‍मीद है.

बिजनेस की नई अपॉर्च्‍युनिटी खुलेगी
Ambesten Marketing Solutions की मैनेजिंग पार्टनर शम्‍मी ठाकुर का कहना है कि रिलायंस के आने से सभी को फायदा होगा. रिलायंस कॉरपोरेट जगत का बड़ा समूह है और इससे सप्‍लायर्स के साथ वेंडर में भी भरोसा जगेगा. स्‍टोर्स को ज्‍यादा ऑर्डर मिलेंगे तो नई बिजनेस अपॉर्च्‍युनिटी भी आएगी. कर्मचारियों को भी कभी आधी सैलरी मिलती थी तो कभी पेंडिंग हो जाती थी. इससे भी अब छुटकारा मिल जाएगा.

ये भी पढ़ें – Provident Fund निकासी पर कैसे होगी TDS कटौती, कब देना होगा टैक्‍स और कब मिलेगी छूट

7 साल से चल रहा बकाया
शम्‍मी ठाकुर का कहना है कि स्‍टोर्स से जुड़े कई भुगतान 7 साल से पेंडिंग चल रहे हैं. स्‍टोर्स के लैंडलॉर्ड को भी लीज का भुगतान एक साल से नहीं किया गया था. रिलायंस के साथ बातचीत के बाद उनके पुराने बकाये को चुका दिया गया है. अब लैंडलॉर्ड को भी समय पर किराया मिलने का भरोसा है. हैदराबाद स्थित हेरिटेज स्‍टोर के मालिक एनपीवीएस राजू ने कहा कि 7 साल पहले फ्यूचर समूह ने हमारा स्‍टोर लिया था. पिछले कई साल से वह समय पर किराया नहीं दे रहा था. बिजली का बिल जमा नहीं करने पर कनेक्‍शन भी कट गया था. अब रिलायंस के आने से हमारी इन समस्‍याओं पर विराम लगा है.

(डिस्क्लेमर: नेटवर्क 18 मीडिया एंड इनवेस्टमेंट लिमिटेड पर इंडिपेंडेंट मीडिया ट्रस्ट का मालिकाना हक है. इसकी बेनिफिशियरी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज है.)

Tags: Future Group, Reliance industries, Reliance Retail

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर