घर बैठे यहां से लीजिए लोन, मिनटों में बन जाएगा आपका काम

घर बैठे भी असानी से मिल सकता है लोन

देश में तेजी से डिजिटल पेमेंट (Digital Payment) बढ़ रहा है. इसी के साथ नए-नए स्टार्टअप्स ऑनलाइन लेंडिंग (Online Lending) पर फोकस कर रहे हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. आमतौर पर लोन की जब बात आती है तो हर किसी के मन में सबसे पहले यही ध्यान आता है कि उन्हें कई दिनों तक बैंक का चक्कर काटना पड़ेगा. लेकिन, आज के डिजिटल इंडिया (Digital India) के दौर में यह भी बेहद आसान हो गया है. हालांकि, इसके तहत बेहद ही कम समय में यह लोन मिल तो जाता है, लेकिन इसके लिए भी आपको कुछ शर्तों का पालना करना पड़ता है.

    सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 के दौरान देशभर में कुल 64,787 मिलियन डॉलर का डिजिटल ट्रांजैक्शन (Digital Transaction in India) हुआ है. साल 2023 तक यह करीब 20.1 फीसदी बढ़कर 1,34,588 मिलियन डॉलर के करीब पहुंच जाएगा. देशभर में डिजिटल ट्रांजैक्शन के इस दौर में कई ऐसे स्टार्टअप आ गए हैं जो एक खास बात पर फोकस कर रहे हैं. ये स्टार्टअप्स 'अभी खरीदें और बाद में भुगतान करें' के आइडिया पर फोकस हैं.

    यह भी पढ़ें: रेल यात्रियों को बड़ा तोहफा! अब एक नंबर पर मिलेंगी सभी जानकारी और सुविधाएं

    यही कारण है कि डिजिटल स्पेस में लोन लेने की प्रक्रिया को आसाना बनाया जा रहा है ताकि अधिक से अधिक युवा इस सुविधा का लाभ ले सकें. नए स्टार्टअप्स भी इन युवाओं को ध्यान में रखते हुए अपनी सर्विसेज को डिजाइन कर रहे हैं. अब बाजार में कई ऐसे स्टार्टअप्स जो ​बिना किसी झंझट के आसानी से लोन मुहैया करा देते हैं. आइए जानते हैं इनके बारे में...

    एमपॉकेट (mPokket)
    यह डिजिटल लेंडिंग प्लेटफॉर्म आधारित मोबाइल ऐप है जो 18 साल से अधिक उम्र के अंडरग्रैजुएट और पोस्ट ग्रैजुएट युवाओं को लोन मुहैया कराता है. लोन के लिए यूजर्स को बस अपना KYC डॉक्युमेंट और स्टूडेंट ID कार्ड अपलोड करना होता है. इसके बाद उन्हें आसानी से 500 रुपये से लेकर 20 हजार रुपये तक का लोन मिल जाता है. इसके लिए उन्हें 3 महीने तक की रिपेमेंट (Loan Repayment) अवधि चुननी होगी. इस ऐप की एक खास बात यह भी है कि यदि इसे आप किसी अन्य को रेफर करते हैं तो आपको कैशबैक मिलने के भी मौके होते हैं.

    यह भी पढ़ें: गन्ना किसानों के लिए बड़ी खबर! मोदी सरकार ने चीनी मिलों को दिया बड़ा तोहफा

     

    शुभ लोन्स (Shubh Loans)
    यह ऐप देशभर के उन लोगों पर फोकस करता है, जिनके पास अभी तक खुद का क्रेडिट कार्ड (Credit Card) नहीं है. शुभ लोन्स एक ऐसा प्लेटफॉर्म तैयार कर रहा है, जहां क्रेडिट एसेसमेंट, लेंडिंग और रिस्क मैनेजमेंट की सुविधा मिल सके. हाल में इस स्टार्टअप को 34 करोड़ रुपये की फंडिंग मिली है. आरबीआई ने भी इसे अब एनबीएफसी लाइसेंस दिया है.

    अर्लीसैलरी (EarlySalary)
    EarlySalary एक ऑनलाइन लेंडिंग प्लेटफॉर्म (Online Lending Platform) है, जहां 8 हजार रुपये से लेकर 2 लाख रुपये तक का लोन उपलब्ध होता है. इसमें लो कॉस्ट शॉपिंग EMI और ट्रैवल EMI भी शामिल है. आप 90 ​​दिन से लेकर 365 दिन के रिपेमेंट अवधि चुनने के बाद आसानी से लोन प्राप्त कर सकते हैं. लोन की रकम आपके अकाउंट में भेज दी जाएगी.

    क्रेजीबी (KrazyBee)
    IIM और NIT के छात्रों द्वारा शुरू किया गया यह ऐप छात्रों के लिए देश का पहला ऑनलाइन इंस्टॉलमेंट स्टोर (Online Intallment Store) है. यह ऐप छात्रों को EMI की सुविधा के साथ-साथ ऑनलाइन स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड भी उपलब्ध कराता है. इस क्रेडिट कार्ड का नाम 'KrazyBee Student PayCard' है. इसे जवाइन करने का प्रोसेस बेहद आसान है. इसके लिए आपको अपना डॉक्युमेंट अपलोड करना है और ऑर्डर प्लेस करना है. बस क्विक वन टाइम कैम्पस वेरिफिकेशन के बाद आप आासानी से लोन प्राप्त कर सकते हैं.

    यह भी पढ़ें: भारत के वॉरेन बफे ने अब इस कंपनी में लगाया पैसा, आपके पास भी है कमाने का मौका

    स्लाइसपे (SlicePay)
    भारत के युवाओं को ध्यान में रखते हुए बनाया गया यह एक फिनटेक स्टार्टअप (Fintech Startup) है. युवाओं का फाइनेंशियल एक्सपीरिएंस (Financial Experience) बेहतर बनाने के लिए इसे खासतौर पर आसान है. यूजर्स को जीरो फी क्रेडिट (Zero Fee Credit) कार्ड उपलब्ध कराया जाता है जिसमें नो-कॉस्ट EMI और इमरजेंसी कैश लोन की सुविधा​ मिलती है.

    हालांकि, आसानी से लोन पाने के लिए ये सारे विकल्प मौजूद हैं. लेकिन, ऐसे लोन लेने से पहले आपको रिपेमेंट अवधि, ब्याज दर और पेनाल्टी संबंधित जानकारियों को एक बार चेक कर लेना चाहिए.

    यह भी पढ़ें: अमेरिका-ईरान की 'जंग' से भारत को लग सकता है झटका! आम आदमी पर भी होगा असर

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.