Home /News /business /

क्रेडिट कार्ड बनवाना नहीं रहेगा आसान! बैंक सख्‍त कर रहे हैं नियम, देखा जाएगा क्रेडिट स्‍कोर भी

क्रेडिट कार्ड बनवाना नहीं रहेगा आसान! बैंक सख्‍त कर रहे हैं नियम, देखा जाएगा क्रेडिट स्‍कोर भी

इतने से कम हुआ क्रेडिट स्काेर ताे नहीं बनेगा कार्ड

इतने से कम हुआ क्रेडिट स्काेर ताे नहीं बनेगा कार्ड

अब तक जहां 700 क्रेडिट स्काेर (Credit Score) हाेने पर भी बैंक क्रेडिट कार्ड (Credit Card) जारी कर देते थे, वहीं अब यह स्काेर 780 हो जाएगा. काेविड महामारी के बाद बैंक अपने असुरक्षित कर्ज काे कम करने काे लेकर अपनाए जाने वाले ताैर-तरीकाें पर विचार कर रहे हैं, जिसके तहत यह फैसला लिया गया है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. अब तक भले ही आपके पास कई बैंकाें के फाेन आते हाेंगे कि सर हमारा बैंक (Bank) आपकाे फ्री में क्रेडिट कार्ड (Credit card) ऑफर कर रहा है और कुछ दिनाें में आपका कार्ड बन जाएगा. इस तरह के कॉल शायद भविष्य में ना आए. ऐसा इसलिए क्याेंकि भविष्य में क्रेडिट कार्ड बनवाना आसान नहीं रहेगा. बैंक इसे लेकर अपने नियम सख्त कर रहे हैं. अब कार्ड बनवाने से पहले क्रेडिट स्काेर भी देखा जाएगा. यदि सिबिल स्‍कोर खराब है ताे फिर भूल ही जाइए कि बैंक आपका क्रेडिट कार्ड बनाएगा.


    इतने से कम हुआ क्रेडिट स्काेर ताे नहीं बनेगा कार्ड
    बैंकाें ने तय किया है कि अब वे क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए क्रेडिट स्काेर की रेटिंग बढ़ाएंगे. अब तक 700 क्रेडिट स्काेर हाेने पर भी बैंक क्रेडिट कार्ड जारी कर देते थे. वहीं, अब यह स्काेर 780 होने पर ही आपको क्रेडिट कार्ड की सु‍विधा मिल पाएगी. दरअसल, पाेस्ट काेविड बैंक अपने असुरक्षित कर्ज काे कम करने काे लेकर अपनाए जाने वाले ताैर-तरीकाें पर विचार कर रहे हैं. इसी के तहत यह फैसला लिया गया है. एक निजी बैंकर के अनुसारक्रेडिट कार्ड जारी करने के नियमाें काे कड़ा किया गया है ताकि उन्हें ही ये सुविधा दी जा सके जिनका क्रेडिट स्काेर अच्छा हाे. मतलब साफ है कि इससे क्रेडिट कार्ड का पेमेंट समय पर हाेगा, क्याेंकि अच्छे स्काेर का मतलब ही यही हाेता है कि सारे पेमेंट ऑन टाइम किए जा रहे है. 


    ये भी पढ़े - Bank Strike: SBI समेत देश के इन सरकारी बैंक में 16 मार्च तक रहेगी हड़ताल, जानें क्यों...


    बैंक खुद बढ़ा रहे हैं क्रेडिट स्‍कोर
    पिछले साल मार्च और दिसंबर के बीच क्रेडिट कार्ड का बकाया पूल 4.6 प्रतिशत बढ़ गया. वर्ष 2019 की समान अवधि में यह 17.5 प्रतिशत था. मार्च और अगस्त 2020 के दाैरान जब लाेन पेमेंट में छह महीने माेरेटाेरियम  दिया गया था, उस वक्त क्रेडिट कार्ड की आउटस्टेडिंग भी 0.14 प्रतिशत बढ़ी थी. बैंक बाजार.कॉम के चीफ बिजनेस डेवलपमेंट ऑफिसर पंकज बंसल कहते हैं कि पिछले साल तक आपके जिस क्रेडिट कार्ड के स्काेर काे देखते हुए बैंक आपका क्रेडिट कार्ड बनाने काे लेकर तैयार रहते थे. वहीं, इस साल अब ऐसा नहीं हाेगा. कुछ बैंक अपने अपने तरह से इस स्काेर काे बढ़ा रहे हैं.



    काेविड-19 (Covid-19) के चलते एसबीआई क्रेडिट कार्ड का बैड लाेन 4.29 प्रतिशत तक पहुंच गया था. हालांकि, दिसंबर 2020 आते-आते इसे 1.61 फीसदी पर लाने में बैंक सफल रहे. जानकार बताते हैं कि बैंक सिर्फ उच्च क्रेडिट स्काेर की मांग ही नहीं कर रहे बल्कि कुछ विशेष क्षेत्राें में जैसे एयरलाइन्स व अन्य सेक्टर्स  प्राेफेशनल्स काे जारी किए जाने वाले विशेष कार्ड जारी करने से भी बच रहे हैं. ऐसा इसलिए क्याेंकि काेविड के बाद से इन सेक्टर्स में सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ा था. वहीं, पेंडेमिक के दाैरान भी जिन लाेगाें ने बिना काेई देर किए बराबर लाेन व क्रेडिट कार्ड के पेमेंट समय पर किए ताे उनकी क्रेडिट लिमिट भी बढ़ाई जा रही है. इसके साथ ही नियमित रूप से लाेन चुकाने वालाें काे बैंक क्रेडिट कार्ड के खिलाफ लाेन भी दे रहे हैं.

    Tags: Banking, Banking services, Business news in hindi, Credit card

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर