कोरोना काल में ज्वेलरी इंडस्ट्री के लिए अच्छी खबर, जुलाई की तुलना में 29.18 फीसदी बढ़ा निर्यात

कोरोना काल में ज्वेलरी इंडस्ट्री के लिए अच्छी खबर, जुलाई की तुलना में 29.18 फीसदी बढ़ा निर्यात
अगस्त में रत्न एवं आभूषण के निर्याता में 29.18 फीसदी का इजाफा हुआ है.

अगस्त महीने में ज्वेलरी इंडस्ट्री के लिए एक अच्छी खबर आई है. जुलाई की तुलना में अगस्त में रत्न एवं आभूषणों का निर्यात 29.18 फीसदी बढ़कर 13,160.24 करोड़ रुपये हो गया है. हालांकि, इस साल कुल निर्यात 30 फीसदी तक घटने का भी अनुमान है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 12, 2020, 10:46 PM IST
  • Share this:
मुंबई. देश से रत्न एवं आभूषणों का निर्यात अगस्त महीने में जुलाई की तुलना में 29.18 फीसदी बढ़कर 13,160.24 करोड़ रुपये (176.40 करोड़ डॉलर) पर पहुंच गया. रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्द्धन परिषद (जीजेईपीसी) ने शनिवार को यह जानकारी दी. अमेरिका, चीन, यूरोप और अन्य देशों की मांग में सुधार से रत्न एवं आभूषणों के निर्यात में सुधार हुआ है.

जुलाई में रत्न एवं आभूषणों का निर्यात 10,187.04 करोड़ रुपये या 135.85 करोड़ डॉलर का रहा था. हालांकि, सालाना आधार पर रत्न एवं आभूषणों का निर्यात 38.84 प्रतिशत घटा है. अगस्त, 2019 में रत्न एवं आभूषण निर्यात 21,518.73 करोड़ रुपये या 301.83 करोड़ डॉलर रहा था.

यह भी पढ़ें: सस्ता हो सकता है इंश्योरेंस प्रीमियम, जीएसटी दरें घटाने की मांग कर रही इरडा



पॉलिश किए हीरों का निर्यात घटा
अगस्त में कट और पॉलिश किए हीरों का निर्यात 22.16 फीसदी घटकर 9,077.33 करोड़ रुपये (121.67 करोड़ डॉलर) रह गया. एक साल पहले समान महीने में यह 11,661.03 करोड़ रुपये (163.8 करोड़ डॉलर) का रहा था. सोने के आभूषणों का निर्यात अगस्त में 66.25 फीसदी घटकर 2,335.22 करोड़ रुपये या 31.30 करोड़ डॉलर रहा. एक साल पहले समान महीने में यह 6,919.28 करोड़ रुपये या 96.74 करोड़ डॉलर रहा था.

अप्रैल से अगस्त की अवधि के दौरान रत्न एवं आभूषणों का निर्यात 43.59 फीसदी घटकर 45,189.76 करोड़ रुपये (600.85 करोड़ डॉलर) रह गया. एक साल पहले समान अवधि में यह आंकड़ा 80,116.65 करोड़ रुपये (1,147.81 करोड़ डॉलर) रहा था.

यह भी पढ़ें:   फ्लाइट में बैठने से पहले एयरपोर्ट पर होगा कोविड-19 टेस्ट, देने होंगे इतने रुपये

इस साल 30 फीसदी तक निर्यात घटने का अनुमान
बता दें कि देश का रत्न और आभूषण निर्यात (Gems and Jwellery Export) चालू वित्त वर्ष में 25-30 फीसदी घटने का अनुमान है. इसकी वजह कोविड-19 संकट के कारण लागू लॉकडाउन की वजह से पहली तिमाही में कारोबार नहीं होना है. रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद (GJEPC) ने इसी महीने यह अनुमान लगाया है. जीजेईपीसी के अध्यक्ष कोलिन शाह ने कहा, ‘‘महामारी फैलने पर अंकुश लगाने के लिए भारत के साथ-साथ आयातक देशों में पूर्ण लॉकडाउन के कारण चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) के दौरान कारोबार पूरी तरह बंद रहा.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज