अपना शहर चुनें

States

Corona की दवा रेमडेसिवीर के 5 दिन के कोर्स की कीमत 1.75 लाख रुपये, कंपनी ने कहा- सस्ती तो है

कोविड-19 के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा रेमडेसिवीर
कोविड-19 के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा रेमडेसिवीर

कोविड-19 के इलाज के लिए मई में अमेरिकी ड्रग रेग्युलेटर से रेमडेसिवीर (Remdesivir) दवा को मंजूरी मिलने के बाद अब गिलीड साइंसेज ने इसकी कीमत तय कर दी है. कंपनी ने कहा कि हम सभी विकसित देशों तक इसकी पर्याप्त सप्लाई करना चाहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 29, 2020, 11:33 PM IST
  • Share this:
न्यूयॉर्क. गिलीड साइंसेज (Gilead Sciences Inc) ने कहा है कि वो अमेरिकी सरकार और अन्य विकसित देशों से कोरोना वायरस ड्रग रेमडेसिवीर की एक शीशी के लिए 390 डॉलर (Cost of Remdesivir per Vial) चार्ज करेगी. इस हिसाब से इलाज के लिए 5 दिन के पूरे कोर्स की कुल कीमत 2,340 डॉलर (करीब 1,75,500 रुपये) होगी. गिलीड ने इस बारे में सोमवार को एक बयान जारी कर जानकारी दी. कंपनी ने कहा कि वो विकसित देशों के लिए वन प्राइस मॉडल को अपना रही ताकि प्रत्येक देश के लिए मोलभाव न करना पड़े.

गिलीड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेनियल ओ'डे (Daniel O'Day) ने एक इंटरव्यू में कहा, 'हम चाहते हैं कि मरीजों तक इस दवा के पहुंचने में कोई बाधा न आए. इस दाम से सुनिश्चित हो सकेगा कि दुनियाभर में सभी देशों के मरीजों तक दवा पहुंच सके'

390 डॉलर प्रति शीशी का दाम सभी सरकारी ईकाईयों के लिए होगा. जब एक बार सप्लाई पर दबाव कम होगा तब इस दवा की बिक्री सामान्य डिस्ट्रीब्युशन चैनल के जरिए की जाएगी. अन्य प्राइवेट इंश्योरेंस कंपनियों व कॉमर्शियल प्लेयर्स के लिए यह भाव 520 डॉलर प्रति शीशी यानी 5 दिन के पूरे कोर्स के लिए 3,120 डॉलर होगा.



यह भी पढ़ें: 1 जुलाई से बदल रहा है ये नियम! घर बैठे सिर्फ Aadhaar के जरिए शुरू होगी कंपनी
तेज रिकवरी करने में मदद करता है रेमडेसिवीर
बता दें कि कोविड-19 के इलाज के लिए रेमडेसिवीर का इस्तेमाल शुरू हो गया है. बड़े स्तर पर ट्रायल के बाद नतीजों से पता चला कि रेमडेसिवीर के इस्तेमाल से मरीजों की रिकवरी तेजी से रही है. इन्हीं नतीजों के आधार पर अमेरिकी ड्रग रेग्युलेटर (US Drug Regulator) ने रेमडेसिवीर के इस्तेमाल के लिए मई में मंजूरी दी थी. इसके अलावा, वैश्विक स्तर पर सैकड़ों संस्थान कोरोना वायरस के इलाज व वैक्सीन के बारे में पता लगाने में जुटे हुए हैं. इनमें से अधिकतर ट्रायल स्टेज में है. बता दें कि अब तक दुनियाभर में 1 करोड़ से भी अधिक लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं और करीब 5 लाख लोगों की मौत हो चुकी है.

क्यों महत्वूपर्ण है इस दवा का दाम तय होना?
गिलीड ने कहा था कि जून के महीने में वो रेमडेसिवीर का डोनेशन करेगी लेकिन इस बीच सबसे बड़ा सवाल यह उठ रहा था कि इसके बाद कंपनी दवा का क्या दाम तय करेगी. गिलीड साइंसेज द्वारा इस दवा के तय दाम पर इसलिए भी सभी की नजर है, क्योंकि भविष्य में लॉन्च होने वाली कोविड-19 की अन्य दवाईयों के दाम भी इसी आधार पर तय किये जाएंगे.

कंपनी ने कहा कि इस दवा की वैल्यू की आधार पर वह अधिक चार्ज कर सकती थी. लेकिन, कंपनी ने इसकी कीमत कम दर पर इसलिए रखी ताकि अन्य सभी विकसित देश इसे खरीद सकें.

यह भी पढ़ें: दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी दे रही है 20 हजार नौकरियां, 12वीं पास के लिए मौका

कुछ अनुमान में दावा किया गया है कि एक ट्रीटमेंट कोर्स के लिए रेमडेसिवीर का खर्च करीब 4,500 डॉलर तक हो सकता है. वहीं, कुछ अन्य अनुमान में कहा गया है कि कंपनी को 1 डॉलर प्रति दिन का चार्ज ही वसूलना चाहिए. 1 डॉलर प्रति दिन के चार्ज को लेकर तर्क दिया गया है कि इसे जेनेरिक ड्रगमेकर बड़े स्तर पर मैन्युफैक्चर कर सकते हैं. हालांकि, ओ'डे ने इंटरव्यू में कहा कि यह तर्कशील कीमत नहीं है.

उन्होंने कहा कि एक मरीज के 5 दिन के कोर्स में रेमडेसिवीर की 6 शीशी का इस्तेमाल किया जाता है. कुछ मामलों में यह 10 दिन या 11 शीशी का भी इस्तेमाल करना होता है. इसकी कुल कीमत 4,290 डॉलर हो जाती है.

यह भी पढ़ें: 5 महीने से नहीं बिक पा रही Air India! जानिए क्यों सरकार बढ़ा रही है डेडलाइन?

2.5 लाख  ट्रीटमेंट कोर्स का डोनेशन
अब तक गिलीड ने करीब 2.5 लाख ट्रीटमेंड कोर्स के लिए रेमडेसिवीर का डोनेशन किया है. कंपनी अपनी सप्लाई बढ़ाने पर लगातार काम कर रही है. इस साल के अंत तक कंपनी करीब 20 लाख ट्रीटमेंट कोर्स तैयारी कर लेगी.

ओ'डे ने कहा कि इस दवा की कीमत तय करना एक संतुलन का काम था. एक तरफ, मौजूदा महामारी लगातार तेजी से बढ़ रही है और इसका कोई इलाज नहीं है. वहीं, दूसरी तरफ हमारी कंपनी प्रॉफिट कमाने वाली संस्था है, जिसने बड़े स्तर मैन्युफैक्चरिंग के लिए भारी-भरकम इन्वेस्टमेंट किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज