लाइव टीवी

1 अप्रैल से भारत में मिलेगा दुनिया का सबसे साफ पेट्रोल-डीजल, ज्यादा कीमत चुकाने के लिए रहें तैयार

News18Hindi
Updated: February 29, 2020, 7:21 PM IST
1 अप्रैल से भारत में मिलेगा दुनिया का सबसे साफ पेट्रोल-डीजल, ज्यादा कीमत चुकाने के लिए रहें तैयार
1 अप्रैल से मिलने लगेगा BS-VI ईंधन

शुक्रवार को इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOCL) ने कहा कि वो 1 अप्रैल 2020 से BS-VI ईंधन की सप्लाई करने के लिए तैयार हो चुकी है. BS-VI ईंधन में सल्फर कंटेंट 50 PPM घटकर 10 PPM हो जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 29, 2020, 7:21 PM IST
  • Share this:
मुंबई: देश की सबसे बड़ी ऑयल मार्केटिंग कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (Indian Oil Corporation Limited) ने शुक्रवार को कहा कि अब वो BS-VI ईंधन सप्लाई के लिए पूरी तरह से तैयार हो चुकी है. आगामी 1 अप्रैल 2020 से देशभर में BS-VI ईंधन का इस्तेमाल लागू हो जाएगा. IOCL ने बताया कि इसके साथ ही ग्राहकों को BS-VI ईंधन के लिए थोड़ा अधिक रिटेल प्राइस चुकाना होगा.

IOCL ने खर्च किए 17 हजार करोड़ रुपये
देश की सबसे बड़ी इस ऑयल सप्लायर कंपनी ने अपनी रिफाइनरी को अपग्रेड करने के लिए 17,000 करोड़ रुपये खर्च किया है ताकि बेहद कम मात्रा में सल्फर उत्सर्जित करने वाला डीजल व पेट्रोल तैयार किया जा सके. इस बारे में कंपनी के चेयरमैन संजीव सिंह ने शुक्रवार को जानकारी दी.

यह भी पढ़ें: Coronavirus का कोहराम, सेंसेक्स 1448 अंक टूटा, निवेशकों के डूबे ₹5.4 लाख करोड़



ग्राहकों पर नहीं डालेंगे ज्यादा बोझ
हालांकि, उन्होंने अभी तक यह साफ नहीं किया कि BS-VI ईंधन की क्या कीमत होगी. उन्होंने कहा, '1 अप्रैल से ईंधन की रिटेल कीमतों में मामूली बढ़ोतरी होगी. वर्तमान में ईंधन में सल्फर कंटेंट 50 पार्ट्स प्रति मिलियन होता है, जोकि अब BS-VI ईंधन में यह कम होकर 10 PPM हो जाएगा.' उन्होंने यह भी कहा कि हम सुनिश्चित करना चाहते हैं कि ईंधन की कीमतों में बड़ा ईजाफा कर ग्राहकों पर बोझ नहीं डालना चाहते.

BPCL ने रिफाइनरी अपग्रेड पर खर्च किया 7 हजार करोड़ रुपये
उन्होंने कहा कि सरकारी तेल विपणन कंपनियों ने रिफाइनरीज को अपग्रेड करने के लिए 35 हजार करोड़ रुपये खर्च किया है. इसमें 17 हजार करोड़ रुपये अकेले IOCL ने ही किया है. कुछ दिन पहले ही भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL) ने कहा था कि उसने भी रिफाइनरीज अपग्रेड करने के ​लिए 7 हजार करोड़ रुपये खर्च किया है. हालांकि, HPCL ने अभी तक इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी है.

यह भी पढ़ें: नौकरी करने वालों को लग सकता है झटका! PF पर घट सकता है इतना ब्याज

रिमोट लोकेशन पर नया ईंधन पहुंचाने में हो सकती है देरी
हालांकि, IOCL के चेयरमैन ने कहा कि कुछ रिमोट लोकेशन में, जहां खपत बेहद कम है, वहां नया ईंधन पहुंचाने में थोड़ा समय लगेगा. कंपनी यह भी प्लान कर रही है कि वह BS-IV ईंधन के स्टॉक को पूरी तरह से खत्म करने के बाद नये ईंधन को का इस्तेमाल करे.

कीमतों में इतने बढ़ोतरी का अनुमान
पहले कयास लगाए जा रहे थे कि नई ईंधन प्रणाली लागू हो जाने के बाद पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 70 से 120 पैसे प्रति लीटर तक का इजाफा हो सकता है. लेकिन सिंह ने इसपर कहा कि रिफाइनरीज की जटिलता को ध्यान में रखते हुए ऐसे किसी आंकड़े पर पहुंचना संभव नहीं है. उन्होंने साफ किया कि ग्राहकों पर इसका ज्यादा बोझ नहीं डाला जाएगा.

यह भी पढ़ें: इस डर से देश में 70 फीसदी सस्ता हुआ चिकन, बिक्री हुई आधी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 29, 2020, 7:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर