कम होकर 5.7% रह गई विकास दर, चीन से पिछड़ा भारत

कम होकर 5.7% रह गई विकास दर, चीन से पिछड़ा भारत
वित्त मंत्री अरुण जेटली

ये आंकड़े सेंट्रल स्‍टेटिसटिकस ऑफिस (सीएसओ) ने जारी किए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2017, 10:04 PM IST
  • Share this:
जीडीपी ग्रोथ रेट को ऊपर ले जाने के लिए जी-जान से जुटी सरकार के साथ ही इकोनॉमी के लिए भी बुरी खबर है. वर्तमान वित्‍त वर्ष 2017-18 की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में जीडीपी ग्रोथ कम होकर 5.7 फीसदी रह गई है. ये आंकड़े सेंट्रल स्‍टेटिसटिकस ऑफिस (सीएसओ) ने जारी किए हैं. इससे पिछली तिमाही में भी ग्रोथ रेट कम हुई थी. पिछले वित्‍त वर्ष की इस तिमाही में ग्राेथ रेट 7.9% थी.

पिछली तिमाही में 6.1 फीसदी थी ग्रोथ रेट
इससे पहले वाली तिमाही (जनवरी-मार्च) में नोटबंदी के कारण जीडीपी ग्रोथ रेट कम होकर 6.1 फीसदी रह गई थी. हालांकि, उम्‍मीद की जा रही थी कि नोटबंदी के असर कम होने के बाद अगली तिमाही में यह एक बार फिर रफ्तार पकड़ लेगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

जीएसटी का भी हुआ है नकारात्‍मक असर



माना जा रहा है कि इकोनॉकी की ग्रोथ रेट पर नई कर व्‍यवस्‍था जीएसटी का काफी बुरा असर हुआ है. 1 जुलाई को लॉन्‍च जीएसटी से मार्केट और ट्रेडर्स में अनिश्चितता बढ़ी है. जीएसटी से पहले वाली इन्‍वेट्री क्‍लीयर करने के लिए रिटेलर्स द्वारा माल कम या नहीं खरीदने की वजह से उत्‍पादन पर काफी बुरा असर हुआ है. इससे बिजनेस और इकोनॉमी का मोमेंटम गड़बड़ा गया है.



भारत नहीं रहा सबसे तेज ग्रोथ कर रही इकोनॉमी
जीडीपी ग्रोथ कम होने से भारत अब दुनिया की सबसे तेज ग्रोथ कर रही इकोनॉमी नहीं रह गया है. पिछले साल चीन की ग्रोथ रेट 6.9 फीसदी रही. चीन ने अप्रैल-जून तिमाही में भी इस ग्रोथ रेट को बनाए रखा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading