लाइव टीवी

खुशखबरी! बस ये एक काम कीजिए और 1% तक सस्ता मिलेगा लोन

News18Hindi
Updated: October 10, 2019, 8:46 PM IST
खुशखबरी! बस ये एक काम कीजिए और 1% तक सस्ता मिलेगा लोन
क्रेडिट स्कोर के हिसाब से तय होगा लोन का ब्याज दर

एक्सटर्नल बेंचमार्क (External Benchmark) के बाद पब्लिक सेक्टर (Public Sector Banks) के तीन बड़े बैंक भी अब सिबिल (CIBIL) द्वारा उपलब्ध कराए गए क्रेडिट स्कोर (Credit Score) के आधार पर ही लोन देंगे. लोन पर ब्याज दर ​क्रेडिट स्कोर स्लैब के आधार पर ही तय होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 10, 2019, 8:46 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और सिंडिकेट बैंक ने अपने ग्राहकों को क्रेडिट स्कोर (Credit Score) के आधार पर लोन देना शुरू कर दिया है. इन तीनो बैंकों ने क्रेडिट इन्फॉर्मेशन ब्यूरो ऑफ इंडिया (CIBIL) से मिले क्रेडिट स्कोर स्लैब (Credit Score Slab) के आधार पर लोन देना शुरू कर दिया है.

कैसे होगा 1 फीसदी तक का फायदा
नए एक्सटर्नल बेंचमार्किंग व्यवस्था के तहत, अब बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank of Baroda) नया लोन जारी करने के लिए सिबिल स्कोर (CIBIL Score) की मदद लेगा. इकोनॉमिक टाइम्स ​ की एक रिपोर्ट के मुताबिक अगर किसी ग्राहक का कुल क्रे​डिट स्कोर 900 में से 760 व इससे अधिक है तो उन्हें 8.1 फीसदी की ब्याज दर से लोन मिलेगा. 725 से 759 के बीच क्रेडिट स्कोर रहने पर लोन के लिए ब्याज दर 8.35 फीसदी तय की गई है. वहीं, 675 से 724 के बीच क्रेडिट स्कोर रहने पर 9.1 फीसदी का ब्याज देना होगा. इस प्रकार देखें तो न्यूनतम और अधिकतम ब्याज दरों में 1 फीसदी का अंतर होगा. ऐसे में यदि किसी ग्राहक का क्रेडि​ट स्कोर बेहतर है तो वे 1 फीसदी कम दर पर लोन ले सकता है.

ये भी पढ़ें: एशिया की सबसे बड़ी हेलमेट कंपनी यहां निवेश करेगी ₹150 करोड़, 2000 लोगों को मिलेगी नौकरी

क्रेडिट स्कोर के हिसाब से तय होगा लोन का ब्याज दर


बैंक ऑफ बड़ौदा का लोन फ्लोटिंग रेट एक्सटर्नल बेंचमार्क से लिंक है. ऐसे में इस बैंक से लोन पर ब्याज दर लोन की रकम और अवधि के आधार पर नहीं तय होगी. ये तीनों बैंक सिबिल द्वारा उपलब्ध कराये गये क्रेडिट स्कोर के आधार पर ही लोन देंगे.

बेहद जरूरी हो जाएगा क्रेडिट स्कोर को मेंटेन करना
Loading...

बताते चलें कि भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने सभी बैंकों को इस बात की अनुमति दे दी है कि एक्सटर्नल बेंचमार्क के आधार पर ब्याज दर तय करने के लिए क्रेडिट रिस्क प्रीमियम चार्ज करें. RBI के इस अनुमति के बाद अब लोन के लिए क्रेडिट स्कोर की जरूरत और बढ़ गई है. 1 अक्टूबर से ही बैंकों ने नए फ्लोटिंग रेट पर रिटेल लोन तय करने के लिए एक्सटर्नल बेंचमार्क अपना लिया है. लोन की पूरी अवधि के दौरान क्रेडिट स्कोर का महत्व उतना ही होगा, जितना की लोन के अप्रुवल के वक्त होगा.

ऐसे होगा फायदा
उदाहरण के तौर पर देखें तो 9.1 फीसदी की दर से 50 लाख रुपये के लोन पर अगर ब्याज में 100 आधार अंक कम होता है तो इसपर 3,380 रुपये प्रतिमाह की ईएमआई कम हो सकती है. 25 साल की अवधि वाले लोन पर करीब 10 लाख रुपये की बचत हो सकती है.

ये भी पढ़ें: रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर शिविंदर सिंह और CMD ​सुनील गोधवानी समेत दो ​अन्य गिरफ्तार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 10, 2019, 8:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...