होम /न्यूज /व्यवसाय /

केवाईसी वाले प्रीपेड इंस्ट्रूमेंट्स को बैंक अकाउंट के समान दर्जा दें, पीसीआई ने आरबीआई को लिखा पत्र

केवाईसी वाले प्रीपेड इंस्ट्रूमेंट्स को बैंक अकाउंट के समान दर्जा दें, पीसीआई ने आरबीआई को लिखा पत्र

पीसीआई ने आरबीआई से आवेदन किया है कि पीपीआई को बैंक अकाउंट की तरह देखा जाए.

पीसीआई ने आरबीआई से आवेदन किया है कि पीपीआई को बैंक अकाउंट की तरह देखा जाए.

पीसीआई ने आरबीआई को पत्र लिखकर आवेदन किया है कि वह उन प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट्स को बैंक अकाउंट के समान दर्जा दे जिनका केवाईसी पूरा है. पीपीआई एक वित्तीय उपकरण है, जिसमें पहले से पैसे डाल कर रखे जा सकते हैं.

नई दिल्ली. देश में पेमेंट और सेटलमेंट से जुड़े शीर्ष संस्थान पेमेंट काउंसिल ऑफ इंडिया (पीसीआई) ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई)) से आवेदन किया है कि वह उन प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट्स (पीपीआई) को बैंक अकाउंट के समान ही दर्जा दें जिनका केवाईसी पूरा है.

मनीकंट्रोल  को पीसीआई द्वारा आरबीआई को भेजा गया यह पत्र प्राप्त हुआ है. इस पत्र में पीसीआई नेकाका एक और मांग यह रखी है कि केवाईसी वाले पीपीआई को किसी अन्य वॉलेट या प्रीपेड कार्ड की तरह नॉन रिवॉल्विंग क्रेडिट लाइन की अनुमति मिले. इसके अलावा रीपेमेंट के साथ कोई मिनिमम ड्यू नहीं होना चाहिए और ग्राहक को एक सटीक रीपेमेंट शेड्यूल मिलना चाहिए.

ये भी पढ़ें- SBI ने जारी किए 2 टोल फ्री नंबर, रविवार को भी एक कॉल पर पूरे होंगे कई काम

क्या है प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट्स
पीपीआई एक वित्तीय उपकरण है, जिसमें पहले से पैसे डाल कर रखे जा सकते हैं. इस पैसे से वस्तु और सेवाएं खरीदी जा सकती है या किसी को पैसे भेजे भी जा सकते हैं. देश में फिलहाल तीन प्रकार के पीपीआई काम कर रहे हैं. सेमी क्लोज्ड सिस्टम पीपीआई, क्लोज्ड सिस्टम पीपीआई और ओपन सिस्टम पीपीआई. पीपीआई को कार्ड और मोबाइल वॉलेट के रूप में जारी किया जा सकता है. अभी देश में काम कर रहे कुछ प्रमुख पीपीआई में मोबिक्विक (सेमी क्लोज्ड सिस्टम पीपीआई), गिफ्ट कार्ड (क्लोज्ड सिस्टम पीपीआई), ट्रैवल, डेबिट या क्रेडिट कार्ड (ओपन सिस्टम पीपीआई) आदि शामिल हैं.

पीपीई वित्तीय समावेश में भागीदार
पत्र में कहा गया है कि आज ऐसे कई उदाहरण हैं जहां पीपीआई ने लोगों की क्रय क्षमता बढ़ाई है और वित्तीय समावेश में योगदान दिया है. इसके साथ ही इसने ग्राहकों के लिए कर्ज की कीमत को भी घटा दिया है.

ये भी पढ़ें- REIT और InvIT में यूपीआई के जरिए कर सकेंगे निवेश, सेबी ने दी मंजूरी

क्या है हालिया मामला
दरअसल, आरबीआई ने हाल ही में फिनटेक्स से कहा था कि वॉलेट और प्रीपेड कार्ड जैसे पीपीआई में क्रेडिट लाइन देने की अनुमति नहीं है. इससे स्लाइस, यूनी, पेयू, लेजी पे जैसे कई पीपीआई प्लेयर्स के बिजनेस मॉडल पर तलवार लटक गई है. पीसीआई ने अपने पत्र में कहा है कि फिलहाल करीब 1 करोड़ सक्रिय पीपीआई हैं जो क्रेडिट से जुड़े हुए हैं. इनमें करीब 3500 करोड़ रुपये की पेमेंट प्रोसेस हो चुकी है. पीसीसीआई ने बताया कि कुल सक्रिय प्रीपेड कार्ड में से 91 लाख आरबीआएल बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एसबीएम बैंक, फीनो पेमेंट बैंक, ट्रांसकॉर्प, ओला मनी और लिवक्विक के हैं.

Tags: PCI, Prepaid wallets, RBI

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर